होम /न्यूज /व्यवसाय /कोरोना और फिर लॉकडाउन के बावजूद 2020-21 में 4.2 फीसदी रही भारत की बेरोजगारी दर

कोरोना और फिर लॉकडाउन के बावजूद 2020-21 में 4.2 फीसदी रही भारत की बेरोजगारी दर

बेरोजगारी दर में गिरावट आई, लेकिन लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट में वृद्धि हुई.

बेरोजगारी दर में गिरावट आई, लेकिन लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट में वृद्धि हुई.

सरकार द्वारा जारी किए गए ताजा आंकड़ों के हिसाब से देश की जॉब मार्केट पर कोरोना महामारी और उसके बाद देशभर में लगे लॉकडाउ ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. लगता है कोरोना महामारी और उसके बाद देशभर में लगे लॉकडाउन का भारत की जॉब मार्केट पर ज्यादा असर नहीं पड़ा. ताजा सरकारी आंकड़ों के अनुसार 2020-21 (जुलाई-जून) में बेरोजगारी दर गिरकर 4.2 प्रतिशत हो गई.

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (Ministry of Statistics and Programme Implementation) द्वारा 14 जून को जारी 2020-21 (जुलाई-जून) के लिए पीरियोडिक लेबर फोर्स सर्वे (PLFS) के अनुसार, श्रम बल भागीदारी दर (लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट) बढ़कर 41.6 फीसदी हो गया, जबकि भारत की बेरोजगारी दर कम हुई. 2019-20 (जुलाई-जून) में बेरोजगारी दर 4.8 प्रतिशत और लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट 40.1 प्रतिशत थी.

ये भी पढ़ें – डेढ़ साल में 10 लाख सरकारी नौकरियां, रोजाना 1850 युवाओं को जॉब

बेरोजगारी दर में गिरावट और लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट में वृद्धि आश्चर्यजनक
मनीकंट्रोल की एक खबर के मुताबिक, जुलाई 2020 से शुरू होने वाले 12 महीनों में बेरोजगारी दर में गिरावट और लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट में वृद्धि आश्चर्यजनक है, क्योंकि इस अवधि के पहले 3 महीनों में भारतीय अर्थव्यवस्था तकनीकी रूप से मंदी में प्रवेश कर चुकी थी. बाद के महीनों में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि में सुधार हुआ, मगर सर्वे के पीरियड के दौरान बेरोजगारी दर औसतन 4.2 प्रतिशत प्रति तिमाही बनी रही.

बता दें कि PLFS रोजगार संबंधी आंकड़ों का एकमात्र आधिकारिक स्रोत है. यह शहरी क्षेत्रों के लिए क्वार्टर के आधार पर अपडेट करता है तथा शहरी एंव ग्रामीण क्षेत्रों के लिए वार्षिक रिपोर्ट देता है.

कोरोना की वजह से सर्वे का काम भी रुका रहा
अपनी रिपोर्ट में, सांख्यिकी मंत्रालय ने कहा कि महामारी के कारण सर्वे के लिए फील्डवर्क 18 मार्च 2020 से निलंबित कर दिया गया था और जून 2020 में फिर से शुरू किया गया था. दूसरी लहर के कारण अप्रैल 2021 में काम फिर से निलंबित कर दिया गया था और जून 2021 के पहले सप्ताह में धीरे-धीरे फिर से शुरू किया गया.

Tags: Unemployment in India, Unemployment Rate

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें