अच्छी खबर: अगर आप चेक-इन बैग के बिना हवाई सफर करते हैं तो मिलेगा सस्ता टिकट, जानिए DGCA ने क्या कहा?

Airlines company

Airlines company

Airline News: घरेलू हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों को अब किराये में छूट मिलने वाली है. देश में सिविल एविएशन की नियामक संस्था डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने एक सर्कुलर जारी किया है जिसमें उड़ान संचालकों से उन यात्रियों को टिकट में छूट देने को कहा गया है जो फ्लाइट के दौरान कोई बैगेज नहीं चलते या फिर केवल केबिन में ले जाने वाला बैगेज ही ले जाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 3:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनोवायरस महामारी (CoronaVirus) के कारण नुकसान झेल रहे एयरलाइंस (Airline's Industry) द्वारा किराए में वृद्धि (Air Fare) के बाद से घरेलू उड़ानों (Domestic Airlines) पर यात्रा करना महंगा हो गया है. हालांकि, बिना किसी चेक-इन बैग (Check-In Bags) के घरेलू यात्रा करना सस्ता हो जाएगा. यानी कि अगर आप सस्ते में हवाई सफर करना चाहते हैं तो आपको ट्रैवल के दौरान चेक-इन बैगेज घर पर ही छोड़ कर जाना पड़ेगा. दरअसल, घरेलू हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों को अब किराये में छूट मिलने वाली है. देश में सिविल एविएशन (Civil Aviation) की नियामक संस्था डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने एक सर्कुलर जारी किया है. सर्कुलर में उड़ान संचालकों से उन यात्रियों को टिकट में छूट देने को कहा गया है जो फ्लाइट के दौरान कोई बैगेज नहीं चलते या फिर केवल केबिन में ले जाने वाला बैगेज ही ले जाते हैं. इसके लिए यात्रियों को टिकट बुक करते समय ही इस बारे में जानकारी देनी होगी.

जानिए क्या कहा DGCA ने ?
DGCA द्वारा जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि जो यात्री बिना सामान या केवल केबिन बैग के साथ यात्रा करेंगे, उन्हें एयरलाइंस सस्ती टिकट का ऑफर दे सकती हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, DGCA ने चेक-इन बैग्स पर एयरलाइंस पर लगाए गए प्रतिबंध को हटा दिया है, इससे फ्लाइट का सफर 200 रुपये तक सस्ता हो सकता है. वर्तमान नियमों के मुताबिक आपको फ्लाइट में 7 किलोग्राम वजन का केबिन बैगेज और 15 किलोग्राम का चेक-इन बैगेज ले जाने की अनुमति है. अभी 15 किलो चेक इन बैग के लिए कंपनिया 200 रुपये तक चार्ज करती हैं. अब इस प्रतिबंध को हटा दिया है जिसके कारण कंपनियां अब सस्ती घरेलू हवाई टिकट ऑफर कर सकती है. हालांकि, ये चार्ज तभी काम कर सकता है जब फ्लाइट महामारी से पहले वाले स्तर पर पहुंच जाएं.

ये भी पढ़ें- खुशखबरी: फ्रांस की ये बड़ी कंपनी इस साल भारत में करेगी 30,000 कर्मचारियों की हायरिंग, इन कंपनियों में भी बंपर नौकरी
छूट को लेकर एयरलाइन करेगी फैसला


इसके साथ ही एविएशन नियामक संस्था ने अन्य सेवाओं जैसे पसंदीदा सीट, भोजन और ड्रिंक्स चार्ज, एयरलाइन लाउंज, खेल उपकरण और संगीत वाद्ययंत्र के लिए शुल्क को अलग करने की अनुमति दी है. हालांकि इन नियमों के लिए एयरलाइन को फैसला करना है कि वह कितनी छूट देंगी. गुरुवार को डीजीसीए प्रमुख अरुण कुमार ऑर्डर पास किया जिसमें उन्होंने कहा कि एयरलाइंस कंपनियां सुनिश्चित करें कि लाइट फेयर और एयरपोर्ट पर चेक इन बैग के साथ सफर करने वाले यात्रियों को चार्जेस उचित लगाए जाएं.

ये भी पढ़ें- शेयरों में सीधा बढ़ रहा निवेश, सिर्फ 10 महीने में डीमैट अकाउंट की संख्या पांच करोड़ हुई

25 मई 2020 घरेलू उड़ाने फिर से शुरू हुई थी
बता दें कि बीते साल मार्च में दो महीने घरेलू उड़ान लॉकडाउन के कारण निलंबित रही. लॉकडाउन के बाद 25 मई 2020 घरेलू उड़ाने फिर से शुरू हुई थी. तब एविएशन मिनिस्ट्री ने कंपनियों के लिए किराये का बैंड बनाया. जब किराये का बैंड बनाया गया, तब घरेलू उड़ानों पर लाइट फेयर लगाए गए .
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज