अब कांच की नहीं बल्कि कागज की बोतल में मिलेगी Smirnoff वोडका और जॉनी वॉकर व्हिस्की

अब कांच की नहीं बल्कि कागज की बोतल में मिलेगी Smirnoff वोडका और जॉनी वॉकर व्हिस्की
जॉनी वॉकर व्हिस्की, Smirnoff वोडका कांच की बोतल में नहीं बल्कि कागज की बोतल (Paper-based Spirits Bottle) में मिलेंगी.

दुनिया की सबसे बड़ी शराब कंपनियों में शामिल डियाजियो (Diageo) ने बड़ा फैसला लेते हुए अब कांच की जगह कागज की बोतल इस्तेमाल करने का फैसला किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दुनियाभर में फेमस कई व्हिस्की ब्रैंड (Famous Whisky brands) को बनाने वाली कंपनी डियाजियो (Diageo) पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए नया आविष्कार किया है. अब जॉनी वॉकर व्हिस्की, Smirnoff वोडका कांच की बोतल में नहीं बल्कि कागज की बोतल (Paper-based Spirits Bottle) में उपलब्ध होगी. कंपनी ने नई पैकेजिंग का ट्रायल अगले साल से शुरू करने का फैसला लिया है. कंपनी का कहना है कि वो अपने सभी ब्रांड में प्लास्टिक का इस्तेमाल कम से कम करने पर जोर दे रही है. शीशे से बोतल बनाने में भी ऊर्जा ख़र्च होती है और इससे कार्बन उत्सर्जन बढ़ता है. कंपनी को उम्मीद है कि ग्राहक इन्हें सीधे रिसायकल करने के लिए भेज सकेंगे.एक अनुमान के मुताबिक सिर्फ़ यूरोप में ही साल 2018 में खाने पीने के प्रोडक्ट्स की पैकिंग में 82 लाख टन प्लास्टिक इस्तेमाल की गई थी. इसीलिए पर्यावरण को हो रहे नुकसान की वजह से कंपनियों पर उत्पादों की पैकिंग में प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने का दबाव है.

कागज की बोतले बनाने के लिए बनाएगी नई कंपनी-पेपर की बोतलें बनाने के लिए कंपनी पल्पेक्स नाम की एक और कंपनी बनाने जा रही है. ये कंपनी पेप्सिको (PepsiCo) और यूनीलीवर (Unilever) जैसे ब्रांड के लिए भी कागज की बोतले बनाएगी. आपको बता दें कि शीशे की बोतलों को बनाने में  ऊर्जा के कम ख़र्च पर ज़ोर दे रहे हैं लेकिन अभी भी वे बड़ी मात्रा में कार्बन उत्सर्जन करते हैं. शीशा पिघलाने वाली भट्टियों को चलाने के लिए बहुत सारी एनर्जी की जरुरत होती है. इनमें से अधिकर भट्टियां नेचुरल गैस से चलाई जाती है. इनमें रेत और चूने को पिघलाया जाता है.


आपको बता दें कि कोल्ड ड्रिंक कंपनियां  प्रदूषण को कम करने के लिए पेपर की बोतले बनाने पर फोकस बढ़ा रही है. पिछले दिनों बीयर बनाने वाली फेमस कंपनी कार्ल्सबर्ग ने भी कहा था कि पेपर की बोतलें बनाने की तैयारियां तेज करेंगे.



ये भी पढ़ें-ग्रेजुएट के लिए बड़ी खबर! दुनिया बड़ी IT कंपनी दे रही है 44 हजार लोगों को नौकरी, जुलाई में शुरू होगी हायरिंग 

डियाजियो की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उसकी बोतले पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त होंगी. क्योंकि इन्हें बनाने के लिए पल्प को खांचे में डालकर फिर माइक्रोवेव में सेककर बनाया जाएगा.

इन बोतलों में अंदर से परत चढ़ाई जाएगी जो ये सुनिश्चित करेगी कि ड्रिंक कागज से बाहर ना  निकलें. कई कार्टन जो कागज से बनते हैं उनमें अंदर से प्लास्टिक की परत होती है ताकि पेय पदार्थ बाहर न निकले. लेकिन डियाजियो का कहना है कि उसकी बोतलों में किसी भी तरह से प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. डियाजियो का कहना है कि वो अपनी पैकिंग में पांच प्रतिशत से भी कम प्लास्टिक का इस्तेमाल करती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading