फ्लाइट में बैठने से पहले एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट, देने होंगे इतने रुपये

फ्लाइट में बैठने से पहले एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट, देने होंगे इतने रुपये
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंदिरा गांधी दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर कोविड-19 टेस्टिंग की एक फैसि​लिटी तैयार की गई है. टेस्टिंग के 6 घंटे में ही कोविड-19 रिपोर्ट दिया जाएगा. यह सुविधा विदेशों से आने वाले उन पैसेंजर्स के लिए होगा, जो कनेक्टिंग डोमेस्टिक फ्लाइट्स से ट्रैवल करना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 12, 2020, 4:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (DIAL) ने शनिवार को इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर देश का पहला एयरपोर्ट कोविड-19 टेस्टिंग फैसिलिटी (COVID-19 Testing Facility) लॉन्च कर दिया है. यह सुविधा विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए होगा. सितम्बर महीने के मध्य में इस फैसिलिटी पर हर रोज 2,500 सैंपल्स लिये जाएंगे. जरूरत पड़ने पर इस क्षमता को बढ़ाकर 15,000 सैंपल्स प्रति दिन किया जाएगा. पिछले शुक्रवार को ही डायल ने बताया था कि ​टर्मिनल 3 पर मल्टीलेवल कारपार्किंग में कोविड-19 टेस्टिंग फैसिलिटी सेटअप किया है. DIAL ने यह टेस्टिंग फैसिलिटी जेनस्ट्रिंग्स डायग्नोस्टिक सेंटर के साथ मिलकर तैयार किया है ताकि विदेशों से आने वाले यात्रियों को कनेक्टिंग घरेलू फ्लाइट्स लेने से पहले टेस्टिंग की जा सके.

क्या होगा एक टेस्टिंग का खर्च?
जे​नस्ट्रिंग्स डायग्नोस्टिंग सेंटर के निदेशक डॉ रजत अरोड़ा ने कहा, 'शुरुआत दिनों में हर रोज 2,500 सैंपल्स हैंडल करने के लिए हमने लैब को तैयार किया है. ​हम इसकी क्षमता बढ़ाकर 15,000 सैंपल्स प्रति दिन करने पर काम कर रहे हैं. यह फैसिलिटी 3,500 स्क्वैयर फीट के एरिया में बना है.' दिल्ली सरकार द्वारा निर्धारित एक टेस्टिंग के लिए पैसेंजर्स को 2,400 रुपये देना होगा.

अरोड़ा ने कहा कि DIAL और जीएमआर मैनेजमेंट SOP (Standard Operating Procedure) तैयार करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर काम कर रहा है तो लैब ऑपरेशन को सितंबर मध्य तक शुरू किया जा सके. जीएमआर ग्रुप की अगुवाई में डायल ही दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट की देखरेख और संचालन का काम करता है.
यह भी पढ़ें: रेलयात्री के लिए खुशखबरी! 174 दिन के शुरू हुई वंदे भारत और हमसफर एक्सप्रेस, बदल गए ये नियम



फैसिलिटी पर ही लैब टेस्टिंग
अरोड़ा ने बताया कि वैश्विक स्तर पर इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स पर टेस्टिंग के लिए जो सुविधाएं दी जाती है, उसकी तुलना में हम दो ​अलग व नई सुविधा दे रहा है. पहला तो यह कि हम केवल सैंपल कलेक्शन सेंटर नहीं बना रहे हैं. बल्कि वास्तविक रूप में यह टेस्टिंग फैसिलिटी होगा, जिसे एयरपोर्ट पर ही तैयार किया गया है.

6 घंटे में मिलेगी रिपोर्ट
दूसरा यह कि हमने सैंपल कलेक्ट करने के 6 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने की प्रतिबद्धता जताई है. यह दुनिया की सबसे तेज RT-PCR टेस्टिंग होगी. पैंसेजर्स को ऑनलाइन बुकिंग और पेमेंट की भी सुविधा दी जाएगी ताकि उन्हें सहूलियत भी मिले और संक्रमण बढ़ने का खतरा भी न हो.

यह भी पढ़ें: ... तो क्या अब Loan Moratorium की EMI छूट पर नहीं चुकाना होगा ब्याज, सरकार ने उठाया बड़ा कदम

रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही मिलेगी ट्रैवल की अनुमति
नागर​ उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) ने बुधवार को बताया था कि भारत में लैंड करने के बाद कनेक्टिंग फ्लाइट लेने वाले इंटरनेशनल पैसेंजर्स को एयरपोर्ट एंट्री पर ही कोविड-19 टेस्टिंग का विकल्प दिया जाएगा. अगर RT-PCR रिजल्ट निगेटिव आती है तो ही इंटरनेशनल पैसेंजर को कनेक्टिंग डोमेस्टिक फ्लाइट लेने की अनु​मति दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज