DIPAM के सचिव ने बताया, कब तक पूरी होगी BPCL की विनिवेश प्रक्रिया और कहां तक पहुंचा Air India का निजीकरण

DIPAM के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने बताया कि बीपीसीएल और एयर इंडिया में हिस्‍सेदारी की बिक्री प्रक्रिया कब तक पूरी होगी.

DIPAM के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने बताया कि बीपीसीएल और एयर इंडिया में हिस्‍सेदारी की बिक्री प्रक्रिया कब तक पूरी होगी.

डिपार्टमेंट ऑफ इंवेस्‍टमेंट एंड पब्लिक प्रॉपर्टी मैनेजमेंट (DIPAM) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने बताया कि बीपीसीएल के विनिवेश (Disinvestment in BPCL) की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ रही है. ये वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली छमाही में पूरी हो जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 11:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. डिपार्टमेंट ऑफ इंवेस्‍टमेंट एंड पब्लिक प्रॉपर्टी मैनेजमेंट (DIPAM) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने बताया कि भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) की विनिवेश प्रक्रिया तेजी से चल रही है. इसके सितंबर 2021 आखिर तक पूरा हो जाने की उम्मीद है. बता दें कि केंद्र सरकार बीपीसीएल में अपनी पूरी 52.98 फीसदी हिस्सेदारी बेच रही है. इसे अब तक का देश का सबसे बड़ा निजीकरण कहा जा रहा है. वेदांता ग्रुप समेत अपोलो ग्‍लोबल और आई स्‍कावयर्ड कैपिटल की भारतीय इकाई थिंक गैस ने हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए रुचि पत्र दिया है.

एयर इंडिया के निजीकरण पर पांडेय ने दी ये जानकारी

तुहिन कांत पांडेय ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि बीपीसीएल की विनिवेश प्रक्रिया वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली छमाही में पूरी हो जाएगी. बीपीसीएल मार्च 2021 में ही नुमालीगढ़ रिफाइनरी से बाहर निकल चुकी है. बीपीसीएल ने इसमें अपनी पूरी हिस्सेदारी ऑयल इंडिया लिमिटेड (OIL) और इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (EIL) के ज्‍वाइंट वेंचर को 9,876 करोड़ रुपये में बेची थी. नुमालीगढ़ रिफाइनरी में हिस्सेदारी बिक्री से बीपीसीएल के निजीकरण का रास्ता साफ हो गया है. इस दौरान दीपम के सचिव पांडेय ने सरकारी एयरलाइंस एयर इंडिया के निजीकरण के बारे में भी जानकारी दी.

ये भी पढ़ें- केंद्र सरकार का बड़ा कदम! अब कंपनियों को बैलेंसशीट में देना होगा Cryptocurrency की होल्डिंग और ट्रांजैक्‍शन का ब्‍योरा
'बजट में बताई गई सभी कंपनियों का होगा निजीकरण'

दीपम के सचिव पांडेय ने बताया कि एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ रही है, जो अगले वित्त वर्ष में पूरी हो जाएगी. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी की नई लहर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एविएशन सेक्‍टर में सुस्ती का माहौल है. उन्होंने कहा कि वैक्‍सीनेशन के बाद माहौल बेहतर होने की पूरी उम्‍मीद है. अगले वित्त वर्ष में निजीकरण की योजनाओं के बारे में उन्होंने कहा कि बजट 2021 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जिन कंपनियों का जिक्र किया है, उनका निजीकरण होगा. बता दें कि सरकार ने अगले वित्त वर्ष में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों और वित्तीय संस्थानों में हिस्सेदारी बिक्री से 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. इनमें दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक और एक साधारण बीमा कंपनी शामिल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज