• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • केंद्र सरकार को झटका! टैक्‍स कलेक्‍शन में आई 17.6 फीसदी की कमी, जानें इस साल कितना आया Income Tax

केंद्र सरकार को झटका! टैक्‍स कलेक्‍शन में आई 17.6 फीसदी की कमी, जानें इस साल कितना आया Income Tax

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पीएम मोदी ने लिखा पत्र

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पीएम मोदी ने लिखा पत्र

डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन (Direct Tax Collection) में इस साल करीब 17.6 फीसदी की कमी देखने को मिली है. इस वजह से कोरोना वायरस महामारी के बीच टैक्स से होने वाली आय में केंद्र सरकार को काफी नुकसान हुआ है. इस साल कॉर्पोरेट टैक्स (corporate tax) के रूप में 2.26 लाख करोड़ रुपये मिले हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली: डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन (Direct Tax Collection) में इस साल करीब 17.6 फीसदी की कमी देखने को मिली है. महामारी के बीच टैक्स से होने वाली आय में भी सराकर को काफी नुकसान हुआ है. वित्त वर्ष 2020-21 में टैक्स कलेक्शन के रूप में करीब 4.95 लाख करोड़ रुपए मिले हैं. वहीं पिछले साल इसी अवधि में ये कलेक्शन करीब 6.01 लाख करोड़ रुपए था. बता दें इसमें एडवांस टैक्स की रकम भी शामिल है. Moneycontrol.com के मुताबिक, इस साल कॉर्पोरेट टैक्स (corporate tax) के रूप में 2.26 लाख करोड़ रुपए मिले हैं.

    कितना आया पर्सनल टैक्स?
    इसके अलावा अगर पर्सनल इनकम टैक्स (income tax) की बात करें तो सरकार को इस रूप में करीब 2.57 लाख करोड़ रुपए मिले हैं. मनीकंट्रोल की खबर के मुताबिक, डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन का यह शुरुआती अनुमान है. आने वाले आंकड़ों के हिसाब से इसमें बदलाव भी देखने को मिल सकता है.

    यह भी पढ़ें: CCEA की बैठक में लिया ये अहम फैसला, इलेक्ट्रिसिटी ट्रांसमिशन सुधार को दी मंजूरी

    वित्त मंत्रालय के अधिकारी ने दी जानकारी
    बता दें बैंकों की ओर से जब टैक्स कलेक्शन के आंकड़े जारी किए जाएंगे उसके बाद में सही राशि का अनुमान लग सकेगा. वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने मनी कंट्रोल को बताया कि कोरोना वायरस महामारी के फैसे अनिश्चितता के माहौल के कारण टैक्स कलेक्शन में कमी आई है और अर्थव्यस्था में रिकवरी का रास्ता अभी भी क्लीयर नहीं है.

    कॉर्पोरेट टैक्स को घटाया
    देशभर में फैली कोरोना महामारी के बीच सरकार ने कॉर्पोरेट टैक्स कलेक्शन की दरों में बदलाव किया था. बता दें पुरानी कंपनियों के लिए ये दरें घटाकर 25 फीसदी कर दी गई थीं. वहीं, नई कंपनियों के लिए इसको 15 फीसदी किया गया था.

    यह भी पढ़ें: EPFO ने कोरोना संकट के बीच 52 लाख क्लेम का समय पर किया निपटारा, 13300 करोड़ रुपये का किया भुगतान

    अक्टूबर में सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में देश का राजकोषीय घाटा ( fiscal deficit) बढ़कर 9.14 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है, जो कि बजट अनुमान का 114.8% है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज