Home /News /business /

टैक्स कलेक्शन पर वित्त मंत्रालय ने कहा- जल्द दिखेगा टैक्स रिफॉर्म्स का असर, इन्वेस्टमेंट भी बढ़ेगा

टैक्स कलेक्शन पर वित्त मंत्रालय ने कहा- जल्द दिखेगा टैक्स रिफॉर्म्स का असर, इन्वेस्टमेंट भी बढ़ेगा

वित्त मंत्रालय

वित्त मंत्रालय

वित्त वर्ष 2019-20 में कुल डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 12.33 लाख करोड़ रुपये रहा था. टैक्स में इस गिरावका पर वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने कहा कि टैक्स रिफॉर्म्स का असर बहुत जल्द ही देखने को मिलेगा. इस साल सबसे ज्यादा ​टैक्स रिफंड्स जारी किये गये हैं.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने पिछले वित्त वर्ष में टैक्स कलेक्शन (FY20 Direct Tax Collection) के आंकड़े पर बढ़ती चिंता को नकारते हुए कहा कि ऐतिहासिक रिफॉर्म्स का असर बहुत जल्द ही दिखने लगेगा. मंत्रालय की तरफ से सोमवार को जारी एक बयान में कहा गया कि ऐतिहासिक टैक्स रिफॉर्म्स (Historic Tax Reforms) की वजह से टैक्स कलेक्शन में गिरावट आई है. इस दौरान बड़ी संख्या में ​टैक्स रिफंड्स जारी किये गये हैं. रेवेन्यू​ गिरने का अनुमान पहले ही था. यह तात्कालिक है. मंत्रालय ने आगे कहा कि मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स को शुरू होने में समय लगता है. रिफॉर्म्स के ऐलान के तुरंत बाद ही उत्पादन नहीं शुरू हो सकता है.

    इन्वेस्टमेंट में जल्द आयेगी तेजी
    यह भी बताया गया कि सितंबर 2019 में टैक्स के मोर्चे पर ​जो भी रिफॉर्म्स का ऐलान किया गया था, अगले कुछ महीनों और सालों में इसके नतीजे दिखाई देने लगेंगे. इन्वेस्टमेंट में भी तेजी आएगी. हालांकि, इसमें यह भी कहा गया कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से उत्पादन शुरू होने में समय लग सकता है.

    यह भी पढ़ें: FY20 में टैक्स कलेक्शन 4.92 फीसदी घटा, इस वजह से सरकार की झोली में आए सिर्फ 12.33 लाख करोड़ रुपये

    ​इन टैक्स रिफॉर्म्स का ऐलान हुआ था
    ​पिछले साल ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सभी मौजूदा घरेलू ​कंपनियों के लिये कॉरपोरेट टैक्स में कटौती करने का ऐलान किया था. साथ ही, नई कंपनियों के लिए मिनिमम अल्टरनेटिव टैक्स (MAT- Minimum Alternative Tax) के तहत नये इंसेटिव्स का भी ऐलान किया था. सरकार ने सालाना 5 लाख रुपये तक की कमाई करने वाले लोगों टैक्स छूट और स्टैंडर्ड डिडक्शन को भी बढ़ाया था. इस दौरान सरकार ने यह भी बताया कि कॉरपोरेट टैक्स कटौती से उसके खजाने पर 1.45 लाख करोड़ रुपये और व्यक्गित इनकम टैक्स से 23,200 करोड़ रुपये का असर पड़ेगा.

    कितना रहा कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन?
    वित्त वर्ष 2018-19 में केंद्र सरकार कॉरपोरेट टैक्स के तौर पर 7.69 लाख करोड़ रुपये जुटाया था, जोकि वित्त वर्ष 2019-20 में घटकर 6.78 लाख करोड़ रुपये हो गया. इसी प्रकार वित्त वर्ष 2018-19 में सरकार ने व्यक्तिगत इनकम टैक्स के जरिये 5.28 लाख करोड़ रुपये जुटाया था. पिछले वित्त वर्ष में यह मामूली बढ़त के साथ 5.55 लाख करोड़ रुपये रहा.

    यह भी पढ़ें: SBI में पैसा लगाने पर निवेशकों को मिल सकता है लगभग दोगुना रिटर्न

    पहले की तुलना में अधिक टैक्स रिफंड जारी
    वित्त वर्ष 2018-19 में कुल डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 12,97,674 करोड़ रुपये था. सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (CBDT) ने एक बयान में कहा, 'यह तथ्य है कि वित्त वर्ष 2019-20 में डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन पिछले वित्त वर्ष की तुलना में घटा है. लेकिन टैक्स कलेक्शन में इस गिरावट की उम्मीद फैसले लेते समय ही थी. ऐतिहासिक टैक्स रिफॉर्म को देखते हुए यह तात्कालिक असर है. वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान पहले की तुलना में अधिक टैक्स रिफंड जारी किया गया है.'

    यह भी पढ़ें: अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के लिए सरकार को बैंकिंग सेक्‍टर में डालनी होगी पूंजीundefined

    Tags: Business news in hindi, Central Board of Direct Taxes, Ministry of Finance, Nirmala sitharaman, Tax collection

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर