लाइव टीवी

लगातार चार दिनों तक बैंक हड़ताल से न हों परेशान, नहीं अटकेगी आपकी सैलरी

News18Hindi
Updated: September 21, 2019, 12:06 PM IST
लगातार चार दिनों तक बैंक हड़ताल से न हों परेशान, नहीं अटकेगी आपकी सैलरी
बैंक हड़ताल

हड़ताल (Bank Strike) के ये दो दिन बैंकों की आधिकारिक छुट्टी नहीं है, ऐसे में उम्मीद है कि इंटरनेट बैंकिंग, ऑनलाइन RTGS, NEFT, IMPS और UPI ट्रांसफर जैसी सुविधांए न बंद हों.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2019, 12:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चार बैंक यूनियनों (Bank Unions) ने दो दिन के हड़ताल का ऐलान किया है जो 26 सितंबर से शुरू होगा. अगर इन बैंकों का यह ऐलान सफल होता है तो अगले सप्ताह लगातार 4 दिनों तक बैंक बंद रहेंगे. यह हड़ताल 26 सितंबर से 29 सिंतबर तक रहेगा, जिस दौरान बैंकिंग सेवाएं भी बाधित रहेंगी. चार बैंक यूनियन, जिसमें ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन, ऑल इडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशंस, इंडियन नेशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस और नेशनल ऑर्गेनाइेशन बैंक ऑफिसर्स ने 26 सितंबर और 27 सिंतबर को हड़ताल की मांग की है. इन यूनियनों ने सरकार द्वारा 10 बैंकों का विलय कर 4 बैंक बनाने के फैसले के​ विरोध में यह फैसला किया है.

अलगे सप्ताह 3 दिनों के ​लिए ही खुलेंगे बैंक

इन बैंक यूनियनों ने गुरुवार और शुक्रवार को हड़ताल करने की घोषणा की है. 28 सितंबर को महीने के चौथे शनिवार होने की वजह से छुट्टी रहेगी और रविवार को बैंकों का वीकली ऑफ होता है. इसके बाद अगले सप्ताह अधिकतर बैंक केवल तीन दिनों के लिए ही खुले रहेंगे. ऐसे में लगातार चार दिनों तक बैंकों की छुट्टी का असर आम आदमी पर भी पड़ेगा. 30 सितंबर को सोमवार है और इस दिन बैंक खुले रहेंगे. ऐसे में सैलरीड क्लास के लिए राहत की बात है कि उनकी सैलरी नहीं अटकेगी.

Bank Cash Counter


ये भी पढ़ें: GST काउंसिल के फैसले: छोटे व्यापारियों को तोहफा, ऑटो-बिस्किट इंडस्ट्री को राहत नहीं


Loading...

इन सुविधाओं के बंद नहीं होने की उम्मीद: हालांकि, हड़ताल (Bank Strike) के ये दो दिन बैंकों की आधिकारिक छुट्टी नहीं है, ऐसे में उम्मीद है कि इंटरनेट बैंकिंग, ऑनलाइन  RTGS,  NEFT,  IMPS और  UPI ट्रांसफर जैसी सुविधांए न बंद हों.

cash Counter


बैंक यूनियनों का नवंबर माह में हड़ताल करने की धमकी

​कुछ दिन पहले ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों ऐलान किया था कि सरकारी क्षेत्र के 10 बैंकों विलय करके 4 बैंक बनाये जाएंगे. सरकार इस फैसले के बाद बैंक यूनियनों का कहना है कि विलय के बाद कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने की भी मांग की है. इन बैंक यूनियनों ने यह भी कहा है कि यदि सरकार उनकी बात नहीं मानती है कि तो वो ​नवंबर माह में अनिश्चिकिाल के लिए हड़ताल पर जाएंगे.

ये भी पढ़ें: महंगा हुआ चाय-कॉफी पीना, होटल में ठहरने के लिए देना होगा इतना GST

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 21, 2019, 12:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...