लाइव टीवी

अगर आपका भी हैं कई बैंकों में खाता तो हो जाएं सावधान! हो सकता है बड़ा नुकसान

News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 11:23 AM IST
अगर आपका भी हैं कई बैंकों में खाता तो हो जाएं सावधान! हो सकता है बड़ा नुकसान
अगर आपका भी हैं कई बैंकों में खाता तो हो जाएं सावधान! हो सकता है बड़ा नुकसान

अगर आपने कोई ऐसा बैंक खाता (Bank Account) खुलवाया हो जिसका इस्तेमाल आप नहीं करते हैं तो उस खाते को बंद करवाना (Bank Account Close) आपके लिए बेहद जरूरी है. इसकी वजह यह है कि बैंक आपके खातों को बनाए रखने के लिए एक निश्चित राशि आपसे वसूलता है. आइए जानें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 11:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आपने कोई ऐसा बैंक खाता (Bank Account) खुलवाया हो जिसका इस्तेमाल आप नहीं करते हैं तो उस खाते तो बंद करवाना (Bank Account Close) आपके लिए ठीक है. क्योंकि आपको खाता रखने के लिए मिनिमम बैलेंस मेनटेन (Minimum Balance) करना होता है. साथ ही, ऐसा नहीं करने पर बैंक आपसे इसके लिए भारी चार्ज भी वसूलता है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अगर आप कोई बैंक खाता बंद करते हैं तो उससे जुड़े सभी जरूरी डाक्यूमेंट्स को आपको डी-लिंक कराना होगा. क्योंकि बैंक खाते से निवेश, लोन, ट्रेडिंग, क्रेडिट कार्ड पेमेंट और बीमे से जुड़े पेमेंट लिंक होते है. आइए आपको बताते हैं कि कैसे आप अपने खाते को बंद करा सकते हैं.

>> मौजूदा समय में अक्सर लोग जल्दी-जल्दी नौकरी बदलते हैं ऐसे में हर संस्थान अपने लिहाज से सैलरी खाता खुलवाता है. लिहाजा पिछली कंपनी वाला खाता लगभग निष्क्रिय हो जाता है. किसी भी सैलरी खाते में तीन महीने तक सैलरी नहीं आने पर वह अपने आप सेविंग खाते में बदल जाता है.

>> सेविंग खाते में बदलते ही उस खाते के लिए बैंक के नियम भी बदल जाते हैं. इन्हीं नियमों के मुताबिक खाते में मिनिमम राशि भी रखनी होती है और अगर आप ये रकम नहीं रखते हैं तो बैंक आपसे पेनल्टी भी वसूलते हैं और खाते से पैसे कट जाते हैं.



>> कई बैंकों में खाता होने से इनकम टैक्स भरते समय आपको कई परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है. आपको अपने हर बैंक खाते से जुड़ी जानकारी उसमें देनी पड़ती है.

>> साथ ही सभी खाते के स्टेटमेंट लगाना भी काफी माथापच्ची करने वाला काम हो जाता है. निष्क्रिय खाते का ठीक से इस्‍तेमाल न करने पर आपको पैसों का नुकसान भी हो सकता है. मान लीजिए कि आपके पास चार बैंक खाते हैं जिनमें मिनिमम बैलेंस 10,000 रुपए होने चाहिए.

>> इस पर आपको 4 प्रतिशत की दर से सालाना ब्याज मिलता है. इस हिसाब से आपको लगभग 1600 रुपए ब्‍याज मिलेगा. अब, आप सभी खातों को बंद कर इसी रकम को म्यूचुअल फंड के निवेश में लगा देते हैं तो यहां आपको कम से कम 10 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है.
Loading...

अकाउंट क्लोजर फॉर्म भरें
खाता बंद करते वक्त आपको डी-लिंकिंग खाता फॉर्म भरना पड़ सकता है. बैंक की शाखा में अकाउंट क्लोजर फॉर्म उपलब्ध होता है.

>> आपको इस फॉर्म में खाता बंद करने की वजह बताना होगा. अगर आपका खाता ज्वाइंट अकाउंट है तो फॉर्म पर सभी खाताधारकों का हस्ताक्षर जरूरी है.

>> आपको एक दूसरा फॉर्म भी भरना होगा. इसमें आपको उस खाते की जानकारी देनी होगी, जिसमें आप बंद होने वाले अकाउंट में बचा पैसा ट्रांसफर कराना चाहते हैं.

>> खाता बंद कराने के लिए आपको बैंक की शाखा में खुद जाना पड़ेगा.

SBI की खास सुविधा! घर बैठे दूसरी ब्रांच में ट्रांसफर कर सकते हैं अपना खाता 

कितना है अकाउंट क्लोजर चार्ज?
खाता खोलने के 14 दिन के अंदर उसे बंद कराने पर बैंक किसी तरह का चार्ज नहीं वसूलते हैं. अगर आप खाता खोलने के 14 दिन बाद से लेकर एक साल पूरा होने से पहले उसे बंद कराते हैं तो आपको खाता क्लोजर चार्ज देना पड़ सकता है. आम तौर पर एक साल से ज्यादा पुराने खाते को बंद कराने पर क्लोजर चार्ज नहीं लगता है.

ये दस्तावेज देना होगा?
बैंक आपसे इस्तेमाल नहीं की गई चेकबुक और डेबिट कार्ड बैंक क्लोजर फॉर्म के साथ जमा करने के लिए कहेगा.

रोजाना 7 रुपये बचाकर पाएं 5 हजार की पेंशन, 1.9 करोड़ लोगों ने उठाया इसका फायदा

अकाउंट में पैसा पड़ा है तो?
खाते में पड़े पैसा का भुगतान कैश (सिर्फ 20,000 रुपये तक) में हो सकता है. आपके पास इस पैसे को अपने दूसरे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कराने का भी विकल्प है.

इस बात का भी ध्यान रखें
अगर आपके खाते में ज्यादा पैसा है तो क्लोजर प्रोसेस शुरू करने से पहले उसे दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दें. अकाउंट का अंतिम स्टेटमेंट अपने पास रखें, जिसमें खाता क्लोजर का जिक्र हो.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 11:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...