होम /न्यूज /व्यवसाय /अब नहीं डूबेंगे इन बैंकों में जमा आपके पैसे! मोदी सरकार ने बजट के बाद लिया दूसरा बड़ा फैसला, यहां जानें

अब नहीं डूबेंगे इन बैंकों में जमा आपके पैसे! मोदी सरकार ने बजट के बाद लिया दूसरा बड़ा फैसला, यहां जानें

5 दिन में बैंक खातों को लेकर हुए दो बड़े फैसले

5 दिन में बैंक खातों को लेकर हुए दो बड़े फैसले

बैंक खाते में आम लोगों के पैसों को सेफ करने के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government Cabinet Decision) ने 5 ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. बैंक खातों में आम लोगों के पैसों को सेफ रखने के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने 5 दिन में दूसरा बड़ा फैसला लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक (Modi Government Cabinet Decision) में लिए गए फैसले के मुताबिक, अब RBI ही देश के को-ऑपरेटिव बैंकों को रेग्युलेट करेगी. आपको बता दें कि हाल ही में सामने आए पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक संकट (PMC Bank Crisis) के बाद सरकार को ऐसा कदम उठाना पड़ा. इसके अलावा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने बैंकों में जमा रकम के लिए डिपॉजिट इंश्योरेंस (Deposit Insurance) की लिमिट को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने का ऐलान किया था. अगर कोई बैंक किसी भी वजह से दिवालिया होता है तो उस बैंक में जमाकर्ताओं को उनकी रकम पर 1 लाख की जगह 5 लाख रुपये का बीमा मिलेगा.

    एक हफ्ते में हुए दो बड़े फैसले- प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि डिपॉजिटर्स (बैंक खाते में पैसा जमा कराने वाले) के लिए एक हफ्ते में दो बड़े कदम उठाए हैं. पहला को-ऑपरेटिव बैंक को अब RBI रेग्युलेट करेगा. इसे चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा. वहीं, बजट में  डिपॉजिट इंश्योरेंस (Deposit Insurance) की लिमिट को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने का ऐलान किया गया है. इस फैसले से 99 फीसदी डिपॉजिटर्स को फायदा होगा.

    ये भी पढ़ें-एक से ज्यादा बैंक में हैं आपका खाता, तो जानिए अब कितने लाख रुपये रहेंगे सेफ?

    News18 Hindi
    कैबिनेट के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में फैसलों की जानकारी देते केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर


    देशभर करीब 1540 सहकारी यानी को-ऑपरेटिव बैंक हैं. इससे पहले आरबीआई निजी और सरकारी नियंत्रित बैंकों को रेग्युलेट करता था.

    अब क्या होगा- केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि अब देश के सभी को-ऑपरेटिव बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) की निगरानी में काम-काज करेंगे. इसके लिए बैंकिंग रेग्युलेशन एक्ट (Banking Regulation Act) में संशोधन होगा. साथ ही, इन बैंकों में नियुक्ति से लेकर कॉरपोरेट गवर्नेन्स स्ट्रक्चर में बदलाव भी होगा. इसको लेकर RBI की गाइडलाइंस आएंगी.

    ये भी पढ़ें:-बड़ी खबर- दूध हो सकता हैं 4-5 रुपये प्रति लीटर तक महंगा! जानिए पूरा मामला

    Tags: Bank, Banking services, Banks support, Business news in hindi, RBI, RBI Governor

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें