होम /न्यूज /व्यवसाय /

Investment Tips : एफडी कराने के सिर्फ फायदे ही नहीं-नुकसान भी हैं, पूरी जानकारी के बाद ही इसमें लगाएं पैसे

Investment Tips : एफडी कराने के सिर्फ फायदे ही नहीं-नुकसान भी हैं, पूरी जानकारी के बाद ही इसमें लगाएं पैसे

आरबीआई के रेपो रेट बढ़ाने के बाद बैंकों ने भी एफडी पर ब्‍याज दरें बढ़ाई हैं.

आरबीआई के रेपो रेट बढ़ाने के बाद बैंकों ने भी एफडी पर ब्‍याज दरें बढ़ाई हैं.

एफडी में पैसे लगाना हमेशा से सुरक्षित और तयशुदा रिटर्न वाला विकल्‍प माना जाता है, लेकिन बढ़ती महंगाई को देखते हुए यह तर्कसंगत नहीं रहा. इसमें कोई संशय नहीं कि एफडी कई मायनों में निवेश का बढि़या विकल्‍प है, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है, जिन्‍हें जानकर ही किसी निवेशक को एफडी करानी चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. ज्‍यादातर निवेशक एफडी में पैसे लगाने को सबसे सुरक्षित और बेहतर निवेशक विकल्‍प मानते हैं. कुछ हद तक तो यह बात सच भी है, लेकिन एफडी पूरी तरह फायदे का सौदा है, यह भी सत्‍य नहीं है. एफडी में निवेश करने के कई फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी है.

मौजूदा समय में निजी और सरकारी सभी बैंक अपनी-अपनी एफडी पर ब्‍याज दरें बढ़ा रहे हैं, ताकि यह निवेशकों को और आकर्षक दिखे. इस बढ़ोतरी के बावजूद एफडी पर मिलने वाला रिटर्न अन्‍य निवेश विकल्‍पों के मुकाबले काफी कम दिखाई देता है. यानी रिटर्न कम मिलना एफडी में निवेश का सबसे बड़ा नुकसान है. इसके बजाए आप कॉरपोरेट एफडी, बांड या अन्‍य विकल्‍पों में पैसे लगा सकते हैं.

ये भी पढ़ें -महंगाई को मात देता है दो गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों का तगड़ा रिटर्न, दोनों NBFCs ने बढ़ाईं एफडी पर ब्‍याज दरें

लिक्विडिटी की समस्‍या
एफडी को लेकर दूसरी जो सबसे नकारात्‍मक बात है वह इसकी लिक्विडिटी से जुड़ी हुई है. इसका मतलब है कि आपको जरूरत के समय पैसे का वापस न मिलना. आपने एक बार बैंक में एफडी करा दी, तो उसकी मेच्‍योरिटी का समय भी फिक्‍स हो जाता है. आप जरूरत पड़ने पर उस तय समय से पहले अपना पैसा नहीं निकाल सकते और अगर आपने ऐसा किया तो रिटर्न से कहीं ज्‍यादा चार्ज वसूल लिया जाएगा.

ये भी पढ़ें – Multibagger Stock: छह महीने में 645 फीसदी चढ़ा यह शेयर, आज भी अपर सर्किट

कुछ बैंक एफडी से जल्‍दी पैसे निकालने पर आपसे 1 फीसदी तक चार्ज वसूली सकते हैं. ऐसे में आपकी जमा राशि जितनी ज्‍यादा होगी, उस पर लगने वाला चार्ज भी उतना ही ज्‍यादा हो जाएगा. लिहाजा आपको छोटी राशि के रूप में कई एफडी करानी चाहिए, ताकि जरूरत पड़ने पर कम राशि वाली एफडी ही तोड़ी जाए.

टैक्‍स का लाभ भी सीमित
निवेश्‍कों को यह जानना बेहद जरूरी है कि सभी तरह की एफडी पर टैक्‍स का लाभ नहीं मिलता है. हालांकि, 5 साल की अवधि वाली कुछ एफडी पर आपको टैक्‍स का लाभ दिया जाता है, लेकिन इस पर एक सीमा से ज्‍यादा रिटर्न मिलते ही आपको टीडीएस के रूप में कुछ राशि देनी पड़ती है. इसके विपरीत आप चाहें तो बांड या नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, आदि में पैसे लगाकर टैक्‍स का लाभ ले सकते हैं.

एफडी के कई फायदे भी हैं
-एफडी कराने का सबसे बड़ा लाभ यही है कि आपका पैसा एक तय समय के लिए सुरक्षित हो जाता है, जिस पर बाजार में आए उतार-चढ़ाव का कोई असर नहीं पड़ता और तयशुदा रिटर्न मिलता रहता है.
-एफडी कराते समय आपको अवधि का चुनाव करने के ढेरों विकल्‍प मिल जाते हैं. इसके लिए 7 दिन से लेकर 10 साल तक की अवधि का विकल्‍प मिलता है.
-जरूरत के समय एफडी तोड़ना ही एकमात्र विकल्‍प नहीं होता, बल्कि आप अपनी एफडी की राशि का 90 फीसदी तक लोन भी ले सकते हैं.

Tags: Bank FD, FD Rates, Investment tips, Money Making Tips

अगली ख़बर