लाइव टीवी

यहां रहने वाले लोग अब नहीं खा पाएंगे Dominos का Pizza! कंपनी ने लिया बड़ा फैसला

News18Hindi
Updated: October 17, 2019, 4:00 PM IST
यहां रहने वाले लोग अब नहीं खा पाएंगे Dominos का Pizza! कंपनी ने लिया बड़ा फैसला
डोमिनोज पिज्जा (Dominos Pizza) बड़े वित्तीय संकट (Financial Crisis) में फंस गई है.

दुनिया में अपने पिज्जा के लिए मशहूर कंपनी डोमिनोज पिज्जा (Dominos Pizza) भी बड़े वित्तीय संकट (Financial Crisis) में फंस गई है. इसी वजह से कंपनी ने कई बड़े देशों में अपना कारोबार (Dominos Business) समेटने की तैयारी कर ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2019, 4:00 PM IST
  • Share this:
मुंबई. ग्लोबल स्लोडाउन (Global Slowdown) का असर अब कंपनियों पर दिखने लगा है. दुनिया में अपने पिज्जा के लिए मशहूर कंपनी डोमिनोज पिज्जा (Dominos Pizza) भी बड़े वित्तीय संकट (Financial Crisis) में फंस गई है. इस अमेरिकी कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उनका घाटा दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है. इसी वजह से चार देशों में अपना कारोबार समेटने की तैयारी कर ली है. आपको बता दें कि भारत में डोमिनोज की फ्रेंचाइजी जुबिलेंट फूडवर्क्स (Jubilant Foodworks) के पास है.

कहां बंद होगी डोमिनोज पिज्जा - मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि भारत को छोड़कर स्विट्जरलैंड, आइसलैंड, नॉर्वे और स्वीडन जैसे कई देशों में कंपनी अपना कारोबार बंद करने जा रही है. इन जगहों पर डोमिनोज को लगातार घाटा हो रहा है.

ये भी पढ़ें-भारत को मिली बड़ी कामयाबी! इस मामले में दुनिया के इन बड़े देशों को छोड़ा पीछे

Dominos Pizza Order Pizza Online Dominos Pizza to exit four international markets

अब क्या हुआ- न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक डोमिनोज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड वाइल्ड ने कहा, 'हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि जिन देशों में हम घाटे में जा रहे हैं. वहां अब कारोबार चलाना बहुत मुश्किल हो चुका है. उन्होंने कहा कि हम वहां इस कारोबार के सर्वश्रेष्ठ मालिक नहीं हैं.

ये भी पढ़ें-कश्मीर पर मलेशिया ने दिया था पाक का साथ,भारत के तेवर दिखाते ही अब करेगा ये काम

डोमिनोज पिज्जा के बारे में जानिए- डोमिनोज पिज्जा (Dominos Pizza) के 85 देशों में मौजूदगी है. इस कंपनी का मिशिगन में हेडक्वाटर है.इसकी पना 1960 में टॉम मॉनाहैन द्वारा इप्सिलांटी, मिशिगन में की गई थी. कुछ साल में यह पूरे अमेरिका में छा गई. इसके बाद साल 1998 से इसको एक निजी इक्विटी फंड बैन कैपिटल ने खरीद लिया. साल 2004 यह स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट हुई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 3:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...