Home /News /business /

आपके घर तक मिलती है बैंक की ये सभी सर्विसेज, ब्रांच जाने की नहीं होगी जरूरत

आपके घर तक मिलती है बैंक की ये सभी सर्विसेज, ब्रांच जाने की नहीं होगी जरूरत

उच्चतम न्यायालय ने इस साल सितंबर में नौकरियों एवं शिक्षण संस्थानों में मराठा आरक्षण को लागू करने पर रोक लगा दी थी

उच्चतम न्यायालय ने इस साल सितंबर में नौकरियों एवं शिक्षण संस्थानों में मराठा आरक्षण को लागू करने पर रोक लगा दी थी

Doorstep Banking Services: सरकारी बैंकों (Public Sector Banks) ने ब्रांच जाने में असमर्थ लोगों के लिए डोरस्टेप बैंकिंग सर्विसेज शुरू किया है. इसमें ग्राहकों को घर बैठे बैंक से जुड़े फाइनेंशियल व नॉन-फाइनेंशियल सर्विसेज मुहैया कराई जाएंगी. हालांकि, सबसे पहले इसके लिए उन्हें बैंक में रजिस्टर कराना होगा.

अधिक पढ़ें ...
    कोविड-19 महामारी के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने हाल ही में पब्लिक सेक्टर बैंकों (PSBs) के अलायंस डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस को लॉन्च किया है. सरकारी बैंकों के इस सुविधा से उन लोगों को सहूलियत ​मिल सकेगी जो बैंक ब्रांच जाने में असमर्थ हैं. बैंकों के इस डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस (Doorstep Banking Services) से 70 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्ग, दिव्यांग व दृष्टि-बाधित लोगों को अपने घर पर ही बैंकिंग सेवाएं प्राप्त करने में मदद मिलेगी.

    डोरस्टेप बैंकिंग के लिए कैसे रजिस्टर करें?
    बैंक के मोबाइल एप्लीकेशन, वेबसाइट या कॉल सेंटर के जरिए डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस के लिए रजिस्टर किया जा सकता है. इस सर्विस का लाभ लेने के लिए एक फॉर्म भरना होगा. यह विकल्प बैंक ब्रांच से 5 किलोमीटर की दूरी तक ही मिलेगी. साथ ही, डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस के लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर SMS सुविधा को भी ऐक्टिवेट करना होगा. जैसे ही डोरस्टेप बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन (Doorstep Banking Registration) प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, वैसे ही रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कन्फर्मेशन एसएमएस भेजा जाएगा.

    डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस प्राप्त करने के लिए ग्राहक को बैंक के टोल-फ्री नंबर पर कॉल करना होगा या बैंक की वेबसाइट या मोबाइल ऐप के जरिए लॉगिन कर रिक्वेस्ट करना होगा. हालांकि, कुछ सरकारी बैंक अभी भी अपनी वेबसाइट और मोबाइल ऐप्स पर इस सुविधा के लिए जरूरी बदलाव कर रहे हैं. अगले महीने यानी अक्टूबर 2020 से सरकारी बैंकों के सभी प्लेटफॉर्म पर इस सुविधा को लॉन्च कर दिया जाएगा.

    यह भी पढ़ें: कारपेंटर, पेंटर, छोटे दुकानदार आसानी से ले सकेंगे अपने सपनों का घर, ये बैंक दे रहा है ₹50 लाख तक का Home Loan

    अगर आप भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहक हैं और डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस प्राप्त करने के लिए टोल-फ्री नंबर पर कॉल करते हैं तो आपको वेरिफिकेशन के लिए अपने बैंक अकाउंट का अंतिम 4 डिजिट बताना होगा. इसके बाद आपके कॉल को सेंटर एजेंट के पास फॉरवर्ड किया जाएगा. इसके बाद कुछ अन्य वेरिफिकेशन प्रोसेस के बाद सर्विस डिलीवरी की टाइम दी जाएगी. आपका रिक्वेस्ट हो जाने के बाद रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर इस बारे में जानकारी दे दी जाएगी.

    डोरस्टेप बैंकिंग में क्या-क्या सर्विसेज मिलेंगी?
    इस सुविधा के तहत अकाउंट होल्डर को फाइनेंशियल व नॉन-फाइनेंशियल बैंकिंग सर्विसेज मुहैया कराई जाएंगी. नॉन-फाइनेंशियल सर्विसेज में चेक, डिमांड ड्राफ्ट आदि उठाना, अकांउट स्टेटमेंट की जानकार, नया चेक प्राप्त करना, टर्म डिपॉजिट की रसीद प्राप्त करना, फॉर्म 16 सर्टिफिकेट, फॉर्म 15G/15H जमा करना आदि शामिल है. जबकि, फाइनेंशियल सर्विसेज में कैश डिपॉजिट या कैश विड्रॉल की सुविधा मिलेगा.

    एक कॉल में दो सर्विस रिक्वेस्ट की जा सकती है. हालांकि, एक रिक्वेस्ट में दो फाइनेंशियल लेनदने को शामिल नहीं किया जाएगा. डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस केवल रजिस्टर्ड पते पर ही मुहैया कराई जाएंगी.

    यह भी पढ़ें: महंगा होने जा रहा आपका ट्रेन टिकट, 1000 से ज्यादा स्टेशनों पर देना होगा यूजर चार्ज

    कहीं बैंक एजेंट के नाम पर फ्रॉड तो नहीं होगा?
    किसी भी तरह के फ्रॉड से बचने के लिए कस्टमर को व्यक्तिगत रूप से डोरस्टेप सर्विस एजेंट के सर्विस कोड को वेरिफाई करना होगा. सविर्स कोर्ड को ग्राहकों के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर SMS के जरिए भेजा जाएगा. साथ ही डोरस्टेप सर्विस एजेंट (Doorstep Service Agent) से अकाउंट नंबर, अकाउंट, ATM कार्ड या PIN संबंधी कोई जानकारी नहीं साझा करनी होगी. ग्राहकों को भी एजेंटों से वेरिफाई कराना होगा. इसके लिए ग्राहक कोई भी सरकारी पहचान पत्र जैसे ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड आदि दिखा सकते हैं.

    डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस में लेनदेन की क्या लिमिट होगी?
    अगर आपका बैंक अकाउंट यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India) में है तो कैश डिपॉजिट व विड्रॉल की न्यूनतम रकम 5,000 रुपये और अधिकतम रकम 25,000 रुपये है. वहीं, भारतीय स्टेट बैंक (SBI) में मिनिमम लिमिट 1,000 रुपये और मैक्सिमम लिमिट 20,000 रुपये की है. कैश विड्रॉल के लिए रिक्वेस्ट से पहले बैंक अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस होना अनिवार्य है. ऐसा नहीं होने पर ट्रांजैक्शन कैंसिल हो जाएगा.

    यह भी पढ़ें: बैंकों में जमा आपके पैसों की सुरक्षा गारंटी देने वाले नए कानून के बारे में जानिए

    डोरस्टेप बैंकिंग सर्विसेज के लिए क्या चार्जेज देने होंगे?
    एसबीआई में फाइनेंशियल और नॉन-फाइनेंशियल सर्विसेज के ​लिए प्रति​ विजिट 75 रुपये प्लस जीएसटी चार्ज के रूप में देना होगा. इसी प्रकार यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में यह चार्ज 200 रुपये प्लस जीएसटी प्रति विजिट है. पंजाब एंड सिंध बैंक (Punjab & Sind Bank) में यह चार्ज 50 रुपये प्लस जीएसटी ओर 150 रुपये कन्वेनैंस चार्ज के रूप में देना होगा. डोरस्टेप बैंकिंग के लिए ये चार्जेज बैंकिंग एजेंट को नहीं देने होंगे. रिक्वेस्ट पूरा होने के बाद यह सर्विस आपके बैंक अकाउंट से ही कट जाएंगे.

    Tags: Banking services, Finance minister Nirmala Sitharaman, Public sector, State Bank of India

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर