लाइव टीवी

Air India की बिक्री के लिए सरकार ने बनाया ये प्लान, इस नियम में हो सकता है बदलाव

भाषा
Updated: October 29, 2019, 10:31 AM IST
Air India की बिक्री के लिए सरकार ने बनाया ये प्लान, इस नियम में हो सकता है बदलाव
Air India के लिए सीधी विदेशी हिस्सेदारी के नियमों में ढील पर विचार

सरकार लंबे समय से कर्ज के बोझ से दबी एयरलाइन (Airline) को बेचने का प्रयास कर रही है, लेकिन उसके लिए खरीदार नहीं मिल रहे हैं. अब सरकार (Government) ने अगले महीने एअर इंडिया (Air India) के लिए बोलियां मांगने का फैसला किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (DPIIT) और नागर विमानन मंत्रालय (Civil Aviation Ministry) राष्ट्रीय विमानन कंपनी एअर इंडिया (Air India) के लिए खरीदारों को आकर्षित करने के लिए इस क्षेत्र के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) नियमों में ढील देने की संभावनाओं पर विचार कर रहे हैं. सरकार लंबे समय से कर्ज के बोझ से दबी एयरलाइन (Airline) को बेचने का प्रयास कर रही है, लेकिन उसके लिए खरीदार नहीं मिल रहे हैं. अब सरकार (Government) ने अगले महीने एअर इंडिया (Air India) के लिए बोली मांगने का फैसला किया है.

इनमें 100 फीसदी FDI की है अनुमति
विमानन क्षेत्र में स्वत: मंजूर मार्ग से रखरखाव, मरम्मत, ओवरहॉल (एमआरओ), ग्राउंड हैंडलिंग और विमान खरीद के लिए 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति है. अधिकारी ने कहा कि एयरलाइन के परिचालन में उल्लेखनीय स्वामित्व और प्रभावी नियंत्रण का मुद्दा होता है. ऐसे में हम नागर विमानन मंत्रालय से इस बारे में बातचीत कर रहे हैं कि क्या वे इसे उदार करने की इच्छा रखते हैं.

अधिकारी ने कहा, ऐसा लगता है कि अगर आप 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति देते हैं, तो इससे एअर इंडिया की बोली की संभावनाएं बेहतर हो सकेंगी. नागर विमानन मंत्रालय को भी इसकी जानकारी है. हम यह मुद्दा उनके साथ भी उठा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: 1 नवंबर से बदल रही हैं आपके काम की ये चीजें, जान लें नहीं तो होगा नुकसान

एअर इंडिया पर 58 हजार करोड़ का कर्ज
एयरलाइन पर 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज का बोझ है. इसके अलावा उसका घाटा भी हजारों करोड़ रुपये का है. एक अंतर मंत्रालयी समूह की मंगलवार को होने वाली बैठक में अन्य चीजों के अलावा इस मुद्दे पर भी विचार विमर्श हो सकता है. अंतर मंत्रालयी समूह की बैठक में विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए एफडीआई नीति को और उदार करने पर विचार विमर्श होगा.
Loading...

अधिकारी ने कहा कि विभाग उन क्षेत्रों में नियमों को उदार करने पर विचार कर रहा है जहां अभी स्वत: मंजूर मार्ग से शतप्रतिशत एफडीआई की अनुमति नहीं है. चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून की अवधि में देश में एफडीआई का प्रवाह 28 प्रतिशत बढ़कर 16.33 अरब डॉलर पर पहुंच गया.

ये भी पढ़ें: 60 लाख तक की कमाई कर सकता है ये बिज़नेस, 1 लाख रुपये से हो जाएगा शुरू

SBI ने ग्राहकों को किया सावधान, जल्द अपनाएं ये उपाय वरना खाली हो जाएगा बैंक खाता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 9:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...