Anti-Covid-Drug 2DG: दवा की कीमत, डोज और कैसे करती है काम, जानिए सबकुछ

ये दवा कोरोनावायरस से संक्रमित शेल पर सीधा काम करेगी

ये दवा कोरोनावायरस से संक्रमित शेल पर सीधा काम करेगी

DRDO प्रमुख जी. सतीश रेड्डी ने कहा कि ये दवा कोरोनावायरस से संक्रमित शेल पर सीधा काम करेगी. शरीर का इम्यून सिस्टम काम करेगा और मरीज जल्दी ठीक होगा. ये एक ग्लूकोज एनालॉग है, जो ग्लूकोज जैसा दिखता है, लेकिन है नहीं.

  • Share this:

नई दिल्ली.  कोरोनावायरस (Coronavirus) के मरीजों के लिए DRDO की एंटी Covid दवा 2DG की पहली खेप लॉन्च हो चुकी है. 2DG पहली ऐसी दवा है, जिसे एंटी-Covid दवा कहा गया है. DCGI ने पिछले हफ्ते ही इस दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी. इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में इस दवा को एक गेम-चेंजर के रूप में देखा जा रहा है, क्योंकि ये अस्पताल में भर्ती मरीजों की तेजी से रिकवरी में मदद करती है और ऑक्सीजन सपोर्ट को भी कम करती है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कोरोनावायरस (Coronavirus) के मरीजों के लिए DRDO की एंटी Covid दवा 2DG की पहली खेप लॉन्च की है. इस कार्यक्रम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन और AIIMS के डायरेक्टर डॉ.रणदीप गुलेरिया भी मौजूद रहे.  


जानिए 2-DG के बारे में सबकुछ


निर्माता: इस दवा को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलाइड साइंसेज (INMAS) द्वारा विकसित किया गया है. हैदराबाद स्थित डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज एक पार्टनर रही है और ये सार्वजनिक उपयोग के लिए दवा का निर्माण कर रही है. 


ये भी पढ़ें -  पढ़ाई खत्म करने के कुछ दिनों बाद ही हैदराबाद की इस लड़की को माइक्रोसॉफ्ट ने ऑफर किया 2 करोड़ का पैकेज! जानिए सबकुछ



दवा कैसे करती है काम?

DRDO प्रमुख जी. सतीश रेड्डी ने कहा कि ये दवा कोरोनावायरस से संक्रमित शेल पर सीधा काम करेगी. शरीर का इम्यून सिस्टम काम करेगा और मरीज जल्दी ठीक होगा. ये एक ग्लूकोज एनालॉग है, जो ग्लूकोज जैसा दिखता है, लेकिन है नहीं. शरीर में तेजी से बढ़ रहे एक वायरस को ऊर्जा के लिए ग्लूकोज की जरूरत होती है. इस प्रकार, वायरस इस ग्लूकोज एनालॉग को ले लेगा और बेअसर हो जाएगा। दवा तब वायरस को बढ़ने से रोक देगी.





ऑक्सीजन लेवल गिरने से कैसे इलाज करेगी?

इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड एलाइड साइंसेज के डायरेक्टर, डॉ. अनिल मिश्रा ने ऑल इंडिया रेडियो को दिए एक इंटरव्यू में बताया है कि शरीर में वायरस तेजी से बढ़ता है, इसलिए ऑक्सीजन की मांग बढ़ जाती है. अगर वायरस को एक बर बढ़ने से रोक दिए जाए, तो ऑक्सीजन की कमी अपने आप सुधर जाती है और ये दवा वायरस को बढ़ने से रोकती है. 





दवा की कीमत

INMAS के वैज्ञानिक डॉ. सुधीर चंदना ने कहा है कि दवा की कीमत डॉ रेड्डीज की तरफ से तय की जाएगी, जो वैक्सीन की खुराक का निर्माण कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि किफायती कीमत को दिमग में रखते हुए ही, दवा की कीमत तय की जाएगी.



दवा की डोज

सुधीर चंदना ने कहा है कि ग्लूकोज पाउडर की तरह इस दवा को पानी के साथ दिन में दो बार ले सकते हैं. एक Covid-19 मरीजो को पूरी तरह से ठीक होने के लिए इस दवा को पांच से सात दिनों तक लेना पड़ सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज