Home /News /business /

काम की बात: अब जमीन का भी होगा ‘आधार’ नंबर, PM KISAN योजना में भी आएगा काम

काम की बात: अब जमीन का भी होगा ‘आधार’ नंबर, PM KISAN योजना में भी आएगा काम

वन नेशन वन रजिस्ट्रेशन (One Nation One Registration) प्रोग्राम के तहत 2023 तक जमीनों का डिजिटल रिकॉर्ड तैयार करने के लिये सरकार ने कमर कस ली है.

वन नेशन वन रजिस्ट्रेशन (One Nation One Registration) प्रोग्राम के तहत 2023 तक जमीनों का डिजिटल रिकॉर्ड तैयार करने के लिये सरकार ने कमर कस ली है.

देश में डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई कदम उठा रही है. बजट (Budget 2022) में भी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने लैंड रिकॉर्ड को डिजिटल फॉर्मेट में बदलने का ऐलान किया है. सरकार का इरादा वर्ष 2023 तक इस काम को पूरा करने का है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने बजट 2022 में डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए कई ऐलान किए थे. इनमें जमीनों के रिकॉर्ड का डिजिटलाइजेशन भी शामिल है. वन नेशन वन रजिस्ट्रेशन (One Nation One Registration) प्रोग्राम के तहत 2023 तक जमीनों का डिजिटल रिकॉर्ड तैयार करने के लिए सरकार ने कमर कस ली है. इसमें हर जमीन या खेत को एक पंजीकरण नंबर (Unique Registered Number-URN) दिए जाने की तैयारी की जा रही है. यह नंबर 14 अंक का हो सकता है.

    इस यूनिक नंबर (URN) से कोई भी व्‍यक्ति अपनी जमीन का पूरा रिकॉर्ड न केवल ऑनलाइन देख पाएगा, बल्कि डाउनलोड भी कर पाएगा. इससे लोगों को अपनी जमीन के कागजात हासिल करने में जहां आसानी होगी. वहीं, प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि (PM Kisan yojna) जैसी कई योजनाओं में भी इस URN का प्रयोग हो सकेगा.

    ये भी पढ़ें :  अगर आपने भी लगाया है Cryptocurrency में पैसा तो आज से ये काम भी करना शुरू कर दें, वरना…

    बनेगा पोर्टल, ड्रोन से नापी जाएगी जमीन
    केंद्र सरकार देश की पूरी जमीन का डाटा (Land Record) डिजिटल फार्मेट में एक ही जगह एकत्रित करने के लिए एक पोर्टल बनाएगी. इस डिजिटल पोर्टल (Digital Portal) पर ही सारा डेटा उपलब्‍ध होगा. कोई भी व्‍यक्ति इस पोर्टल पर अपनी जमीन का Unique Registered Number डालकर इसकी जानकारी निकाल सकेगा. इस नंबर को जमीन का आधार नंबर भी कहा जा सकता है.

    वन नेशन, वन रजिस्ट्रेशन प्रोग्राम के जरिये सरकार ड्रोन (Drone) की मदद से जमीन नापेगी. ड्रोन से जमीन पैमाइस (Land Calculation) से किसी तरह की गलती या गड़बड़ी की आशंका नहीं होगी. इसके बाद इस पैमाइश को सरकारी डिजिटल पोर्टल (Digital Portal) पर उपलब्ध करा दिया जाएगा. गौरतलब है कि हरियाणा में राज्‍य सरकार ने गांवों को लाल डोरा मुक्‍त करने के लिए गांव में घरों और प्‍लाटों की पैमाइश ड्रोन से की है. ड्रोन का प्रयोग इसमें बहुत सफल रहा है.

    ये भी पढ़ें :  Budget 2022: क्‍या वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लगाया है विकास पर बड़ा दांव!

    यह होगा फायदा
    URN से कोई भी व्यक्ति अपनी जमीन की पूरी डिटेल्स और कागजात आसानी से देख पाएगा. इससे आम लोगों को कागजात लेने के लिए तहसील के चक्‍कर नहीं लगाने पड़ेंगे. जमीन खरीदने व बेचने में भी पारदर्शिता आएगी. प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि जैसी कई योजनाओं में जमीन की जानकारी देनी होती है तथा जमीन संबंधी कागजात अपलोड करने होते हैं. ऐसी योजनाओं में URN ही बाद में काम आ सकेगा और कागजात देने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

    Tags: Budget, Digital India, FM Nirmala Sitharaman

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर