15 दिन तक सस्ता रहने के बाद फिर महंगा हो जाएगा काजू-बादाम, जनिए अभी के रेट

अभी भी बाज़ार में मेवा का सिर्फ 25% से 30% ही ग्राहक दिखाई दे रहे हैं.
अभी भी बाज़ार में मेवा का सिर्फ 25% से 30% ही ग्राहक दिखाई दे रहे हैं.

व्यापारियों का कहना है कि काजू-बादाम जैसे मेवा को सस्ते में खरीदने के लिए कुछ ही दिन बचे हैं. खारी बावली (Khari Baoli) दिल्ली में बैठे कारोबारियों (Businessman) की मानें तो 15 दिन मेवाओं के रेट में तेजी आ जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 22, 2020, 6:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अनलॉक (Unlock) के बाद से ही बाज़ार में काजू-बादाम (Almond) समेत सभी मेवा सस्ती बनी हुई है. मामूली उतार-चढ़ाव का छोड़ दें तो कोई बड़ा उलटफेर मेवाओं के रेट में नहीं आया है. लॉकडाउन (Lockdown) से पहले और बीते साल के रेट को देखें तो मेवा सस्ती बिक रही है. लेकिन सस्ती मेवा खरीदने का मौका अब बस कुछ ही दिन का और रह गया है. खारी बावली (Khari Baoli), दिल्ली में बैठे कारोबारियों (Businessman) की मानें तो 15 दिन मेवाओं के रेट में तेजी आ जाएगी. अभी जो बादाम 600 रुपये के अंदर ही अंदर बिक रहा है वो 700 रुपये भी पहुंच सकता है.

अभी बाज़ार में हैं सिर्फ 25 से 30 फीसद ग्राहक

खारी बावली, दिल्ली मार्केट एसोसिएशन के चेयरमैन राजीव बत्रा ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि बीते काफी वक्त से बाज़ार में ग्राहक नहीं है. अभी भी बाज़ार में मेवा का सिर्फ 25 से 30 फीसद ही ग्राहक दिखाई दे रहा है. इसकी एक बड़ी वजह कोरोना-लॉकडाउन का असर तो है ही लेकिन अभी दिवाली जैसा बड़ा त्योहार भी निकला है. अब एक तारीख के बाद ही ग्राहक बाज़ार में निकलेगा जब उसकी सैलरी आ जाएगी. वैसे भी यह बाज़ार का पुराना चलन है कि त्योहार के बाद का पूरा महीना मंदी में ही जाता है.



ये भी पढ़ें- COVID-19 in Delhi: सिर्फ मास्क ही नहीं, घर के बाहर यह 4 चार काम करने पर भी कटेगा 2 हज़ार रुपये का चालान
अभी थोक बाज़ार में यह है मेवा का रेट

बादाम अमेरिकन 525 से 580

काजू 660 से 710

किशमिश 200 से 230 (किशमिश की कई वैराइटी होती हैं.)

अखरोट की गिरी 800 से 850

शादी-समारोह से भी पड़ेगा फर्क

दिल्ली सरकार ने शादी-समारोह के लिए मेहमानों की संख्या 200 से घटाकर 50 कर दी है. लड़का-लड़की पक्ष को मिलाकर अब सिर्फ 50 मेहमान ही शादी समारोह में शामिल हो सकेंगे. लेकिन इसका भी एक बड़ा असर मेवा बाज़ार पर पड़ेगा. मेहमानों की संख्या कम होने से खाना कम बनेगा तो सामान भी कम ही खरीदा जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज