आम आदमी के लिए बड़ी खबर: दिवाली से पहले 300 रुपये किलो तक सस्ते हुए काजू, बादाम और पिस्ता

 बीते कुछ दिनों में दाम ड्राइ फ्रूट्स के दाम 300 रुपये प्रति किलोग्राम तक गिर गए हैं.
बीते कुछ दिनों में दाम ड्राइ फ्रूट्स के दाम 300 रुपये प्रति किलोग्राम तक गिर गए हैं.

Dry Fruits Rates: दिवाली और सर्दियों के पहले देश में ड्राई फ्रूट्स की कीमतें तेजी से गिर रही है. बीते कुछ दिनों में दाम 300 रुपये प्रति किलोग्राम गिर गए है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2020, 11:43 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मेवा का कारोबार करने वालों के लिए इस दीवाली का बाज़ार खासा चौंकाने वाला है. सर्दियों की आमद और दीवाली पर दिए जाने वाले गिफ्ट के चलते अक्टूबर में मेवा बाज़ार गर्म रहता था. जामा मस्जिद और खारी बावली में बैठे थोक कारोबारियों को क्विंटल के हिसाब से ऑर्डर मिलने लगते थे. या यों कहिए कि ऑर्डर पूरे किए जाने का वक्त होता था. लेकिन कई सालों बाद इस मौके पर भी मेवाओं के दाम गिरे हुए हैं. बावजूद इसके ग्राहक नहीं हैं. मिठाई कारोबारियों की मानें तो ऐसा भी नहीं है कि दीवाली पर गिफ्ट देने वाले मिठाई की तरफ लौट आए हैं.

300 रुपये किलो तक कम हुए काजू, बादाम पिस्ता के दाम
चित्ती कब्र, जामा मस्जिद के पास मसालों और मेवा का थोक-रिटेल दोनों कारोबार करने वाले नूरी मसाले के संचालक मौहम्मद आज़म ने न्यूज18 हिंदी से बातचीत में बताया, “हम 90 साल से इस कारोबार में हैं. लेकिन ऐसा बाज़ार हमने आजतक नहीं देखा है. सर्दियों की आमत अक्टूबर और दीवाली को देखते हुए यह वक्त पूरी तरह से मेवा बाज़़ार का हुआ करता था. दूसरा यह कि शादी-ब्याह के ऑर्डर भी आते थे. लेकिन बड़े ही अफसोस की बात है कि सीजन में मेवा के दाम गिर रहे हैं. मेवा पर इतना फर्क तो गर्मी में भी नहीं आता है.” मौहम्मद आज़म के मुताबिक-

(1) अमेरिकन बादाम 900 से 660 पर आ चुका है.
(2) काजू 1100 से 950 रुपये किलो पर आ चुका है.


(3) पिस्ता 1400 से 1100 रुपये किलो पर आ चुका है.
(4) किशमिश 400 रुपये किलो से उतरकर 350 पर बिक रही है.



ये भी पढ़ें-जानिए भारत में बिकने वाले सबसे महंगे अंडे के बारे में, इसे खरीदने के लिए करानी होती है बुकिंग




मिठाई के नहीं आए 10 फीसदी भी ऑर्डर-जाने-माने पुष्पक मिठाई भंडार के मालिक शरद बताते हैं, “ दीवाली से एक महीने पहले हम मेवा, खोया, दूध और दूसरी जरूरी चीज़ों के ऑर्डर देना शुरु कर देते थे. साथ ही कारीगरों की संख्या भी बढ़ा देते थे. इसके साथ ही ऑर्डर आना भी शुरु हो जाते थे. लेकिन यह पहला मौका है जब दीवाली के इतना पास होने के बाद भी हमारे पास मिठाई के 10 फीसद ऑर्डर भी नहीं आए हैं. दीवाली पर जो हमारे बड़े ग्राहक हुआ करते थे उनके भी अभी तक फोन नहीं आए हैं. इतना ही नहीं हम दीवाली पर मेवा के गिफ्ट पैक भी तैयार करते थे. लेकिन वो बाज़ार भी अभी ठंडा ही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज