GST अधिकारी कमर्शियल वाहनों का रियल टाइम कर सकेंगे ट्रैक, E-way बिल फास्टैग से जुड़ा

फास्टैग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

फास्टैग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जीएसटी अधिकारियों को अब नेशनल हाईवेज पर चलने वाले कमर्शियल वाहनों की आवाजाही के वास्तविक समय की जानकारी भी हासिल होगी.

  • Share this:

नई दिल्ली. जीएसटी अधिकारियों को अब नेशनल हाईवेज पर चलने वाले कमर्शियल वाहनों की आवाजाही के वास्तविक समय की जानकारी भी हासिल होगी. कमर्शियल वाहनों द्वारा लिए जाने वाले ई-वे बिल (E-way Bill) सिस्टम को अब फास्टैग (FASTag) और आरएफआईडी (RFID) के साथ जोड़ दिया गया है. इससे कमर्शियल वाहनों पर सटीक नजर रखी जा सकेगी और जीएसटी चोरी का पता चल सकेगा.

जीएसटी अधिकारियों की ई-वे बिल मोबाइल एप में यह नया फीचर जोड़ दिया गया है. इसके जरिए वह ई- वे बिल का वास्तविक ब्योरा जान सकेंगे. इससे उन्हें कर चोरी करने वालों को पकड़ने और ई-वे बिल सिस्टम का दुरुपयोग करने वालों को पकड़ने में मदद मिलेगी.

ई-वे बिल सिस्टम में रोजाना औसतन 25 लाख मालवाहक वाहनों की आवाजाही

जीएसटी टैक्स के तहत 28 अप्रैल, 2018 से व्यापारियों और ट्रांसपोटरों को पचास हजार रुपये से अधिक मूल्य का सामान की अंतरराज्यीय बिक्री और खरीद पर ईवे-बिल बनाना और दिखाना अनिवार्य है. ई-वे बिल सिस्टम में रोजाना औसतन 25 लाख मालवाहक वाहनों की आवाजाही देश के 800 से अधिक टोल नाकों से होती है.
ये भी पढ़ें- Aadhaar में बदलवाना है नाम, एड्रेस और DoB तो काम आएंगे ये डॉक्युमेंट्स, चेक कर लें लिस्ट

इस नई प्रक्रिया से अधिकारी उन वाहनों की रिपोर्ट देख सकेंगे जिन्होंने पिछले कुछ मिनटों के दौरान बिना ई-वे बिल के टोल नाकों को पार किया है. साथ ही किसी राज्य के लिए आवश्यक वस्तु ले जा रहे वाहनों के टोल को पार करने की रिपोर्ट को भी देखा जा सकेगा. टैक्स अधिकारी वाहनों के संचालन की समीक्षा करते समय इन रिपोर्टों का उपयोग कर सकेंगे.

एमआरजी एसोसिएट्स के वरिष्ठ पार्टनर रजत मोहन ने कहा, ''कमर्शियल वाहनों की आवाजाही और वस्तुओं पर नजर रखने के लिए वाहनों की सटीक जानकारी से कर चोरी रोकने में मदद करेगी.''



पिछले महीने सरकार ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि मार्च 2021 तक यानी पिछले तीन साल के दौरान देश में कुल 180 करोड़ इवे-बिल जारी किए गए. जिसमें से टैक्स अधिकारियों द्वारा केवल सात करोड़ इवे-बिल की ही पुष्टि की जा सकी. सरकार के आंकड़ों के अनुसार गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडु और कर्नाटक में अंतर-राज्यीय आवाजाही के लिए सबसे अधिक ई-वे बिल सृजित किए जाते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज