40 रुपये वाला ये शेयर कुछ ही दिनों में दिलाएगा मोटा फायदा, जानें कैसे करें खरीदारी?

आवासीय परिसर, सड़क और गलियों में कचरा फेंकने पर 100 रुपये और दुकानों से कचरा सड़क पर फेंकने पर 1000 रुपये जुर्माना वसूला जाएगा.

एसएमसी ग्लोबल सिक्योरिटीज (SMC Global Securities) ने अपनी नई रिपोर्ट में कैप्टेन पॉलीप्लास्ट लिमिटेड (CPL) के शेयर्स खरीदने की सलाह दी है. इन शेयर्स को 55 रुपये के टारगेट के लिए खरीदने की सलाह दी गई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: इस समय अगर आप किसी शेयर में पैसा लगाने का प्लान बना रहे हैं या फिर बाजार से कमाई करने के लिए कोई सस्ता स्टॉक देख रहे हैं तो यह खबर आपके काफी काम की है. एसएमसी ग्लोबल सिक्योरिटीज (SMC Global Securities) ने अपनी नई रिपोर्ट में कैप्टेन पॉलीप्लास्ट लिमिटेड (CPL) के शेयर्स खरीदने की सलाह दी है. इन शेयर्स को 55 रुपये के टारगेट के लिए खरीदने की सलाह दी गई है. आखिरी कारोबारी दिन CPL का क्लोजिंग प्राइस 40 रुपये था.

    कंपनी ने पेश किए अच्छे रिजल्ट्स
    बीएसई लिस्टेड कैप्टन पॉलीप्लास्ट लिमिटेड ने अच्छे रिजल्ट पेश किए हैं, जिसमें कंपनी ने चौथी तिमाही में 63 फीसदी QoQ ग्रोथ दर्ज की है. इसके साथ ही अंकित मूल्य पर 2 फीसदी लाभांश की भी घोषणा की है. CPL ने वित्त वर्ष 2015-FY20 में अपने राजस्व को लगभग 99 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 186 करोड़ रुपये कर दिया है, जबकि इसी अवधि में EBITDA 2 गुना से अधिक और PAT 5.4 गुना बढ़ा है.




    यह भी पढ़ें: Crorepati Calculator: PPF में पैसा लगाने पर मिलेंगे 1 करोड़ रुपये, जानें कैसे बनेंगे आप करोड़पति?

    आपको बता दें आंध्र प्रदेश में सक्रिय उत्पादन की नई यूनिट के साथ, कंपनी में अतिरिक्त सुविधाएं लगाए बिना 250 करोड़ रुपये के राजस्व तक पहुंचने की क्षमता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी को अगले कुछ वर्षों में स्थिर मार्जिन के साथ पीएटी में 20 फीसदी सीएजीआर देने की उम्मीद है.

    जानें कंपनी के बारे में
    CPL एक माइक्रो इरिगेशन सॉल्युशन प्रोवाइडर और मैन्युफैक्चरर/सप्लायर है. सीपीएल के पास राजकोट (गुजरात) और कुरनूल (आंध्र प्रदेश) में मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी के साथ सूक्ष्म सिंचाई समाधानों की एक पूरी श्रृंखला है. कंपनी का भारत में 16 राज्यों में मार्केटिंग और डिस्ट्रीव्यूशन नेटवर्क है, जो भारत में माइक्रो इरिगेशन मार्केट काल लगभग 90 फीसदी भाग कवर करता है. इसके 18 बिक्री कार्यालय, 11 डिपो और 250 सदस्यों वाली एक मार्केटिंग टीम द्वारा है. CPL उत्तरी, पश्चिमी और दक्षिणी हिस्सों में 750 डीलर के साथ काम करता है. इसके अलावा कंपनी खाड़ी, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के निर्यात बाजारों में अपने प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट करती है.

    हाल के घटनाक्रमों में, सीपीएल ने कुरनूल संयंत्र में 2 PVC लाइनों और 1 HDPE/स्प्रिंकलर लाइन के साथ क्षमता विस्तार पूरा कर लिया है. इसके अलावा, सीपीएल सौर ईपीसी सेगमेंट में अपनी उपस्थिति बढ़ा रहा है और खुदरा, वाणिज्यिक और बड़े पैमाने पर परियोजना अनुप्रयोगों के लिए देश भर में समर्पित टीमों की स्थापना की है. अब तक कंपनी ने 340+ ग्राहकों के बीच 1,500KW से अधिक की क्षमता वाली सौर EPC परियोजनाओं को सफलतापूर्वक पूरा किया है. वर्तमान में, उनके पास 5,000KW की पाइपलाइन में ऑर्डर हैं और इस वित्तीय वर्ष में अतिरिक्त परियोजनाओं को अंतिम रूप देने और निष्पादित किए जाने की उम्मीद है.

    क्या बोले कंपनी के चेयरमैन
    कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर रमेश रमेश खिचड़िया ने कहा कि माइक्रो इरिगेशन प्रोडक्ट्स की बढ़ती डिमांड से कंपनी का काफी विकास हुआ है. सरकार ने वित्त वर्ष 2022 के बजट में सूक्ष्म सिंचाई के लिए 10000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, जो अगले 5 वर्षों में 10 मिलियन हेक्टेयर को कवर करने के उद्देश्य से पिछले वर्षों में आवंटित धन का लगभग दोगुना है. उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि आने वाले वित्तीय वर्ष में सूक्ष्म सिंचाई के हमारे मुख्य व्यवसाय को इस विकास से लाभ होगा.

    यह भी पढ़ें: अब 5 और 10 रुपये का वैष्णो माता वाला सिक्का आपको बनाएगा मालामाल, मिलेंगे 10 लाख रुपये, जानें कैसे?

    Q4 के दौरान, हमने दक्षिणी राज्यों में प्राप्त पीवीसी पाइपों की मजबूत बिक्री के कारण कुरनूल में विनिर्माण क्षमता का विस्तार किया है. अतिरिक्त क्षमता से हमें इन राज्यों में खुदरा पाइप वितरण नेटवर्क का विस्तार करने में मदद मिलेगी. हमने इस वर्ष के दौरान तेजी से बढ़ते सौर ईपीसी सेमगेंट पर भी अपना ध्यान केंद्रित किया है, जिससे हमारे शीर्ष विकास में और मदद मिलने की उम्मीद है.

    रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी का सकल मार्जिन वित्त वर्ष 2015 में 31.6 फीसदी से बढ़कर वित्त वर्ष 2015 में 39.2 फीसदी हो गया है, जबकि इसी अवधि में EBITDA मार्जिन 13.3 फीसदी से बढ़कर 15.2 फीसदी हो गया है. काफी अच्छे EBITDA मार्जिन के साथ, कंपनी पिछले पांच वर्षों में औसतन 16.5 फीसदी का आरओई और 21.8 फीसदी का आरओसीई देने में सक्षम रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.