होम /न्यूज /व्यवसाय /क्या सच में केंद्र सरकार इस योजना के तहत सभी बेटियों को दे रही 1.50 लाख रुपये? जानें डिटेल

क्या सच में केंद्र सरकार इस योजना के तहत सभी बेटियों को दे रही 1.50 लाख रुपये? जानें डिटेल

प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना (PM Kanya Ashirwad Yojana)

प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना (PM Kanya Ashirwad Yojana)

एक यूट्यूब वीडियो में दावा किया गया है कि केंद्र की मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना की शुरुआत की है और ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सरकार प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना के तहत सभी बेटियों को 1.50 लाख रुपये दे रही है.
सरकार ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से इस मैसेज से जुड़ी सच्चाई शेयर की है.
क्या है इस वीडियों का सच, चलिए जानते हैं.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Modi Govt) देश की बेटियों के लिए कई योजनाएं चला रही है. जिसके तहत गरीबों और जरूरतमंदों को आर्थिक सहायता दी जाती है. इन दिनों एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि सरकार प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना (PM Kanya Ashirwad Yojana) के तहत सभी बेटियों को 1.50 लाख रुपये दे रही है. सरकार ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से इस मैसेज से जुड़ी सच्चाई शेयर की है. आइए जानते हैं मैसेज का सच…

क्या कहा गया है वायरल मैसेज में
एक यूट्यूब वीडियो में दावा किया गया है कि केंद्र की मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री कन्या आशीर्वाद योजना की शुरुआत की है और सरकार इस योजना के तहत हर लड़की को 1,50,000 रुपये की आर्थिक मदद दे रही है.

ये भी पढ़ें: ₹40 से ₹130 पर पहुंचा ये मल्टीबैगर ब्रेवरी स्टॉक, एक साल में शेयरधारकों के पैसे हो गए तीन गुना

सरकार ने मैसेज को बताया फर्जी
पीआईबी फैक्ट चेक ने ट्वीट कर इस खबर की सच्चाई बताई है. पीआईबी ने अपने ट्विटर से इसको लेकर आगाह किया है कि सरकार ऐसी कोई स्कीम नहीं चला रही है और ये मैसेज पूरी तरह फर्जी है.

आप भी करा सकते हैं फैक्ट चेक
बता दें कई बार सोशल मीड‍िया के दौर में गलत खबरों वायरल होने लगती हैं. अगर आपको आपके सोशल मीड‍िया अकाउंट या वाट्सऐप पर आई क‍िसी खबर पर शक हो रहा है तो आप पीआईबी के जरिए फैक्ट चेक करा सकते हैं. इसके लिए आपको ऑफिशियल लिंक https://factcheck.pib.gov.in/ पर विजिट करना है. इसके अलावा आप व्‍हाट्सएप नंबर 8799711259 या ईमेलः pibfactcheck@gmail.com पर जानकारी भेज सकते हैं.

Tags: Business news in hindi, PIB fact Check, Small Saving Schemes

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें