लाइव टीवी

15 फरवरी से कंपनी खोलने में नहीं लगेगा ज्यादा समय, सरकार उठा रही ये कदम

भाषा
Updated: February 9, 2020, 4:13 PM IST
15 फरवरी से कंपनी खोलने में नहीं लगेगा ज्यादा समय, सरकार उठा रही ये कदम
कंपनी शुरू करने की मंजूरियों का ‘समय’ और घटाएगी सरकार

कॉरपोरेट मामलों का मंत्रालय (Ministry of Corporate Affairs) 10 सेवाओं की पेशकश के लिए ‘स्पाइसईप्लस’ (SPICe Plus) नाम से ई फार्म शुरू करने जा रहा है. अभी मंत्रालय का इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म स्पाइस (इलेक्ट्रॉनिक तरीके से कंपनी के गठन का सरलीकृत प्रारूप) है. SPICe+ इसका स्थान लेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. कारोबार सुगमता बढ़ाने के लिए सरकार 15 फरवरी से नई कंपनियों के गठन के लिए एकीकृत इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म लागू करेगी. इसके तहत कंपनी को ईपीएफओ (EPFO) और ईएसआईसी (ESIC) पंजीकरण संख्या तत्काल आवंटित कर दी जाएगी. कॉरपोरेट मामलों का मंत्रालय (Ministry of Corporate Affairs) 10 सेवाओं की पेशकश के लिए ‘स्पाइसईप्लस’ (SPICe Plus) नाम से ई फार्म शुरू करने जा रहा है. अभी मंत्रालय का इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म स्पाइस (इलेक्ट्रॉनिक तरीके से कंपनी के गठन का सरलीकृत प्रारूप) है. SPICe+ इसका स्थान लेगा. मंत्रालय ने सार्वजनिक सूचना में कहा कि इस फॉर्म के जरिये दी जाने वाली 10 सेवाओं की पेशकश से देश में कारोबार शुरू करने के लिए प्रक्रियाओं में कमी आएगी, समय की बचत होगी और लागत घटेगी.

15 फरवरी से मिलेगी सुविधा
श्रम मंत्रालय, वित्त मंत्रालय में राजस्व विभाग और महाराष्ट्र सरकार इस फॉर्म के जरिये कुछ और सेवाएं भी पेश करने जा रही हैं. 15 फरवरी से गठित होने वाली नई कंपनियों के लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) और कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) का पंजीकरण अनिवार्य होगा. नोटिस में कहा गया है कि संबंधित एजेंसियों द्वारा ईपीएफओ और ईएसआईसी पंजीकरण नंबर अलग से नहीं जारी किए जाएंगे. ये भी पढ़ें: GST चोरी रोकने के लिए सरकार का नया प्लान, 15 फरवरी से कारोबारियों को देनी होगी ये जानकारी



इसके अलावा महाराष्ट्र में 15 फरवरी से गठित कंपनियों के लिए पेशेवर कर (Profession Tax) के लिए पंजीकरण अनिवार्य होगा. नाम आरक्षण और कंपनी गठन के अलावा ईपीएफओ और ईएसआईसी पंजीकरण नंबर भी जारी किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: इन रूट्स पर दौड़ेगी टाटा, अडानी और Hyundai की ट्रेनें, जानिये कितना होगा किराया?

एक फॉर्म के जरिए खुलेंगे ये खातेइस फॉर्म के जरिये अनिवार्य रूप से स्थायी खाता संख्या (PAN), कर कटौती और संग्रह खाता संख्या (TAN), पेशेवर कर पंजीकरण (महाराष्ट्र) आपैर कंपनी के बैंक खाता खोलने का काम किया जाएगा. यदि निदेशक पहचान संख्या (DIN) और जीएसटीआईएन (GSTIN) के लिए आवेदन किया जाता है तो उसका भी आवंटन किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: 

बदलने वाला है इन 3 सरकारी बैंकों का नाम, अब ग्राहकों के लिए जरूरी है इन 5 कामों को निपटाना
मोदी सरकार की मदद से ऐसे शुरू करें बिजनेस, 25 फीसदी सब्सिडी के साथ आसानी से ​मिलेगा 25 लाख तक का लोन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 9, 2020, 4:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर