Home /News /business /

आर्थिक सुधार की रफ्तार बढ़ी, अक्टूबर में मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई बढ़कर 55.9 रही

आर्थिक सुधार की रफ्तार बढ़ी, अक्टूबर में मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई बढ़कर 55.9 रही

manufacturing activity

manufacturing activity

1 नवंबर को जारी मासिक आईएचएस मार्किट इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) सर्वेक्षण के अनुसार, अक्टूबर में विनिर्माण पीएमआई 55.9 रहा. यह सितंबर में 53.7 और अगस्त में 52.3 था.

    नई दिल्ली . देश में आर्थिक सुधार की रफ्तार तेजी से सुधर रही है. कोरोना प्रतिबंधों के हटने के बाद देश में manufacturing activity बढ़ रही है. 1 नवंबर को जारी मासिक आईएचएस मार्किट इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) सर्वेक्षण के अनुसार, अक्टूबर में विनिर्माण पीएमआई 55.9 के स्तर पर पहुंच गया. यह सितंबर में 53.7 और अगस्त में 52.3 था. पीएमआई की भाषा में 50 से ऊपर का मतलब विस्तार होता है जबकि 50 से नीचे का स्कोर संकुचन को दर्शाता है.

    बेहतर बाजार विश्वास, ग्राहकों के बीच बढ़ती आवश्यकताओं और सफल विपणन की रिपोर्टों के बीच, अक्टूबर में नए ऑर्डर का विस्तार जारी रहा. उठाव तेज था और सात महीनों में सबसे तेज था. इसी तरह, कारखाने के उत्पादन में तेज गति से वृद्धि हुई जो मार्च के बाद से सबसे मजबूत थी.

    जुलाई में पीएमआई इंडेक्स 50 के नीचे
    policymakers के लिए यह एक अच्छी खबर है. जुलाई में पीएमआई इंडेक्स 50 के नीचे चला गया था, जो मंदी की निशानी होती है. इस लिहाज से पीएमआई का महीने दर महीने बढ़ना अच्छा संकेत है.

    यह भी पढ़ें- LPG Cylinder Price: कॉमर्शियल सिलेंडर का दाम आज से 266 रुपए बढ़ गया, जानिए क्या चल रहा रेट ?

    आमतौर पर बिजनेस और मैन्युफैक्चरिंग माहौल का पता लगाने के लिए ही पीएमआई का सहारा लिया जाता है. पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स को 1948 में अमेरिका स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ सप्लाई मैनेजमेंट (आईएसएम) ने शुरू किया जो कि सिर्फ अमेरिका के लिए काम करती है. जबकि मार्किट ग्रुप दुनिया के अन्‍य देशों के लिए काम करती है, जो 30 से ज्‍यादा देशों में करती है.

    यह दुनिया भर में कारोबारी गतिविधियों के लिए सबसे ज्यादा देखा जाने वाला सूचकांक है. कंपनी अपनी पीएमआई आंकड़ों को स्‍पॉर्सर के नाम के साथ प्रदर्शित करती है. फिलहाल निक्‍केई पीएमआई आंकड़ों के आधार पर भारत में इकोनॉमी की दिशा का अनुमान लगाया जाता है. इससे पहले यही आंकड़ें एचएसबीसी पीएमआई के नाम से जारी होते थे.

    Tags: Business, Business news, Manufacturing and exports, Manufacturing sector, PMI

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर