खत्म नहीं हुई ऑटो सेक्टर में मंदी, वित्त मंत्री ने बताई स्लोडाउन की वजह

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 12:18 PM IST

ऑटो इंडस्ट्री में गिरवाट का दौर जारी है. ये सिलसिला अगस्त में भी देखने को मिला है. मारुति सुजुकी इंडिया, ह्युंदै, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और होंडा सहित सभी प्रमुख वाहन निर्माताओं ने बिक्री में भारी गिरावट की सूचना दी है. ऑटो सेक्टर की दिक्कतों को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि BS-4 से BS-6 में जाने के फैसले से ऑटो सेक्टर में दिक्कतें आई लेकिन ये फैसला सुप्रीम कोर्ट के आदेश से हुआ, इसमें सरकार का कोई रोल नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2019, 12:18 PM IST
  • Share this:
ऑटो इंडस्ट्री में गिरवाट का दौर जारी है. ये सिलसिला अगस्त में भी देखने को मिला है. मारुति सुजुकी इंडिया, ह्युंदै, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और होंडा सहित सभी प्रमुख वाहन निर्माताओं ने बिक्री में भारी गिरावट की सूचना दी है. ये गिरवाट लगातार 10 महीने से जारी है. बता दें कि अगस्त महीने में भी कारों की बिक्री में 29 फीसदी की गिरावट आई है. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की कारों की बिक्री में तो 36 फीसदी की भारी गिरावट आई है. ऑटो सेक्टर की दिक्कतों को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि BS-4 से BS-6 में जाने के फैसले से ऑटो सेक्टर में दिक्कतें आई लेकिन ये फैसला सुप्रीम कोर्ट के आदेश से हुआ, इसमें सरकार का कोई रोल नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि ये फैसला 2 साल पुराना है जिसका असर अब देखने को मिल रहा है.

इसके बाद ऑटो सेक्टर की उम्मीदें 20 सितंबर को होने वाली जीएसटी बैठक पर टिकी हैं कि आखिर सरकार इसमें क्या बदलाव करेगी. ऑटो इंडस्ट्री मांग कर रही है कि कारों पर जीएसटी रेट 28 से घटाकर 18 फीसदी कर दिया जाए.

लगातार दूसरे महीने मारुति की बिक्री 1 लाख से भी कम
अगस्त महीने में मारुति सुजुकी ने महज 93,173 कारों की बिक्री की है, जबकि पिछले साल इसी महीने में मारुति ने 1,45,895 कारों की बिक्री की थी. लगातार दूसरे महीने मारुति की बिक्री 1 लाख कारों से कम हुई है. इसके अलावा हुंडई मोटर इंडिया और महिंद्रा ऐंड महिंद्रा का भी प्रदर्शन खराब रहा है, जबकि दोनों कंपनियों ने पिछले 12 महीनों में कई नए मॉडल लॉन्च किए हैं.

ये भी पढ़ें: सितंबर में कब-कब बंद रहेंगे बैंक, यहां देखें पूरी लिस्ट

जिन ऑटो कंपनियों ने नए मॉडल नहीं लॉन्च किए उनकी हालत तो और ही खराब रही है. होंडा कार्स की बिक्री में 51.3 फीसदी और टोयोटा की बिक्री में 24.1 फीसदी की गिरावट देखी गई. टाटा मोटर्स की बिक्री में तो 58 फीसदी की भारी गिरावट देखी गई. हालांकि कंपनी का कहना है कि कम आंकड़े असल में इन्वेंटरी करेक्शन की वजह से हैं.

पिछले साल अक्टूबर में दिखी थी भारी बढ़त
Loading...

घरेलू ऑटो इंडस्ट्री अब तक के सबसे खराब दौर से गुजर रही है. पिछले 14 में से 13 महीनों में ऑटो सेल्स में गिरावट देखी गई है. इसके पहले पिछले साल अक्टूबर में ही बिक्री में कुछ बढ़त देखी गई थी. चिंताजनक बात यह है कि गिरावट का आंकड़ा पिछले कुछ महीनों में लगातार गिरता ही जा रहा है. देश की शीर्ष 6 कार कंपनियों द्वारा रविवार को जारी बिक्री के आंकड़ों से पता चलता है कि अगस्त में कारों की बिक्री में 29 फीसदी की भारी गिरावट आई है.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार का नया प्लान! अगर कटी बिजली, आपको पैसे देगी कंपनी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 12:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...