पीएम मोदी के सपने को पूरा करने के लिए इस शख्स ने बनाया सबसे बड़ा प्लान

देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) प्रोफेसर केवी सुब्रमण्यन है. इन्होंने ही आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19 (Economic Survey 2018-19) बनाया है. मुख्य आर्थिक सलाहकार का प्रमुख काम विदेश व्यापार और औद्योगिक विकास के मुद्दों पर सलाह देते हैं.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 1:43 AM IST
पीएम मोदी के सपने को पूरा करने के लिए इस शख्स ने बनाया सबसे बड़ा प्लान
ये हैं वो शख्स जिसने दी देश की आर्थिक सेहत की पूरी जानकारी
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 1:43 AM IST
राज्यसभा में देश की आर्थिक सेहत की जानकारी से जुड़ा आर्थिक सर्वे पेश किया गया है. इसमें बताया गया है कि कैसे देश साल 2025 तक 5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनेगा. साथ ही, अगले एक साल के दौरान देश की आर्थिक ग्रोथ 7 फीसदी से ज्यादा रहने का अनुमान है. आपको बता दें कि इस रिपोर्ट को तैयार करने वाले देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) प्रोफेसर केवी सुब्रमण्यन है. इन्होंने ही आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19 (Economic Survey 2018-19) बनाया है.  मुख्य आर्थिक सलाहकार का प्रमुख काम विदेश व्यापार और औद्योगिक विकास के मुद्दों पर नीतिगत सलाह देते हैं. वह वित्त मंत्रालय के अधीन काम करता है.

देश के पहले मुख्य आर्थिक सलाहकार जे.जे. अंजरिया थे, वे वर्ष 1956 से वर्ष 1961 के बीच देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे.

आइए जानें जानिए मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम के बारे में...

(1) केवी सुब्रमण्यन बैंकिंग, कॉर्पोरेट गवर्नेंस तथा आर्थिक नीति में विश्व के अग्रणी विशेषज्ञों में से एक हैं. कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम भारत के 17वें मुख्य आर्थिक सलाहकार हैं.

(2) केंद्र सरकार ने 07 दिसम्बर 2018 को केवी सुब्रमण्यन को मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया था, उनका कार्यकाल तीन वर्ष का है. कृष्णमूर्ति ने अरविंद सुब्रमण्यन की जगह ली थी. अरविंद सुब्रमण्यन ने 20 जून 2018 को व्यक्तिगत कारणों से मुख्य आर्थिक सलाहकार के पद से इस्तीफा दिया था. हाल ही में अरविन्द सुब्रमण्यन ने केंद्र सरकार की नीतियों पर भी निशाना साधा है.

ये भी पढ़ें-क्या है इकोनॉमिक सर्वे, कैसे डालता है यह बजट पर असर?

मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) प्रोफेसर केवी सुब्रमण्यन

Loading...

(2) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में पढ़ चुके केवी सुब्रमण्यन ने शिकागो विश्वविद्यालय के बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस से वित्तीय अर्थशास्त्र में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है.

(3) सुब्रमण्यन वैकल्पिक निवेश नीति, प्राथमिक बाजार, माध्यमिक बाजार और रिसर्च पर बनी सेबी की कमिटी का भी हिस्सा रहे हैं.

ये भी पढ़ें-देश की GDP ग्रोथ 7% रहने का अनुमान, सरकार ने दी देश की आर्थिक सेहत की पूरी जानकारी

(4)  एकेडमिक करियर की शुरुआत से पहले केवी सुब्रमण्यन न्यूयॉर्क में जेपी मॉर्गन चेज के साथ कंसल्टेंट के तौर पर काम कर चुके हैं.

(5) सुब्रमण्यन सेबी की वैकल्पिक निवेश नीति, प्राथमिक बाजार, द्वितीयक बाजार एवं शोध पर स्थायी समितियों के सदस्य रह चुके हैं.

 
आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 1:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...