लाइव टीवी

इस साल 5.2 फीसदी रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ रेट, रिपोर्ट में दावा

News18Hindi
Updated: September 30, 2019, 6:43 PM IST
इस साल 5.2 फीसदी रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ रेट, रिपोर्ट में दावा
चालू वित्त वर्ष में 5.2 फीसदी ही रहेगी जीडीपी दर

इकनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट (Economist Intelligence Unit) ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 5.2 फीसदी ही रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2019, 6:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चालू वित्त वर्ष में भारत की सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वास्तविक वृद्धि दर 5.2 फीसदी रहेगी. इकनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट (EIU) ने यह अनुमान लगाया है. EIU ने कहा कि कारोबारी भरोसा डगमगाने, कमजोर मांग और वित्तीय क्षेत्र को लेकर चिंता से निवेश प्रभावित हो रहा है. ऐसे में GDP की वृद्धि दर निचले स्तर पर ही रहेगी.

इकनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट ने कहा कि दूसरी तिमाही में GDP की वास्तविक वृद्धि दर गिरकर पांच फीसदी रहेगी जो इसका छह साल का निचला स्तर है. तीसरी तिमाही के आंकड़ों में भी सुधार का मामूली संकेत ही है.

ये भी पढ़ें: अक्टूबर और दिसंबर माह में आप पर घट सकती है EMI की बोझ, गौल्डमैन सैक्स ने बताई वजह

चालू वित्त वर्ष में 5.2 फीसदी ही रहेगी GDP दर


पिछली तिमाही में छह साल के निचले स्तर पर फिसला था जीडीपी ग्रोथ रेट

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय संख्यिकी कार्यालय (CSO) के आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की जून में समाप्त पहली तिमाही में GDP की वृद्धि दर घटकर पांच फीसदी के छह साल के निचले स्तर पर आ गई है. वैश्विक स्तर पर खराब होते माहौल के बीच उपभोक्ता मांग (Consumer Demand) में गिरावट और निजी निवेश (Personal Investment) में कमी की वजह से पहली तिमाही की वृद्धि दर का आंकड़ा कमजोर रहा है.

हाल ही में सरकार ने कम की है कॉरपोरेट टैक्सEIU ने एक रिपोर्ट में कहा, 'उपभोक्ता और कारोबारी भरोसा निचले स्तर पर है. सालाना आधार पर जुलाई में कारों की बिक्री 30 फीसदी घटी है. वित्तीय क्षेत्र में समस्याओं के बीच ऋण की वृद्धि प्रभावित हुई है.' सरकार ने हाल के समय में वृद्धि और निवेश को प्रोत्साहन के लिए कई कदम उठाए हैं. कॉरपोरेट कर की दर में बड़ी कटौती की गई है.

चालू वित्त वर्ष में 5.2 फीसदी ही रहेगी जीडीपी दर


ये भी पढ़ें: IRCTC के IPO को मिला जबरदस्त रिस्पॉन्स, पहले दिन 81% सब्सक्राइब हुआ
EIU ने कहा, 'हम सरकार के मुश्किल कारोबारी परिस्थितियों में सुधार के प्रयासों को लेकर आशान्वित हैं.' वृद्धि दर के छह साल के निचले स्तर पर आने और बेरोजगारी की दर 45 साल के उच्चस्तर पर पहुंचने के बीच सरकार ने 20 सितंबर को कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर को लगभग दस फीसदी घटाकर 25.17 फीसदी कर दिया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 30, 2019, 6:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर