Home /News /business /

economy on recovery path inflationary geopolitical risks call for cautious handling of situation rbi report nodvkj

RBI रिपोर्ट में दावा- रिकवरी की राह पर भारत की अर्थव्यवस्था, महंगाई की चिंताएं बरकरार

भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक

आरबीआई (RBI) ने गुरुवार को कहा कि ऊंची महंगाई के दबाव, बाहरी समस्याओं के असर और जिओपॉलिटिकल खतरों से सावधानी से निपटने और पैनी नजर रखने की जरूरत है.

नई दिल्ली. भारतीय की अर्थव्यवस्था रिकवरी की राह पर है, लेकिन महंगाई के दबाव, बाहरी फैक्टर्स और जिओपॉलिटिकल जोखिमों पर करीब से नजर रखने की जरूरत है. भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई (RBI) ने गुरुवार को जारी अपनी फाइनेंशियल स्टैबिलिटी रिपोर्ट (Financial Stability Report) में यह बात कही.

केंद्रीय बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की अर्थव्यवस्था पर वैश्विक स्थितियों का असर दिख रहा है, लेकिन यह रिकवरी की राह पर अग्रसर है. फाइनेंशियल सिस्टम लचीली बनी हुई है और आर्थिक रिकवरी में सहयोगी है. अचानक लगने वाले झटकों का सामना करने के लिए बैंकों के साथ ही नॉन-बैंकिंग संस्थानों पर पर्याप्त कैपिटल बफर है.

महंगाई पर नजर रखने की जरूरत
केंद्रीय बैंक ने कहा कि ऊंची महंगाई के दबाव बाहरी समस्याओं के असर और जिओपॉलिटिकल खतरों से सावधानी से निपटने और पैनी नजर रखने की जरूरत है.

मई में खुदरा महंगाई 7.04 फीसदी के स्तर पर पहुंच गई, जो पिछले महीने के लगभग 8 महीने के उच्चतम स्तर 7.79 फीसदी से कम है. हालांकि महंगाई लगातार 32 महीनों से आरबीआई के 4 फीसदी के मीडियम टर्म टार्गेट से ऊपर बनी हुई है. ज्यादा चिंता की बात यह है कि महंगाई पिछले पांच महीनों से 2-6 फीसदी के टॉलरेंस रेंज के 6 फीसदी के अपर बैंड से ऊपर बनी हुई है.

ये भी पढ़ें- RBI गवर्नर शक्तिकान्त दास ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर 9वीं बार आगाह किया, कहा- यह एक स्पष्ट खतरा है

नीतिगत दर तय करने वाली आरबीआई की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (MPC) ने 8 जून को रोपो रेट 50 बेसिस प्वाइंट्स बढ़ा दी थी, जबकि इससे एक महीने पहले रेपो रेट में 40 बेसिस प्वाइंट्स की बढ़ोतरी की गई थी.

Tags: Business news in hindi, RBI, Reserve bank of india

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर