होम /न्यूज /व्यवसाय /Edible Oil Price: राहत भरी खबर, खाने के तेल के भाव में आई गिरावट

Edible Oil Price: राहत भरी खबर, खाने के तेल के भाव में आई गिरावट

Latest Edible Oil Price

Latest Edible Oil Price

सूत्रों ने बताया कि पिछले वीकेंड के मुकाबले बीते सप्ताह सरसों दाने का भाव 75 रुपये टूटकर 7,240-7,290 रुपये प्रति क्विंट ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पामोलीन के भाव टूटने से बीते सप्ताह तेल तिलहन कीमतों में रही चौतरफा गिरावट
सवा महीने के बाद मंडियों में सोयाबीन, मूंगफली और बिनौला की नई फसलें आना शुरु होंगी
पामोलीन के आगे कोई भी खाद्यतेल टिकता नहीं दिख रहा

नई दिल्ली. आम आदमी के लिए राहत भरी खबर है. दरअसल, बीते सप्ताह विदेशी बाजारों में पामोलीन (Palmolein) तेल की नयी खेप आने के बाद दाम टूटने से देशभर के तेल-तिलहन बाजारों में सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, कच्चा पाम तेल (CPO), पामोलीन सहित लगभग सभी खाद्यतेल तिलहन कीमतों में चौतरफा गिरावट देखने को मिली.

बीते सप्ताह लगभग सभी तेल तिलहन की कीमतों में भारी गिरावट
बाजार सूत्रों ने कहा कि पामोलीन के आगामी सौदों के भाव पामोलीन तेल के मौजूदा भाव से 10-12 रुपये किलो सस्ता बैठेंगे. पामोलीन का मौजूदा भाव कांडला बंदरगाह पर 114.50 रुपये प्रति किलो बैठता है लेकिन इसके आगे के अनुबंधों की कीमत 101-102 रुपये प्रति किलो बैठेगी. ऐसे में सोयाबीन, मूंगफली, बिनौला, सरसों, जैसे सारे खाद्य तेल कीमतों पर भारी दबाव है. पामोलीन के आगे कोई भी खाद्यतेल टिकता नहीं दिख रहा है. इस परिस्थिति में रिपोर्टिंग वीक में लगभग सभी तेल तिलहन कीमतें भारी गिरावट दर्शाती बंद हुई.

तेलों की खपत को लेकर बढ़ रही है चिंता
सूत्रों ने कहा कि सवा महीने के बाद मंडियों में सोयाबीन, मूंगफली और बिनौला की नई फसलें आना शुरु होंगी और भाव इस तरह जमीन पर लेटा रहा तो उसके आगे इन तेलों की खपत को लेकर चिंता बढ़ रही है. सूत्रों ने कहा कि सरकार को समय रहते चाक चौबंद होकर ऐसे कदम उठाने होंगे ताकि घरेलू तेल उद्योग भी आगे बढ़े, स्थानीय तिलहन किसानों के हितों की रक्षा हो सके और उपभोक्ताओं को भी वाजिब दाम पर खाद्यतेल उपलब्ध हों.

खुदरा कारोबारी एमआरपी में 10-15 रुपये तक की कमी को राजी
सूत्रों ने कहा कि दूसरी सबसे बड़ी दिक्कत एमआरपी को लेकर है. थोक में कम मार्जिन पर बिक्री करने के बाद खुदरा कारोबारी लगभग 50 रुपये अधिक एमआरपी पर उसे बेचते हैं जबकि यह एमआरपी, वास्तविक लागत से 10-15 रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए. सूत्रों ने कहा कि सरकार के साथ बैठकों में तेल कीमतों की महंगाई की बात आने पर खुदरा कारोबारी 50 रुपये से अधिक एमआरपी में अमूमन 10-15 रुपये तक की कमी को राजी हो जाते हैं लेकिन इससे वैश्विक खाद्य तेल कीमतों में आई गिरावट का लाभ ले पाने से उपभोक्ता वंचित ही रहते हैं.

सरसों दाने का भाव 75 रुपये टूटकर 7,240-7,290 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद
सूत्रों ने बताया कि पिछले वीकेंड के मुकाबले बीते सप्ताह सरसों दाने का भाव 75 रुपये टूटकर 7,240-7,290 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. सरसों दादरी तेल रिपोर्टिंग वीकेंड में 250 रुपये टूटकर 14,550 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. वहीं सरसों पक्की घानी और कच्ची घानी तेल की कीमतें भी क्रमश: 35-35 रुपये गिरकर क्रमश: 2,305-2,395 रुपये और 2,335-2,450 रुपये टिन (15 किलो) पर बंद हुईं.

ये भी पढ़ें- महंगाई से राहत! अब खाने का तेल भी होगा सस्‍ता, सरकार ने उपभोक्‍ताओं के हित में उठाया ये बड़ा कदम

सूत्रों ने कहा कि गिरावट के आम रुख के बीच रिपोर्टिंग वीक में सोयाबीन दाने और लूज के थोक भाव क्रमश: 300-300 रुपये की गिरावट के साथ क्रमश: 6,145-6,220 रुपये और 5,945-6,020 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुए. रिपोर्टिंग वीक में सोयाबीन तेल कीमतें भी गिरावट के साथ बंद हुई. सोयाबीन दिल्ली का थोक भाव 520 रुपये टूटकर 13,180 रुपये, सोयाबीन इंदौर का भाव 400 रुपये टूटकर 13,050 रुपये और सोयाबीन डीगम का भाव 850 रुपये लुढ़ककर 11,400 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ.

मूंगफली तिलहन का भाव 20 रुपये टूटकर 6,920-7,045 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद 
पामोलीन के भाव टूटने से रिपोर्टिंग वीक में मूंगफली तेल-तिलहनों कीमतों में भी गिरावट आई. रिपोर्टिंग वीकेंड में मूंगफली तिलहन का भाव 20 रुपये टूटकर 6,920-7,045 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. पूर्व वीकेंड के बंद भाव के मुकाबले रिपोर्टिंग वीक में मूंगफली तेल गुजरात 70 रुपये टूटकर 16,180 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ जबकि मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड का भाव 10 रुपये की गिरावट के साथ 2,700-2,890 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ.

रिपोर्टिग वीक में सीपीओ का भाव 1,075 रुपये की भारी गिरावट के साथ 10,380 रुपये क्विंटल रह गया जबकि पामोलीन दिल्ली का भाव 1,100 रुपये टूटकर 12,550 रुपये और पामोलीन कांडला का भाव 1,100 रुपये की गिरावट के साथ 11,450 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ. समीक्षाधीन सप्ताह में बिनौला तेल भी 550 रुपये टूटकर 14,000 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर बंद हुआ.

Tags: Edible oil, Edible oil price

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें