Home /News /business /

edible oil price today july 1 oil oilseeds prices fall know what are the latest rates now nodvkj

Edible Oil Price Today: तेल-तिलहन के भाव में आई गिरावट, जानिए अभी क्या हैं लेटेस्ट रेट्स

Latest Edible Price

Latest Edible Price

Edible Oil Price Today: बाजार सूत्रों ने बताया कि विदेशों में ऐतिहासिक मंदी के बीच पिछले दिनों विदेशी बाजारों में खाद्य तेलों के भाव काफी टूटे हैं. तेल कीमतों में लगभग 50-60 रुपये किलो तक की गिरावट आई है.

नई दिल्ली. विदेशों में तेल-तिलहन बाजार टूटने के बीच दिल्ली में शनिवार को सरसों और सोयाबीन तेल तिलहन, कच्चा पाम तेल (CPO) एवं पामोलीन के भाव गिरावट के साथ बंद हुए. देशी तेलों की मांग होने के बीच मूंगफली और बिनौला तेल तिलहन पूर्ववत बने रहे.

तेल कीमतों में लगभग 50-60 रुपये किलो तक की गिरावट
बाजार सूत्रों ने कहा कि मलेशिया एक्सचेंज में कल मंदी थी जबकि शुक्रवार रात मंदा रहने के बाद शिकागो एक्सचेंज सोमवार को बंद रहेगा. विदेशों में ऐतिहासिक मंदी के बीच पिछले दिनों विदेशी बाजारों में खाद्य तेलों के भाव काफी टूटे हैं. तेल कीमतों में लगभग 50-60 रुपये किलो तक की गिरावट आई है. इस गिरावट की चपेट में देश के आयातकों का बचना असंभव लग रहा है. इसके अलावा सरकार के द्वारा अलग अलग किस्तों में आयात शुल्क में कमी की गई है. डेढ़ दो साल पहले तक सोयाबीन और सूरजमुखी आयात पर 38.25 प्रतिशत और सीपीओ पर 41.25 फीसदी का आयात शुल्क लगता था जो अलग अलग किस्तों में कमी किए जाने के बाद मौजूदा वक्त में सोयाबीन और सूरजमुखी का शून्य शुल्क पर 40 लाख टन खाद्य तेल की दो साल के लिए आयात करने की अनुमति दी गई है. सीपीओ का आयात शुल्क घटकर 5.50 फीसदी रह गया है.

ये भी पढ़ें- सरकार ने सोने और चांदी के इम्पोर्ट पर बेस प्राइस घटाए, कच्चे पाम, सोया ऑयल की दरों में भी कटौती

दो साल के लिए ड्यूटी फ्री आयात की अनुमति
सूत्रों ने कहा कि विदेशों में खाद्य तेलों के दाम लगभग 50-60 रुपये किलो टूटने, कई बार आयात शुल्क में कमी किए जाने के बाद दो साल के लिए ड्यूटी फ्री आयात की अनुमति देने का औचित्य समझ पाना समझ से परे है. इसके दूसरे पहलू को देखें तो इस गिरावट का फायदा न तो उपभोक्ताओं को मिल रहा है, न तेल उद्योग को, न ही किसानों को.

आयातकों को भारी नुकसान
सूत्रों ने कहा कि आयातक भी तबाही के रास्ते पर हैं क्योंकि पहले डॉलर के जिस भाव पर उन्होंने खाद्यतेल आायत का अनुबंध किया था, रुपये के मूल्य में गिरावट के कारण उस बैंक कर्ज के लिए उन्हें अब अधिक धनराशि का भुगतान करने का संकट आ गया है और आयात भाव के मुकाबले मौजूदा बाजार भाव काफी कम होने से कर्ज के भुगतान करने के लिए उन्हें सस्ते में तेल बेचने की मजबूरी आ गई है. आयातकों को भारी नुकसान है.

बाजार में सरसों की आवक कम
सूत्रों ने कहा कि आयात शुल्क से जो रेवेन्यू का लाभ देश को होता था, उसका नुकसान तो है ही, दूसरी ओर तेल कीमतों में मंदी के लाभ उठाने से भी उपभोक्ता वंचित रह जा रहे हैं. इस स्थिति को संभाले जाने की आवश्यकता है. बाजार में सरसों की आवक कम होती जा रही है और आगे त्यौहारों के दौरान इसकी भारी कमी का सामना करना पड़ सकता है. विदेशी तेलों के मुकाबले देशी तेलों की मांग है और इसी वजह से मूंगफली तेल तिलहन और बिनौला तेल के भाव पूर्वस्तर पर बने रहे.

शनिवार को तेल-तिलहनों के भाव इस प्रकार रहे-
सरसों तिलहन – 7,485-7,535 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये प्रति क्विंटल
मूंगफली – 6,765 – 6,890 रुपये प्रति क्विंटल
मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात) – 15,710 रुपये प्रति क्विंटल
मूंगफली सॉल्वेंट रिफाइंड तेल 2,635 – 2,825 रुपये प्रति टिन
सरसों तेल दादरी- 15,150 रुपये प्रति क्विंटल
सरसों पक्की घानी- 2,380-2,460 रुपये प्रति टिन
सरसों कच्ची घानी- 2,420-2,525 रुपये प्रति टिन
तिल तेल मिल डिलिवरी – 17,000-18,500 रुपये प्रति क्विंटल
सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,100 रुपये प्रति क्विंटल
सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,800 रुपये प्रति क्विंटल
सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,400 रुपये प्रति क्विंटल
सीपीओ एक्स-कांडला- 11,300 रुपये प्रति क्विंटल
बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 14,150 रुपये प्रति क्विंटल
पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 13,200 रुपये प्रति क्विंटल
पामोलिन एक्स- कांडला- 12,100 रुपये (बिना जीएसटी के) प्रति क्विंटल
सोयाबीन दाना – 6,500-6,550 रुपये प्रति क्विंटल
सोयाबीन लूज 6,300- 6,350 रुपये प्रति क्विंटल
मक्का खल (सरिस्का) 4,010 रुपये प्रति क्विंटल

Tags: Edible oil, Edible oil price

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर