लाइव टीवी

इस डर से देश में सस्ता हुआ अंडा और चिकन, कीमतों में आई 30 फीसदी की गिरावट

News18Hindi
Updated: February 23, 2020, 6:06 PM IST
इस डर से देश में सस्ता हुआ अंडा और चिकन, कीमतों में आई 30 फीसदी की गिरावट
पिछले 1 महीन में अंडे और चिकन की कीमतों में 30 फीसदी की गिरावट आ चुकी है.

दिल्ली में अंडे की कीमत (100) 358 रुपये पर आ गई है, जबकि पिछले साल इस दौरान 441 रुपये के आसपास थी. दिल्ली में ब्रॉयलर चिकन की कीमतें इसी साल जनवरी के तीसरे सप्ताह के मुकाबले 86 रुपये से गिरकर 78 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2020, 6:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन में फैले जानलेवा कोरोना वायरस (Coronavirus) का असर अब भारत पर भी दिखने लगा है. पिछले एक महीने में अंडे और चिकन (Eggs and Chicken Price Down) की कीमतों में 30 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. अंग्रेजी के बिजनेस न्यूज पेपर इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस के कुछ मैसेज लगातार शेयर हो रहे हैं. वॉट्सऐप और फेसबुक जैसे प्लेटफार्मों पर कोरोना वायरस को लेकर तरह-तरह के मैसेज से लोगों को डराया जा रहा है. इसके चलते देश में अंडे और चिकन की डिमांड गिर गई है, इसीलिए कीमतों में भी गिरावट आई है.

सस्ता हुआ अंडा और चिकन- नेशनल एग कोऑर्डिनेशन कमेटी (NEC) के आंकड़ों के अनुसार, अंडे की कीमतें एक साल पहले के मुकाबले लगभग 15 फीसदी कम हैं. नेशनल एग कोऑर्डिनेशन कमेटी (NECC) के आंकड़ों के हिसाब से अहमदाबाद में अंडे की कीमतें फरवरी 2019 के मुकाबले 14 फीसदी कम हैं, जबकि मुंबई में यह 13 फीसदी, चेन्नई में 12 फीसदी और वारंगल (आंध्र प्रदेश) में 16 फीसदी कम है.

दिल्ली में अंडे की कीमतें (100) 358 रुपये पर आ गई है, जबकि पिछले साल इस दौरान 441 रुपये के आसपास थीं. दिल्ली में ब्रॉयलर चिकन की कीमतें इसी साल जनवरी के तीसरे सप्ताह के मुकाबले 86 रुपये से गिरकर 78 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गईं. इसी तरह दूसरे शहरों में भी चिकन के दाम गिरे हैं. आमतौर पर सर्दियों के महीनों में आम तौर पर पोल्ट्री और अंडे की अधिक मांग देखी जाती है.

ये भी पढ़ें-मुफ्त में बनवाएं किसान क्रेडिट कार्ड! मोदी सरकार ने खत्म किए ये चार्ज, 4 फीसदी पर 3 लाख का लोन 



इस डर से गिरी डिमांड! 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, थोक बाजार में चिकन और अंडे की कीमत में 15-30 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. पोल्ट्री फॉर्मिंग यानी मुर्गी पालन से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि कारोबारियों पर फिलहाल दो तरफा मार पड़ रही है.  मुर्गियों को खिलाने वाला दाना महंगा हो गया है. पिछली सर्दियों के मौसम की तुलना में मुर्गी चारे की कीमतें 35-45 फीसदी अधिक हैं. इससे मुर्गी पालन कारोबार की लागत बढ़ी है. वहीं, डिमांड गिरना किसानों के लिए नई मुसीबत खड़ी कर रहा है. उन्होंने बताया कि तरह-तरह के मैसेज से लोगों को डराया जा रहा है. इसके चलते देश में अंडे और चिकन की मांग में कमी आई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 22, 2020, 10:44 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर