लाइव टीवी

बिना सब्सिडी इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बेचना चाहती हैं कंपनियां, जानें क्या है वजह?

News18Hindi
Updated: February 10, 2020, 3:38 PM IST

लोकलाइजेशन (Localization) की शर्तों के कारण इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनियां सब्सिडी छोड़ सकती हैं. सरकार की फेम-II स्कीम (FAME 2 scheme) के अंदर कड़ी शर्तों और हाल ही में बजट में इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से कंपनियां अब ऐसे प्रोडक्ट्स बना रही हैं जो बिना सब्सिडी के बाजार में आएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 10, 2020, 3:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर (Electric Two-Wheeler) बनाने वाली कंपनियां सब्सिडी (Subsidy) छोड़ने को तैयार हैं. लोकलाइजेशन (Localization) की शर्तों के कारण इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर कंपनियां सब्सिडी छोड़ सकती हैं. सरकार की फेम-II स्कीम (FAME 2 scheme) के अंदर कड़ी शर्तों और हाल ही में बजट में इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से कंपनियां अब ऐसे प्रोडक्ट्स बना रही हैं जो बिना सब्सिडी के बाजार में आएंगे. बजट में CKD, SKD EVs पर ड्यूटी 10-40 फीसदी बढ़ाई गई है. फेम-II के अंदर कम से कम 80 किमी की रेंज की शर्त है. इसके अलावा FAME II में कम से कम 40 किमी की टॉप स्पीड की भी शर्त है.

फेम-II में टू-व्हीलर बिक्री की संख्या घटी
फेम-II के बाद सब्सिडी के अंदर इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर की बिक्री सिर्फ 3,000 पर सिमट गई है. फेम-II से पहले इसी दौरान लगभग 48,000 टू-व्हीलर को सब्सिडी मिली थी. फेम-II के बाद बिना सब्सिडी की गाड़ियों की संख्या लगभग 50,000 है. फेम-II से पहले इसी दौरान सिर्फ बिना सब्सिडी वाले 10,000 टू-व्हीलर बिके थे.

ये भी पढ़ें: SBI में है अकाउंट तो 28 फरवरी तक निपटा लें ये काम, वरना खाता हो जाएगा ब्लॉक



इस बीच हीरो इलेक्ट्रिक (Hero Electric) ने कहा है कि हमारा नया बिजनेस प्लान फेम-II पर आधारित नहीं होगा. पिछले साल के मुकाबले इस साल FAME सब्सिडी के अंदर की गाड़ियों की संख्या कम हुई है. वहीं, बिना सब्सिडी बिकने वाली गाड़ियों की संख्या बढ़ी है. आने वाले दिनों में हमारा फोकस बिना सब्सिडी की गाड़ियों की बिक्री बढ़ाना होगा. उन्होंने बताया कि कंपनी की करीब 800 करोड़ की निवेश योजना होल्ड पर है.

(रोहन सिंह, संवाददाता- CNBC आवाज़) 

ये भी पढ़ें: अब घर बैठे बदल सकेंगे ट्रेन बोर्डिंग स्टेशन, बस फॉलो करने होंगे ये 4 सिंपल स्टेप्स

(सोर्स- हिंदी मनीकंट्रोल)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 2:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर