लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित छोटे कारोबारियों को सरकारी बैंकों ने बांटा 3893 करोड़ रुपये का लोन

लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित छोटे कारोबारियों को सरकारी बैंकों ने बांटा 3893 करोड़ रुपये का लोन
छोटे कारोबारियों को सरकारी बैंकों ने 8320 करोड़ रुपये का लोन बांटा.

लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित एमएसएमई क्षेत्र (MSME Sectors) को इस महीने के पहले दो दिन में तीन लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन ऋण गारंटी योजना (ईसीएलजीएस) के तहत 3,893 करोड़ रुपये का कर्ज दिया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने आज बुधवार को बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) ने कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित एमएसएमई क्षेत्र (MSME Sectors) को इस महीने के पहले दो दिन में तीन लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन ऋण गारंटी योजना (ईसीएलजीएस) के तहत 3,893 करोड़ रुपये का कर्ज दिया. इस बीच पीएसबी ने एक जून से 100 प्रतिशत ईसीएलजीएस के तहत 10,361.75 करोड़ रुपये के कर्ज को मंजूरी दी.

ये भी पढ़ें:- PM-Kisan के तहत अगर नहीं मिली 2000 रु की किस्त, तो क्या वापस आएगी पूरी रकम?

यह योजना पिछले महीने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर भारत अभियान राहत पैकेज का सबसे बड़ा राजकोषीय घटक है. वित्त मंत्री निर्मला सीताराम ने एक ट्वीट में कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 100 फीसदी आपातकालीन ऋण गारंटी योजना के तहत 10,361.75 करोड़ रुपये के ऋण को मंजूरी दे दी है. इसमें से 3,892.78 करोड़ रुपये पहले ही जारी किए जा चुके हैं.



वित्तीय सेवा विभाग ने एक ट्वीट में कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (एमएसएमई) अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं. आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत सरकार उनके विकास के लिए प्रतिबद्ध है. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 21 मई को एमएसएमई क्षेत्र के लिए ईसीएलजीएस के माध्यम से 9.25 प्रतिशत की रियायती दर पर तीन लाख करोड़ रुपये तक के अतिरिक्त वित्त पोषण को मंजूरी दी थी.



ये भी पढ़ें:- रेलवे ने अब TTE के लिए बनाई नई गाइडलाइंस, यात्रा से पहले जरूर जान लें नए नियम
First published: June 3, 2020, 2:31 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading