9000 कर्मचारियों की छंटनी करेगी मीडिल ईस्ट की सबसे बड़ी विमान कंपनी, पिछले साल ही हुआ था बंपर मुनाफा

इस विमान कंपनी में 60 हजार कर्मचारी काम करते हैं. (Photo: Emirates Website)

इस विमान कंपनी में 60 हजार कर्मचारी काम करते हैं. (Photo: Emirates Website)

मीडिल ईस्ट की सबसे बड़ी विमान एमिरेट्स एयरलाइंस (Emirates Airlines) ने भी एक बार फिर बड़े स्तर पर छंटनी का इशारा किया है. इसके पहले ही कंपनी ने 6,000 कर्मचारियों की छंटनी की थी.

  • Share this:
दुबई. कोरोना वायरस महामारी के बीच एमिरेट्स एयरलाइंस (Emirates Airlines) ने अपने वर्कफोर्स में लगभग दसवें हिस्स्से की छंटनी की है. अब यह 15 फीसदी यानी 9,000 तक बढ़ सकती है. शनिवार को एक रिपोर्ट में एमिरेट्स एयरलाइंस के प्रेसिडेंट ने यह बात कही. एमिरेट्स एयरलाइंस मीडिल ईस्ट (Middle East) की सबसे बड़ी विमान कंपनी है, जिसके पास 270 वाइ-बॉडी एयरक्रॉफ्टस (Wide-Body Aircarfts) हैं. लेकिन, मार्च में वैश्विक स्तर पर लॉकडाउन के बाद इस विमान कंपनी का परिचालन भी ठप पड़ा है.

हालांकि, दो सप्ताह के बाद ही इस कंपनी ने लिमिटेड नेटवर्क्स के लिए अपनी सेवाएं शुरू कर दी थी. अगस्त महीने के मध्य तक कंपनी 58 विमानों को उड़ाने पर की योजना बना रही है. कोरोना वायरस संकट के पहले की तुलना में यह बेहद कम है.

हालात सुधारने में लग सकता है 4 साल का समय
एमिरेट्स एयरलाइंस के प्रसिडेंट टिम क्लार्क ने पहले कहा था कि विमानों का परिचालन सामान्य स्तर पर पहुंचने में करीब 4 साल लग सकते हैं. यही कारण है कि विमान कंपनी कम्रबद्ध तरीके से छंटनी कर रही है. पिछले सप्ताह भी कंपनी ने कुछ कर्मचारियों की छंटनी की. इसकी संख्या के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आ सकी.
यह भी पढ़ें: ...कहीं अब नालियों में ना बहानी पड़े लाखों लीटर बीयर, ब्रीजा और रम?



एमिरेट्स में कुल कितने कर्मचारी काम करते हैं?
कोरोना संकट से पहले एमिरेट्स में करीब 60 हजार कर्मचारी काम करते थे, जिसें 4,300 पायलट और 22,000 केबिन क्रु भी शामिल थे. कंपनी ने अपने सालान रिपोर्ट में इस बारे में जानकारी दी है.

क्लार्क ने BBC को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा था कि हमने पहले ही करीब एक दहाई कर्मचारियों की झंटनी कर दी है. संभवत: अब हमें कुछ और छंटनी भी करनी पड़ सकती है. इसके बाद यह आंकड़ा 15 फीसदी तक पहुंच सकता है.

इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन यानी आईएटीए ने कहा है कि इस साल ​सभी विमान कंपनियों को कुल घाटा करीब 84 अरब डॉलर पहुंच सकता है. मौजूदा महामारी के बीच यह आंकड़ा करीब इतिहास के सबसे बड़े घाटे को दर्शाता है.

यह भी पढ़ें: आप फोन पर आए हुए नंबर को बता सकते हैं? कोई भी पूछे ये सवाल तो हो जाएं सावधान

क्लार्क ने इस इंटरव्यू में कहा कि हमने अन्य ​कंपनियों की तुलना में कम छंटनी की है लेकिन यह संकट एक ऐसे समय पर आया है, जब अपने सबसे बेहतरीन साल की तरफ बढ़ रहे थे. मार्च में दुबई की विमान कंपनी ने 21 फीसदी की जबरदस्त सालाना मुनाफे का ऐलान किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज