होम /न्यूज /व्यवसाय /ICICI बैंक के ग्राहकों को झटका, MCLR बढ़ा, अब ज्यादा देनी होगी ईएमआई

ICICI बैंक के ग्राहकों को झटका, MCLR बढ़ा, अब ज्यादा देनी होगी ईएमआई

आईसीआईसीआई बैंक (फाइल फोटो)

आईसीआईसीआई बैंक (फाइल फोटो)

Bank Loan Interest Rate: ज्यादातर कंज्यूमर लोन एक साल के मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट (MCLR) के आधार पर होती है. ऐस ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आईसीआईसीआई बैंक ने बढ़ाया MCLR, महंगे होंगे सभी तरह के लोन
आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहकों का बढ़ जाएगा EMI का बोझ
आरबीआई ने 1 अप्रैल, 2016 से देश में एमसीएलआर की शुरुआत की थी.

नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की मौद्रिक नीति समिति (MPC) की अगले हफ्ते होने वाली अहम बैठक से पहले प्राइवेट सेक्टर के आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने अपने ग्राहकों को जोरदार झटका दिया है. बैंक ने विभिन्न अवधि वाले कर्ज के लिए मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट यानी एमसीएलआर (MCLR) में वृद्धि की घोषणा की है. बैंक की नई दरें 1 दिसंबर, 2022 से लागू हो गई हैं.

आईसीआईसीआई बैंक ने सभी अवधि के एमसीएलआर में 0.10 फीसदी की बढ़ोतरी की है. बैंक ने ओवरनाइट, एक महीने के कर्ज के लिए एमसीएलआर दर को 8.05 फीसदी से बढ़ाकर 8.15 फीसदी कर दिया है. 3 महीने और 6 महीने के एमसीएलआर को क्रमशः 8.20 फीसदी और 8.35 फीसदी कर दिया गया है. एक साल के एमसीएलआर को 8.30 फीसदी से बढ़ाकर 8.40 फीसदी कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें- Explainer : फिक्‍स्‍ड या फ्लोटिंग रेट में किस FD में निवेश करना है बेहतर? किसमें और क्‍यों मिलेगा ज्‍यादा मुनाफा

बढ़ जाएगी आपकी ईएमआई
एमसीएलआर में बढ़ोतरी के साथ टर्म लोन पर ईएमआई बढ़ने की उम्मीद है. ज्यादातर कंज्यूमर लोन एक साल के मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट के आधार पर होती है. ऐसे में एमसीएलआर में बढ़ोतरी से पर्सनल लोन, ऑटो और होम लोन महंगे हो सकते हैं.

क्या होता है MCLR?
गौरतलब है कि एमसीएलआर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा विकसित की गई एक पद्धति है जिसके आधार पर बैंक लोन के लिए ब्याज दर निर्धारित करते हैं. उससे पहले सभी बैंक बेस रेट के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दर तय करते थे.
" isDesktop="true" id="4988457" >
रिजर्व बैंक ने रेपो रेट 0.5 फीसदी बढ़ाकर 5.9 फीसदी की
हाल ही में आरबीआई ने द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में रेपो रेट 0.5 फीसदी बढ़ाकर 5.9 फीसदी कर दी. यह इसका 3 साल का उच्च स्तर है. खुदरा महंगाई को काबू में लाने और विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंकों के ब्याज दर में आक्रामक वृद्धि से उत्पन्न दबाव से निपटने के लिए आरबीआई ने यह कदम उठाया है. इससे पहले, मई में 0.40 फीसदी वृद्धि के बाद जून और अगस्त में 0.50-0.50 फीसदी की वृद्धि की गई थी. कुल मिलाकर मई से अब तक आरबीआई रेपो रेट में 1.90 फीसदी की वृद्धि कर चुका है.

Tags: Bank Loan, ICICI bank, RBI, Reserve bank of india

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें