• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • EPF vs GPF vs PPF: जानिए तीनों में कौन बेहतर है, किसमें निवेश करने पर क्या क्या फायदें हैं

EPF vs GPF vs PPF: जानिए तीनों में कौन बेहतर है, किसमें निवेश करने पर क्या क्या फायदें हैं

epfo, ppf, gpf

कोरोना महामारी ने एक बार फिर लोगों को बचत के महत्व को बताया है. अगर आप शुरू से सही निवेश प्लान के साथ चल रहे हैं तो बढ़ती उम्र के साथ आपको पैसे की बहुत दिक्कत नहीं होती है. देश में भविष्य निधि ( Provident funds) ऐसी बचत योजनाएं (saving schemes ) हैं जो इस तरह डिजाइन की गई हैं, जो एक विश्वसनीय retirement कोष बनाती हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली . कोरोना महामारी ने एक बार फिर लोगों को बचत के महत्व को बताया है. अगर आप शुरू से सही निवेश प्लान के साथ चल रहे हैं तो बढ़ती उम्र के साथ आपको पैसे की बहुत दिक्कत नहीं होती है. देश में भविष्य निधि ( Provident funds) ऐसी बचत योजनाएं (saving schemes ) हैं जो इस तरह डिजाइन की गई हैं, जो एक विश्वसनीय retirement कोष बनाती हैं.
    अपने यहां तीन बड़े और प्रमुख provident fund accounts या भविष्य निधि योजनाएं हैं. कर्मचारी भविष्य निधि या ईपीएफ ( Employees' Provident Fund or EPF), सामान्य भविष्य निधि या जीपीएफ ( General Provident Fund or GPF ) और सार्वजनिक भविष्य निधि या पीपीएफ (Public Provident Fund or PPF) उपलब्ध हैं.
    इन योजनाओं के बारे में प्रमुख बातें (Basic definition and eligibility) -
    EPF संगठित क्षेत्र में सेलरी पाने वाले लोगों के लिए एक अनिवार्य सेवानिवृत्ति बचत विकल्प (compulsory retirement saving option ) है. इसमें employee and the employer दोनों द्वारा बराबर योगदान दिया जाता है.

    यह भी पढ़ें - Personal Loan की जरूरत क्या आपको भी है, जानिए लोन के लिए सबसे सस्ती 10 जगहें
    GPF एक भविष्य निधि खाता है, जो सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए उपलब्ध है.
    Public Provident Fund (PPF) प्रमुख रुप से एक रिटायरमेंट फोकस्ड इंवेस्टमेंट प्लान है जो EEE (Exempt-Exempt-Exempt) टैक्स स्टेटस के साथ होता है. यह अनिवार्य नहीं है लेकिन सभी भारतीय नागरिक के लिए उपलब्ध है.
    ब्याज दर (Interest rate)
    वर्तमान में Employees' Provident Fund Organisation (EPFO) के सभी सदस्य अपने Employees' Provident Fund (EPF) deposit पर 8.50% का ब्याज पाते हैं.

    यह भी पढ़ें - IPO Market अगले 6 महीने रहेगा गुलजार, जानिए कहां निवेश करके कर सकते हैं मोटी कमाई
    GPF वर्तमान तिमाही में 7.1 फीसदी का ब्याजा देता है.
    PPF पर वर्तमान में 7.1 फीसदी की फिक्स ब्याज दर है.
    Maturity period

    EPF तब मेच्योर होता है जब लाभार्थी 58 साल की उम्र पर पहुंच जाता है. जीपीएफ रिटायरमेंट के समय मेच्योर होता है. वहीं, पीपीएफ 15 साल में मेच्योर होता है.
    Premature closure
    EPF का परमानेंट क्लोजर नौकरी छूटने के दो महीने बाद हो सकता है. जीपीएफ का सरकारी नौकरी छूटने के बाद क्लोजर होता है.
    पीपीएफ ( PPF) का परमानेंट क्लोजर कुछ निश्चित शर्तों के साथ पांच साल बाद होता है, वो भी तब जब मेडिकल या बच्चे की शिक्षा का मामला हो.

    Tax exemptions
    यदि कोई व्यक्ति खाता निर्माण के पांच साल बाद अपने ईपीएफ खाते से शेष राशि निकालता है, तो उसे कर से छूट मिलती है.
    जीपीएफ, एक कर-मुक्त सेवानिवृत्ति कम बचत योजना है.
    पीपीएफ के मामले में, इसके लिए हर साल की गई जमा राशि आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक कर छूट के लिए पात्र है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज