लाइव टीवी

लाखों लोगों का PF खाता हुआ ब्लॉक, आप भी ऐसे करें पता

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 1:10 PM IST
लाखों लोगों का PF खाता हुआ ब्लॉक, आप भी ऐसे करें पता
इंसेंटिव फ्रॉड का हुआ खुलासा

सरकार ने लगभग 80,000 कंपनियों का पता लगाया है, जिन्होंने फॉर्मल सेक्टर में रोजगार के असवर पैदा करने के लिए केंद्र की एक फ्लैगशिप योजना के तहत अवैध तरीके से 300 करोड़ रुपये के वित्तीय प्रोत्साहन (Financial Incentives) का फायदा उठाया है. इसलिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने 9 लाख कर्मचारियों के प्रॉविडेंट फंड अकाउंट को ब्लॉक कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 1:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees Provident Fund Organisation- EPFO) ने नौ लाख कर्मचारियों के प्रॉविडेंट फंड अकाउंट को ब्लॉक कर दिया है. दरअसल, सरकार ने लगभग 80,000 कंपनियों का पता लगाया है, जिन्होंने फॉर्मल सेक्टर में रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए केंद्र की एक फ्लैगशिप योजना के तहत अवैध तरीके से 300 करोड़ रुपये के वित्तीय प्रोत्साहन (Financial Incentives) का फायदा उठाया है. बिजनेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के मुताबिक, रिपोर्ट में यह बताया गया है कि प्रधानमंत्री रोजगार योजना (Pradhan Mantri Rojgar Protsahan Yojana- PMRPY) के 9 लाख लाभार्थियों को इस योजना के लिए अयोग्य पाया गया है. क्योंकि वो इस स्कीम के लागू होने के पहले से ही फॉर्मल सेक्टर का हिस्सा थे, यानी कि वो पहले से ही PF का फायदा उठा रहे थे.

रिपोर्ट के मुताबिक, EPFO ने इन कर्मचारियों का प्रॉविडेंट फंड अकाउंट ब्लॉक कर दिया है. वहीं संगठन ने इन कंपनियों से अब तक 222 करोड़ रुपये रिकवर भी किया है. इन लाभार्थियों की संख्या EPFO के पेरोल डेटाबेस में शामिल थी, जिसे सरकार फॉर्मल सेक्टर में पैदा हुए रोजगार के तौर पर दिखाती है.

ये भी पढ़ें: आज 3:30 बजे तक निपटा लें बैंक से जुड़े अपने काम, वरना हो सकती है परेशानी



2016 में शुरू हुई योजना
सरकार ने रोजगार पैदा करने पर कंपनियों को इंसेंटिव देने की PMRPY योजना 2016 में शुरू की थी. इस स्कीम के तहत 1 अप्रैल, 2016 को या उसके बाद 15,000 से ज्यादा प्रति महीने की सैलरी पर रखे गए नए कर्मचारी के EPF और EPS (Employees Pension Scheme) का कुल 12 फीसदी का खर्च (जो योगदान कंपनी देती है) सरकार उठाती है.

इस स्कीम के तहत सरकार का लक्ष्य नए रोजगार पैदा करना और रोजगार पैदा कर रही कंपनियों को इंसेंटिव (प्रोत्साहन राशि के तौर पर) देना है. रोजगार पाने वालों को इस स्कीम के तहत सोशल सिक्योरिटी बेनेफिट्स भी मिलते हैं. श्रम एवं रोजगार मंत्रालय यह स्कीम EPFO के जरिए चलाता है. जनवरी 2019 में सरकार ने कहा था कि इस स्कीम का लाभ उठाने वाले कर्मचारियों की संख्या 1 करोड़ पार कर गई है.ये भी पढ़ें: आपके घूमने का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, शुरू की नई स्कीम



ऐसे चेक करें पीएफ बैलेंस

>> अगर आपका भी पीएफ खाता ब्लॉक हो गया तो आप बैलेंस चेक कर पता कर सकते हैं. इसके लिए आप अपने मोबाइल में EPFO ऐप ‘m-EPF’ को डाउनलोड करें. ऐप में 'Member' पर क्लिक करें फिर Balance/Passbook अपर क्लिक करें. UAN नंबर और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर भरकर अपना EPF बैलेंस चेक करें.

>> उमंग ऐप- Umang App के माध्यम से बैलेंस चेक करने के लिए आपको एक बार अपने मोबाइल नंबर से वन-टाइम रजिस्ट्रेशन करना होगा. इसके बाद आप उमंग ऐप से आप EPF पासबुक देख सकते हैं, Claim Raise कर सकते हैं और इसे ट्रैक भी कर सकते हैं.

>> एसएमएस- SMS के जरिए ईपीएफ बैलेंस चेक करने के लिए अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 7738299899 पर मैसेज करें. एसएमएस को EPFOHO UAN ENG लिख करके 7738299899 पर मैसेज करना होगा. ENG उन पहले तीन कैरेक्टर के बारे में बताता है जिस भाषा में आप जानकारी चाहते हैं. मैसेज की सुविधा इंग्लिश के साथ, हिंदी, पंजाबी, गुजराती, मराठी, कन्नड़, तेलुगु, तमिल, मलयालम और बंगाली भाषाओं में भी उपलब्ध है. मैसेज के जरिए ईपीएफओ बैलेंस जानने के लिए आपका मोबाइल नंबर UAN के साथ रजिस्टर्ड होना जरूरी है.

ये भी पढ़ें: क्या म्युचूअल फंड में पैसा लगाने वालों को गारंटीड रिटर्न मिलता है? जानिए ऐसे ही सवालों के जवाब



 

>> मिस्ड कॉल- मिस्ड कॉल के जरिए ईपीएफ बैलेंस चेक करने के लिए आपका मोबाइल नंबर UAN से रजिस्टर्ड होना जरुरी है. आप अपने रजिस्टर्ड मोबाइल से 011-22901406 पर मिस्ड कॉल देकर EPF Balance जान सकते हैं. मिस्ड कॉल देने के बाद आपके रजिस्टर्ड नंबर पर EPF का एक मैसेज आएगा जिससे आपको EPF Balance का पता चलेगा. मैसेज में PF Number, नाम, जन्मतिथि, ईपीएफ बैलेंस के साथ आखिरी जमा राशि भी बताई जाती है.

ये भी पढ़ें: सिर्फ 10 साल बन जाएं कंजूस, इस सरकारी स्कीम में बन जाएगा 23 लाख रुपये का फंड

(सोर्स- हिंदी मनीकंट्रोल)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 12:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर