बड़ी खुशखबरी! दिवाली से पहले पीएफ खाते में आने वाले हैं पैसे, जानिए कितना मिलेगा

दिवाली से पहले EPFO ब्याज का भुगतान कर सकता है.
दिवाली से पहले EPFO ब्याज का भुगतान कर सकता है.

दिवाली से ठीक पहले पीएफ अकाउंट (PF Account) में 31 मार्च 2020 तक के ब्याज का भुगतान हो सकता है. पिछले महीने ही EPFO ने कहा था कि दिसंबर तक पूरा भुगतान कर दिया जाएगा. पीएफ अकाउंट पर 8.5 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2020, 4:17 PM IST
  • Share this:
नई​ दिल्ली. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) दिवाली से ठीक पहले तक 8.5 फीसदी की ब्याज की पहली किश्त पीएफ अकाउंट (PF Account) में जमा कर सकता है. सितंबर में ही EPFO के केंद्रीय बोर्ड (Central Board of Trustees) ने कहा था कि 31 मार्च 2020 तक खत्म हो रहे वित्त वर्ष के लिए ब्याज का भुगतान इस साल के अंत तक कर दिया जाएगा. इस ब्याज को पहले 8.15 फीसदी और फिर 0.35 फीसदी के दो भाग में बांटा जाएगा. .

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिवाली तक 8.15 फीसदी ब्याज का भुगतान कर दिया जाएगा. इसके बाद 0.35 फीसदी का भुगतान दिसंबर तक किया जाएगा.

कहां से ब्याज का भुगतान करेगा EPFO
कोरोना वायरस महामारी की वजह से EPFO की कमाई पर बुरा असर पड़ा था. इसके बाद केंद्रीय बॉडी ने ब्याज दर का रिव्यू किया. रिव्यू के बाद बोर्ड ने सरकार से ​ब्याज दर 8.5 फीसदी रखने की सिफारिश की थी. श्रम मंत्रालय (Labour Ministry) ने इस बारे में जानकारी दी थी. बयान में कहा गया था कि 8.50 फीसदी के ब्याज में 8.15 फीसदी कर्ज से होने वाली कमाई से आएगा, जबकि 0.35 फीसदी की रकम ETF (Exchange Traded Fund)  की बिक्री के जरिए जुटाया जाएगा.
यह भी पढ़ें: लोन मोरेटोरियम मामले पर केंद्र ने कहा- सुप्रीम कोर्ट न करे वित्तीय नीतियों में हस्तक्षेप



कोरोना काल में 35 हजार करोड़ से ज्यादा रकम का सेटलमेंट
अप्रैल से अगस्त के बीच EPFO ने कुल 94.41 लाख क्लेम्स का सेटलमेंट किया है. इन क्लेम्स के जरिए पीएफ मेंबर्स (PF Members) को 35,445 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है. अब 8.5 फीसदी ब्याज का भुगतान निश्चित ही आम आदमी के लिए दिवाली से पहले एक अच्छी खबर है.

त्वरित सेटलमेंट के लिए EPFO ने उठाया जरूरी कदम
कोरोना वायरस महामारी संकट को देखते हुए कोविड-19 एडवांस और बीमारी संबंधी क्लेम्स का सेटलमेंट तेजी से किया गया है. इसके लिए EPFO ने दोनों कैटेगारी में ऑटो मोड के जरिए सेटलमेंट प्रोसेस पेश किया था. इसके तहत अधिकतर क्लेम्स को महज 3 दिन में ही निपटाया गया. आमतौर पर वैधानिक रूप से इसके लिए 20 दिन तक का समय लगता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज