Home /News /business /

epfo slashed pf interest rates from 8 point 5 percent to 8 point 1 percent still it is best option for investment kcnd

Personal Finance : ब्याज दर घटने के बाद भी निवेश के लिए बेस्ट है PF, कई Saving Schemes से ज्यादा Interest

पीएफ के पैसे को सरकार जहां निवेश करती है, वहां रिटर्न कम हो गया है. इसलिए सरकार ने इस पर ब्याज दर (Interest Rate) में कटौती की है. लेकिन, पीएफ की ब्याज दर अब भी महंगाई दर से अधिक है.

पीएफ के पैसे को सरकार जहां निवेश करती है, वहां रिटर्न कम हो गया है. इसलिए सरकार ने इस पर ब्याज दर (Interest Rate) में कटौती की है. लेकिन, पीएफ की ब्याज दर अब भी महंगाई दर से अधिक है.

PF Investment : आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने महंगाई से परेशान अपने ग्राहकों को होली से पहले बड़ा तोहफा दिया है. बैंक ने फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposits-FD) पर ब्याज दरों (Interest Rate) में बदलाव किया है. नई दरें 10 मार्च 2022 से लागू हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. होली से पहले सरकार ने कर्मचारियों को एक बड़ा झटका दिया है, जो सीधे देश के लगभग छह करोड़ नौकरीपेशा को निराश करने वाला है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (CBT) की दो दिवसीय बैठक में गहन विचार-विमर्श करने के बाद एक बड़ा फैसला लिया गया है. ईपीएफ में जमा राशि पर मिलने वाली ब्याज दर में बदलाव करते हुए इसे 8.5 से घटाकर 8.1 फीसदी कर दिया है.

बैठक के शुरू होने पहले संभावना जताई जा रही थी कि इस दो दिवसीय बैठक में चालू वित्त वर्ष के लिए भविष्य निधि (PF) की ब्याज समेत कई प्रस्तावों पर बड़े फैसले हो सकते हैं. कहा जा रहा था कि मौजूदा आर्थिक हालातों को देखते हुए सीबीटी चालू वित्त वर्ष में ब्याज दरों में कमी या स्थिर रखने का फैसला कर सकता है. अस कटौती के बावजूद विशेषज्ञों का कहना है कि यह अभी निवेश का बेस्ट विकल्प है.

ये भी पढ़ें- EPFO की ब्याज दर एक बार फिर चर्चा में, फंड को कहां निवेश कर पैसा कमाता है ईपीएफओ

इसलिए पीएफ निवेश से न बनाएं दूरी
निवेश सलाहकार बलवंत जैन का कहना है कि आपके पीएफ के पैसे को सरकार जहां निवेश करती है, वहां रिटर्न कम हो गया है. इसलिए सरकार ने इस पर ब्याज दर (Interest Rate) में कटौती की है. लेकिन, पीएफ की ब्याज दर अब भी महंगाई दर से अधिक है और अन्य बचत योजनाओं के मुकाबले आकर्षक है. उन्होंने कहा कि निवेशकों को यह सोचकर पीएफ से दूरी नहीं बढ़ानी चाहिए कि इस पर ब्याज दर कम हो गया है.

ये भी पढ़ें- Investment Tips : दो साल में इस इक्विटी स्मॉलकैप इंडेक्स प्लान ने पैसे को दोगुना किया, जानिए डिटेल

वित्त मंत्रालय की मंजूरी बाकी
सीबीटी ने अभी जो ब्याज दर तय की है, उस पर अभी आखिरी फैसला लिया जाना बाकी है. सीबीटी के हालिया फैसले के बाद 2021-22 के लिए ईपीएफ जमा पर ब्याज दर की सूचना वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) को अनुमोदन के लिए भेजी जाएगी. वहां से मंजूरी के बाद ही यह दर लागू होगी. मार्च 2020 में ईपीएफओ ने 2019-20 के लिए भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर सात साल में सबसे कम 8.5 फीसदी करने का फैसला किया था, जो 2018-19 में 8.65 फीसदी थी.

ये भी पढ़ें- Petrol Diesel Prices Today : आज के नए रेट जारी, जानिए पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कितना हुआ बदलाव

इसलिए अन्य योजनाओं के मुकाबले आकर्षक है पीएफ
स्कीम    रिटर्न     निवेश अवधि
ईपीएफ   8.1 फीसदी    5 साल
सुकन्या समृद्धि 7.6 फीसदी    15 साल
सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम 7.4 फीसदी    5 साल
पीपीएफ   7.1 फीसदी    15 साल
किसान विकास पत्र   6.9 फीसदी    124 महीने
एनएससी  6.8 फीसदी    5 साल
पोस्ट ऑफिस मंथली स्कीम 6.6 फीसदी    5 साल
फिक्स्ड डिपॉजिट    3.5-6.8 फीसदी 7 दिन से 10 साल
नेशनल पेंशन योजना 5-8 फीसदी    60 साल की उम्र तक

Tags: EPF deposits, Epfo, Interest Rates, Investment

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर