• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • EPFO: नौकरीपेशा के लिए जरूरी खबर, जॉब बदलने पर तुरंत न निकालें PF का पैसा, बैलेंस पर मिलता है 3 साल तक ब्याज

EPFO: नौकरीपेशा के लिए जरूरी खबर, जॉब बदलने पर तुरंत न निकालें PF का पैसा, बैलेंस पर मिलता है 3 साल तक ब्याज

एम्‍प्‍लॉय प्रॉविडेंट फंड (EPF)

एम्‍प्‍लॉय प्रॉविडेंट फंड (EPF)

EPFO: लोग नौकरी छोड़ने के बाद अकसर लोग अपने एम्‍प्‍लॉय प्रॉविडेंट फंड (EPF) का पूरा पैसा निकाल लेते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि पीएफ अकाउंट (PF Account) का पूरा पैसा निकालना आपके लिए घाटे का सौदा हो सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. लोग नौकरी छोड़ने के बाद अकसर लोग अपने एम्‍प्‍लॉय प्रॉविडेंट फंड (EPF) का पूरा पैसा निकाल लेते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं पीएफ अकाउंट (PF Account) का पूरा पैसा निकालना आपके लिए घाटे का सौदा हो सकता है. इससे आपके भविष्य के लिए बन रहा बड़ा फंड और बचत खत्म हो जाती है. साथ ही पेंशन की निरंतरता नहीं रहती. बेहतर होगा कि नई कंपनी ज्वाइन करने पीफ को पुराने के साथ जोड़ दें या मर्ज कर दें. रिटायरमेंट के बाद भी अगर आपको पैसे की जरूरत नहीं है तो कुछ साल के लिए पीएफ छोड़ सकते हैं.

    आइए जानते हैं कि नौकरी छोड़ने के बाद आपके पीएफ अकाउंट (PF Account) और उसमें जमा रकम का क्‍या होता है.

    नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ पर मिलता है ब्याज
    एक्सपर्ट के मुताबिक अगर कर्मचारी नौकरी छोड़ते हैं या उन्हें किसी वजह से नौकरी से निकाला जाता है, तो भी आप अपना पीएफ कुछ साल के लिए छोड़ सकते हैं. अगर आपको पीएफ के पैसे की जरूरत नहीं है तो इसे तुरंत न निकालें. नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ पर ब्याज मिलता रहता है और नया रोजगार मिलने के साथ ही उसे नई कंपनी में ट्रांसफर किया जा सकता है. नई कंपनी में PF को मर्ज किया जा सकता.

    ये भी पढ़ें: Ration Card: क्या आप भी बनवाना चाहते हैं राशन कार्ड? तो बेहद जरूरी है ये डाक्यूमेंट, जानें कैसे करें अप्लाई 

    तीन साल तक कंपनी देती है ये सुविधा
    बता दें कि नौकरी छोड़ने के 36 महीने यानी 3 साल तक पीएफ अकाउंट ब्याज मिलता है. यहां आपको यह जान लेना जरूरी है कि पहले 36 महीने तक कोई कॉन्ट्रिब्यूशन (Contribution) नहीं होने पर कर्मचारी का पीएफ अकाउंट निष्क्रिय खाते (In Operative Account) की श्रेणी में डाल दिया जाता था. ऐसे में आपको अपना खाता एक्टिव रखने के लिए कुछ रकम तीन साल से पहले निकालनी होगी.

    PF की रकम पर मिले ब्‍याज पर लगता है टैक्‍स
    नियमों के मुताबिक, कॉन्ट्रिब्यूशन नहीं करने पर पीएफ अकाउंट निष्क्रिय नहीं होता है, लेकिन इस दौरान मिले ब्याज पर टैक्स (Tax on Interest Income) लगता है. पीएफ खाते के निष्क्रिय होने के बाद भी क्लेम नहीं किया तो रकम सीनियर सिटीजंस वेलफेयर फंड (SCWF) में चली जाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज