म्यूचुअल फंड: इन स्कीम में पैसा लगाने वालों को हुआ 20% तक का नुकसान, अब क्या करें?

म्यूचुअल फंड: इन स्कीम में पैसा लगाने वालों को हुआ 20% तक का नुकसान, अब क्या करें?
म्यूचुअल फंड: इन स्कीम में पैसा लगाने वालों को हुआ 20% तक का नुकसान, अब क्या करें

वैल्यू रिसर्च के आंकड़ों के मुताबिक, 147 म्यूचुअल फंड्स स्कीमों (एक्टिवली मैनेज्ड) में से 123 के निवेशक नुकसान में हैं. सबसे ज्यादा नुकसान स्मॉलकैप फंड के निवेशकों को हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2018, 7:45 AM IST
  • Share this:
शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव तो रहता ही है, लेकिन कभी-कभी, कुछ स्टॉक ऐसे होते हैं, जिनकी गिरावट से शेयरधारक की जेब तो खाली होती ही है, म्यूचुअल फंड के मुनाफे पर भी असर होता है. अगर आंकड़ों पर नज़र डाले, तो एक साल से म्यूचुअल फंड की इक्विटी (शेयर बाजार में लगा पैसा) स्कीमों में SIP के जरिए पैसा लगाने वाले निवेशकों को 20 फीसदी तक का नुकसान उठाना पड़ रहा है. इसकी वजह शेयर बाजारों में आई कमजोरी है.

इस पर एक्सपर्ट्स कहते हैं कि शेयर बाजार की गिरावट से घबराने की जरूरत नहीं है. उतार चढ़ाव से म्यूचुअल फंड में गिरावट होती है. फंड मैनेजर फंड के निवेश पर काम करते हैं. म्यूचुअल फंड में स्टॉक के मुकाबले जोखिम कम होता है. म्यूचुअल फंड निवेशक के मुकाबले शेयरधारकों को ज्यादा नुकसान होता है. म्यूचुअल फंड में निवेशक फंड में बने रहें.

निवेशकों को हुआ नुकसान- वैल्यू रिसर्च के आंकड़ों के मुताबिक, 147 स्कीमों (एक्टिवली मैनेज्ड) में से 123 के निवेशक नुकसान में हैं. सबसे ज्यादा नुकसान स्मॉलकैप फंड के निवेशकों को हुआ है. मिडकैप और मल्टीकैप फंडों को भी नुकसान उठाना पड़ा है. आपको बता दें कि SIP स्कीम में हर महीने या हर तिमाही एक निश्चित रकम म्यूचुअल फंड की स्कीम में डालते हैं. यह बैंकों के रेकरिंग डिपॉजिट की तरह है. पिछले दो साल में कई नए निवेशकों ने म्यूचुअल फंड में निवेश के लिए SIP का रास्ता अपनाया है.(ये भी पढ़ें-म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर: अब घटेगा खर्च, मिलेगा ज्यादा मुनाफा)



स्मॉलकैप फंड में एक साल के दौरान सिप से हर महीने किए गए 1,000 रुपये निवेश की वैल्यू 25 सितंबर को 9,726 रुपये रह गई. 12,000 रुपये के कुल निवेश पर यह 2,374 रुपये का नुकसान है. लेकिन, दो साल में स्कीम का प्रदर्शन अच्छा है. 141 इक्विटी म्यूचुअल फंडों में से कम से कम 22 ने पिछले दो साल में निगेटिव रिटर्न दिया है.(ये भी पढ़ें-VIDEO: बुरे वक्त में भी रहेंगे हाथ में लाखों रुपये, बस आज से करें ये 4 काम)
अब क्या करें निवेशक- आनंदराठी प्राइवेट वेल्थ मैनेजमेंट के डिप्टी सीईओ फिरोज अजीज का कहना है कि इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश कम से कम 5 साल के लिए किया जाना चाहिए. निवेश कम से कम 5 साल के लिए करना चाहिए. निवेशकों को छोटी अवधि में बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव से नहीं डरना चाहिए. इसकी वजह यह है कि कंपनियों की कमाई अच्छी होने पर जल्द बाजार की चाल बदल जाएगी.(ये भी पढ़ें-Paytm पर अगले महीने से खरीद पाएंगे ये स्कीम, जो देंगी बैंकों से ज्यादा मुनाफा)

गिरावट पर ऐसे होता है फायदा-फिरोज अजीज का कहना है कि शेयर बाजार की यह कमजोरी ज्यादा यूनिट हासिल करने का अच्छा मौका होता है. लिहाजा निवेशकों को अपना SIP जारी रखना चाहिए. उन्हें छोटी अवधि में निगेटिव रिटर्न से घबराना नहीं चाहिए. शेयर बाजार में गिरावट म्यूचुअल फंड के निवेशक के लिए अच्छा समय होता है, क्योंकि इससे उन्हें ज्यादा रिटर्न कमाने और संपत्ति बनाने में मदद मिलती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज