होम /न्यूज /व्यवसाय /इक्विटी म्यूचुअल फंड में बढ़ रहा है निवेशकों का रुझान, FY22 में 1.64 लाख करोड़ का शुद्ध निवेश

इक्विटी म्यूचुअल फंड में बढ़ रहा है निवेशकों का रुझान, FY22 में 1.64 लाख करोड़ का शुद्ध निवेश

इक्विटी फंड्स का प्रदर्शन बेंचमार्क इंडेक्स के मुकाबले कमजोर रहा है

इक्विटी फंड्स का प्रदर्शन बेंचमार्क इंडेक्स के मुकाबले कमजोर रहा है

Mutual Fund: एक्सपर्ट्स का मानना है कि मौजूदा आर्थिक और बाजार स्थितियों के बीच आगे इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश के और ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. निवेश के परंपरागत विकल्पों पर रिटर्न में कमी और सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) की ओर बढ़ते रुझान की वजह से इक्विटी म्यूचुअल फंड (Equity Mutual Funds) निवेशकों के आकर्षण का केंद्र बन गए हैं. बीते वित्त वर्ष 2021-22 में इक्विटी से जुड़े फंड्स में 1.64 लाख करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया है. एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया यानी एम्फी (Amfi) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

एक्सपर्ट्स को निवेश में और बढ़ोतरी की उम्मीद
इससे पहले 2020-21 में निवेशकों ने इक्विटी म्यूचुअल फंड से 25,966 करोड़ रुपये की निकासी की थी. जेडफंड्स के सीईओ और फाउंडर मनीष कोठारी ने कहा, ‘‘आगे चलकर हम मौजूदा आर्थिक और बाजार स्थितियों के मद्देनजर इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश का प्रवाह जारी रहने की उम्मीद करते हैं.’’

आंकड़ों के अनुसार, पूरे 2021-22 में इक्विटी म्यूचुअल फंड में 1,64,399 करोड़ रुपये का शुद्ध प्रवाह हुआ. इसमें पिछले महीने आया 28,464 करोड़ रुपये का रिकॉर्ड निवेश भी शामिल है. रूस और यूक्रेन युद्ध के कारण भू-राजनीतिक तनाव और कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों पर चिंताओं की वजह से फरवरी के अंत और मार्च की शुरुआत में बाजार में ‘करेक्शन’ हुआ. इससे निवेशकों को लिवाली का अच्छा अवसर मिला जिसे वे भुनाने से चूके नहीं. मजबूत प्रवाह से इक्विटी म्यूचुअल फंड की परिसंपत्तियां इस साल मार्च के अंत तक 38 फीसदी बढ़ाकर 13.65 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गईं.

ये भी पढ़ें- बंधन बैंक द्वारा आईडीएफसी म्यूचुअल फंड के अधिग्रहण का कंपनी व उसके निवेशकों पर क्या होगा असर?

मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-मैनेजर रिसर्च हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘चिंताओं के बावजूद दीर्घावधि के लिए वृद्धि परिदृश्य मजबूत बना हुआ है, जिसने निवेशकों के बीच धारणा को सकारात्मक रखने का काम किया है. इसके अलावा यह धारणा भी है कि बीच-बीच में ‘करेक्शन’‘ के बावजूद बाजार ऊपर की ओर बढ़ना जारी रहेगा. ऐसे में बाजार के नीचे आने के समय निवेशक निवेश करने का मौका नहीं चूक रहे हैं.’’

एम्फी के चीफ एग्जीक्यूटिव एन एस वेंकटेश ने कहा कि म्यूचुअल फंड निवेशकों ने एसआईपी के अनुशासित निवेश के जरिये अपने रिटर्न को मजबूत किया है.

ये भी पढ़ें- Mutual Fund SIP : नए वित्त वर्ष में इन स्कीम में लगा सकते हैं पैसा, जानें तीन साल में कितना दिया रिटर्न

इसके अलावा इक्विटी से जुड़े कोषों के लिए फोलियो की संख्या या निवेशकों के अकाउंट्स मार्च, 2022 में बढ़कर 8.6 करोड़ हो गए, जो अप्रैल, 2021 में 6.64 करोड़ थे. इस तरह फोलियो की संख्या में 29 फीसदी की वृद्धि है. यह म्यूचुअल फंड संपत्तियों के प्रति निवेशकों के भरोसे को दर्शाता है.

Tags: Mutual fund, Mutual funds

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें