ESIC ने हर महीने विकलांगता लाभ देने को लेकर जारी किए गाइडलाइंस

कर्मचारी राज्य बीमा निगम
कर्मचारी राज्य बीमा निगम

ईएसआईसी (ESIC) ने अपने सभी क्षेत्रीय कार्यालयों को हर महीने बीमित व्यक्तियों और उनके आश्रितों को स्थायी विकलांगता लाभ और आश्रित लाभ वितरित करने को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. कर्मचारी राज्य बीमा निगम (Employees' State Insurance Corporation) ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Epidemic) के बीच अपने सभी क्षेत्रीय कार्यालयों को हर महीने बीमित व्यक्तियों और उनके आश्रितों को स्थायी विकलांगता लाभ और आश्रित लाभ वितरित करने को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

श्रम मंत्रालय ने गुरुवार को एक बयान में कहा, ''ईएसआईसी ने कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए अपने सभी क्षेत्रों और उप-क्षेत्र प्रमुखों को हर महीने बीमित व्यक्तियों और उनके आश्रितों को स्थायी विकलांगता लाभ और आश्रित लाभ प्रदान करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं.''

बयान के अनुसार सभी क्षेत्र और उप-क्षेत्र पूरे कोविड-19 अवधि के दौरान लगातार स्थायी विकलांगता लाभ और आश्रित लाभ बीमित व्यक्तियों और उनके आश्रितों को मासिक आधार पर भुगतान कर रहे हैं. इसके साथ बीमाधारक की उपार्जन क्षमता में कमी का पता करने के लिए नियमित मेडिकल बोर्ड का संचालन किया जाता है.



राजस्थान के सिरोही जिले के पिंडवाडा में कार्यरत सिलिकोसिस/बायोसिनोसिस जैसी पेशा से संबद्ध बीमारियों से पीड़ित 48 ईएसआईसी बीमित व्यक्तियों के लिए मॉडल अस्पताल, जयपुर में एक मेडिकल बोर्ड की व्यवस्था की गई थी.
इससे पहले, पेशागत रोगों से पीड़ित बीमित व्यक्तियों की जांच के लिए एक और मेडिकल बोर्ड भी गठित किया गया था.

गौरतलब है कि मेडिकल बोर्ड के संचालन से पहले सभी 48 बीमित व्यक्तियों का पहली बार कोविड-19 परीक्षण किया गया था. मेडिकल बोर्ड के निर्णय के अनुसार, 85 विकलांगों को स्थायी विकलांगता लाभ मिलना शुरू हुआ है। ये सभी पेशागत रोगों से पीड़ित थे.

इसके अतिरिक्त, छह मृतक बीमित व्यक्तियों के आश्रितों को लाभ (आश्रित लाभ) का भुगतान इस महीने शुरू किया गया है. इनकी मृत्यु सिलिकोसिस/बायोसिनोसिस के कारण हुई थी.

क्या है ईएसआईसी स्कीम?
गौरतलब है कि प्रति महीने 21,000 रुपये या इससे कम सैलरी प्राप्त करने वाले इंडस्ट्रियल वर्कर्स ESIC स्कीम के अंतर्गत आते हैं. हर महीने उनकी सैलरी का एक हिस्सा कटता है, जिसे ESIC के मेडिकल बेनिफिट के तौर पर डिपॉजिट किया जाता है. वर्कर्स की सैलरी से हर महीने 0.75 फीसदी और नियोक्ता की तरफ से 3.25 फीसदी प्रतिमाह ESIC किटी में जमा होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज