गन्ना किसानों के लिए आई बड़ी खबर, एथेनॉल पर आज शाम कैबिनेट सचिव करेंगे अहम बैठक

सरकार एथेनॉल की कीमतें 3 रुपये प्रति लीटर बढ़ाने की तैयारी में है.
सरकार एथेनॉल की कीमतें 3 रुपये प्रति लीटर बढ़ाने की तैयारी में है.

Ethanol Latest News: एथेनॉल के मुद्दे पर आज शाम को अहम बैठक होने वाली है. इस बैठक में एथेनॉल पॉलिसी ड्राफ्ट पर सहमति बन सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 11:29 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कच्चे तेल पर निर्भरता को घटाने के लिए केंद्र सरकार लगातार कदम उठा रही है. इसी कड़ी में आज एक अहम बैठक होने वाली है. CNBC आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, एथेनॉल पॉलिसी (Ethanol Policy) के ड्राफ्ट को फाइनल करने के लिए कैबिनेट सचिव बैठक करेंगे. एथेनॉल पॉलिसी मेें सिर्फ गन्ने की बजाय अनाज से भी एथेनॉल बनाने पर पर जोर होगा. मार्केटिंग, ब्लैंडिंग और प्राइसिंग पॉलिसी का अहम हिस्सा है. आपको बता दें कि एथेनॉल एक तरह का अल्कोहल है जिसे पेट्रोल में मिलाकर गाड़ियों में फ्यूल की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है. एथेनॉल का उत्पादन यूं तो मुख्य रूप से गन्ने की फसल से होता है लेकिन शर्करा वाली कई अन्य फसलों से भी इसे तैयार किया जा सकता है. इससे खेती और पर्यावरण दोनों को फायदा होता है.

भारतीय परिपेक्ष्य में देखा जाए तो एथेनॉल ऊर्जा का अक्षय स्रोत है क्योंकि भारत में गन्ने की फसल की कमी कभी नहीं हो सकती. ऐसे में एथेनॉल की कीमतें बढ़ने से किसानों को फायदा होगा. क्योंकि शुगर मिल आसानी से गन्ना किसानों के बकाए का भुगतान कर पाएंगी.

एथेनॉल पर अहम बैठक- सूत्रों ने बताया कि आज की बैठक में कंज्यूमर अफेयर्स मंत्रालय के अधिकारी, पेट्रोलियम मंत्रालय के अधिकारी और शुगर मिल्स के प्रतिनिधि शामिल होंगे. माना जा रहा है कि सरकार गन्ने के अलावा अनाजों से भी एथेनॉल बनाने पर जोर देना चाहती है.



जल्द बढ़ सकते हैं एथेनॉल- पेट्रोलियम मंत्रालय (Petroleum Ministry) एथेनॉल के दाम बढ़ाने से जुड़ा प्रस्ताव कैबिनेट को भेज चुका है.माना जा रहा है इस पर जल्द फैसला हो सकता है. सरकार एथेनॉल की कीमतें 3 रुपये प्रति लीटर बढ़ाने की तैयारी में है. एथेनॉल  की बढ़ी कीमत 1 दिसंबर, 2020 से लागू करने का प्रस्ताव है. अभी एथेनॉल (Ethanol Price Hike Soon:) की कीमत 43.75 रु प्रति लीटर से लेकर 59.48 रु प्रति लीटर है.



एथेनॉल के बारे में जानिए-एथेनॉल इको-फ्रैंडली फ्यूल है और पर्यावरण को जीवाश्म ईंधन से होने वाले खतरों से सुरक्षित रखता है. इस फ्यूल को गन्ने से तैयार किया जाता है. कम लागत पर अधिक ऑक्टेन देता है और MTBE जैसे खतरनाक फ्यूल के लिए ऑप्शन के रूप में काम करता है.यह इंजन की गर्मी को भी बाहर निकालता है. एल्कोहल बेस्ड फ्यूल गैसोलीन के साथ मिलकर ई 85 तक तैयार हो गया. कहने का मतलब एथेनॉल फ्यूल हमारे पर्यावरण और गाड़ियों के लिए सुरक्षित है.

ये भी पढ़ें-दिवाली पर इस ऐप से 1 रुपये में भी खरीदा जा सकता है गोल्‍ड, फिजिकल डिलिवरी का है ऑप्‍शन




एथेनॉल के इस्तेमाल से 35 फीसदी कम कार्बन मोनोऑक्साइड का उत्सर्जन होता है. इतना ही नहीं यह कार्बन मोनोऑक्साइड उत्सर्जन और सल्फर डाइऑक्साइड को भी कम करता है. इसके अलावा एथेनॉल हाइड्रोकार्बन के उत्सर्जन को भी कम करता है. एथेनॉल में 35 फीसदी फीसद ऑक्सीजन होता है. एथेनॉल फ्यूल को इस्तेमाल करने से नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जन में कमी आती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज