लाइव टीवी

Exclusive Interview: बजट के बाद बोलीं वित्त मंत्री- हमने सभी की उम्मीदों का रखा ख्याल

News18Hindi
Updated: February 2, 2020, 10:29 AM IST
Exclusive Interview: बजट के बाद बोलीं वित्त मंत्री- हमने सभी की उम्मीदों का रखा ख्याल
बजट पेश करने जातीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने बजट भाषण के बाद नेटवर्क 18 के ग्रुप एडिटर राहुल जोशी से खास इंटरव्यू में कहा कि इस बजट में उन सभी वर्ग के लिए कुछ रखा है जिन्हें सरकार से कुछ न कुछ उम्मीद थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2020, 10:29 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को यूनियन बजट 2020 (Union Budget 2020) संसद में पेश कर दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली NDA सरकार 2.0 में वित्त मंत्री ने इनकम टैक्स स्लैब (Income Tax Slab) में बदलाव से लेकर बैंक​ डिपॉजिट इंश्योरेंस को बढ़कार 5 लाख रुपये करने समेत कई बड़े ऐलान किए. केंद्र सरकार की इस बजट की मूल बात ये रही है कि सरकार चाहती है कि आम लोगों के हाथ में पैसा आए और वो खर्च करना शुरू करें ताकि सुस्त अर्थव्यवस्था को रफ्तार मिल सके. फंड आवंटन के मामले में इस बजट में कृषि और ग्रामीण क्षेत्रों पर सरकार का फोकस रहा.

वहीं, ट्रांसपोर्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने के लिए सरकार ने 1.7 लाख करोड़ रुपये का ऐलान किया. वहीं, एजुकेशन सेक्टर के लिए 99,300 करोड़ रुपये और हेल्थ सेक्टर को 60 हजार करोड़ रुपये आवंटित करने का ऐलान किया है. बजट पेश करने के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने नेटवर्क 18 के प्रबंध निदेशक राहुल जोशी से खास बात की, जिसमें उन्होंने बजट में किए गए घोषणाओं के बारे में विस्तृत जानकारियां दीं.

खपत बढ़ाने पर जोर
इंटरव्यू में वित्त मंत्री ने बताया कि सरकार अपने इस बजट में उन सभी वर्ग के लिए कुछ रखा है जिन्हें सरकार से कुछ न कुछ उम्मीद थी. उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि वो कुछ ऐसा लेकर आए ताकि खपत में इजाफा हो. साथ ही सरकार पब्लिक इन्वेस्टमेंट (Public Investment) में कोई कटौती नहीं करना चाहती थी.

​सीतारमण ने कहा कि सरकार ने कॉरपोरेट टैक्स (Corporate Tax) में कटौती करने के साथ ही अपनी मंशा साफ कर दिया था और अब प्राइवेट इन्वेस्टमेंट में तेजी देखने को मिलेगी. उन्होंने क​हा कि निवेशक सहूलियत केंद्र (Investment Facilitation Center) खोले जा रहे हैं ताकि सॉवरेन फंड्स (Sovereign Funds) के जरिए पूंजी बनी रहे. वित्त मंत्री ने कहा कि आंकड़ों से पता चलता है कि जुलाई 2019 के बाद निवेश के मोर्चे पर ​नाकारात्मकता खत्म हो चुकी है.

यह भी पढ़ें: Budget 2020: जानें क्या हुआ महंगा और किस सामान की खरीद पर मिलेगी राहत

सोमवार को शेयर माकेर्ट में आएगी तेजी बजट के बाद स्टॉक मार्केट (Stock Market) में भारी गिरावट को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि सोमवार को शेयर बाजार में साकारात्मक असर देखने को मिलेगा.​ वित्त मंत्री ने कहा कि बजट को समझने के बाद निवेशकों का सेंटीमेंट पॉजिटीव होगा.

तेजी के लिए हर संभव प्रयास कर रही सरकार
वित्त मंत्री ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए केंद्र सरकर हर जरूरी कदम उठा रही है. उन्होंने आगे कहा कि वित्तीय घाटे की वजह से रेटिंग डाउनग्रेड किए जाने की संभावना नहीं होगी. उन्होंने कहा कि ​वित्तीय नंबर्स अभी फ्रेमवर्क के दायरे में है. गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थानों (NBFC) में लिक्विडिटी की संकट को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि हम सुनिश्चित करेंगे NBFC सेक्टर में पर्याप्त तरलता बने. उन्होंने कहा कि एनबीएफसी सेक्टर में लिक्विडिटी की कमी को हमने नजरअंदाज नहीं किया है.

यह भी पढ़ें: बजट से निराश हुआ बाजार, 162 मिनट के भाषण ने निवेशकों के डुबोए ₹3.6 लाख करोड़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2020, 5:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर