लाइव टीवी
Elec-widget

बिहार से वस्तु निर्यातों में 900 मिलियन यूएस डॉलर की संभावनाएं: एक्ज़िम बैंक शोध अध्ययन

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 3:25 PM IST
बिहार से वस्तु निर्यातों में 900 मिलियन यूएस डॉलर की संभावनाएं: एक्ज़िम बैंक शोध अध्ययन
भारतीय निर्यात -आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी शोध अध्ययन के अनुसार, बिहार से वस्तु निर्यातों में हाल के कुछ वर्षों में उल्लेखनीय सुधार आया है.

भारतीय निर्यात -आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी शोध अध्ययन के अनुसार, बिहार से वस्तु निर्यातों में हाल के कुछ वर्षों में उल्लेखनीय सुधार आया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 3:25 PM IST
  • Share this:
भारतीय निर्यात -आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी शोध अध्ययन के अनुसार, बिहार से वस्तु निर्यातों में हाल के कुछ वर्षों में उल्लेखनीय सुधार आया है. वर्ष 2017-18 में बिहार से वस्तु निर्यात 1.35 अरब यूएस डॉलर के रहे, जो 2012-13 के दौरान 0.40 अरब यूएस डॉलर के थे. फिर भी बिहार से अभी 900 मिलियन यूएस डॉलर के निर्यात की संभावनाएं है. यदि इन्हें भुना लिया जाए तो राज्य से वस्तु निर्यात अल्पावधि 2 अरबर यूएस डॉलर के पार हो सकता है. निर्याताों को बढ़ाने की समुचित रणनीति अपनाते हुए मध्यावधि में राज्य से निर्यातों को और बढ़ाया जा सकता है.

एक्ज़िम बैंक ने इन्हीं संभावनाओं पर चर्चा के लिए 'बिहार से निर्यात का संवर्द्धन' विषय पर 18 नवंबर, 2019 को बिहार की राजधानी पटना में एक चर्चापरक सेमिनार आयोजित किया. इसका उद्देश्य राज्य में निहित निर्यात संभावनओं और निर्यात अवसरों के बारे में निर्यातको की जागरुकता बढ़ाना तथा बिहार से निर्यात संभावनाओं को भुनाने के लिए निर्यात रणनीति बनाने में सहयोग करना था. सेमिनार में बिहार के उद्योग जगत से आए लोगों ने हिस्सा लिया और एक्ज़िम बैंक, राज्य सरकार, फिओ तथा डीजीएफटी के अधिकारी वक्ता के रूप में उपस्थिर रहे.

इस अवसर पर एक्ज़िम बैंक ने 'बिहार से निर्यातों का संवर्द्धन: विश्लेषण एंव नीतिगत परिप्रेक्ष्य ' शीर्षक वाले अपने कार्यकारी आलेख का विमोचन किया. इस अध्ययन में बिहार की आर्थिक प्रोफाइल तथा राज्यों से निर्यातों की संभावनाओं का विश्लेषण किया गया है और राज्य स्तर पर निर्यातों के लिए बेहतर परिवेश बनाने की रणनीति सुझाई गई है.

अध्ययन में राज्य के लिए बहुआयामी रणनीति चिह्नित की गई है, जिसके जरूरी आयाम  है-उत्पादों और बाजारों का विशाखन, बुनियादी ढाचों को मज़बूत करना और उसका लाभा उठाना, क्षमता विकास, वित्तीय प्रोत्साहन, निर्यात संवर्धन अभियान और संस्थागत समन्वय. अध्ययन में मुजफ्फरपुर और भागलपुर में अंतर्देशीय कंटेनर डिपो (आईसीडी) स्थापित करने और पटना के मौजूदा आईसीडी में एक कस्टम क्लीयरेंस ऑफिस बनाने, राज्य में वेयरहाउसिंग और कोल्ड चेन बुनियादी ढांचे को बढ़ाने, और पटना, मुजफ्फरपुर या भागलपुर जिलों में विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाने का सुझाव दिया गया है. इसके अतिरिक्त, अध्ययन में बुनियादी ढांचागत सुविधाओं के अभाव में बढ़ाने वाली निर्यातकों की लागत को कम करने के लिए उन्हें ढुलाई भाड़ा समकरण साहयता प्रदान करने का सुझाव भी दिया गया है. क्षमता विकास की दृष्टि से अध्ययन में निर्यतकों द्वारा सांविधिक प्रमाणिकरण प्राप्त करने में किए गए खर्च को रिफंड करने का सुझाव भी दिया गया है. इसके अतिरिक्त, राज्य जीआई उत्पादों की बेहतर ब्रांडिंग और मार्केटिंग करने का उपाय भी सुझाया गया है.

इस अध्ययन का विमोचन, कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे बिहार सरकार के उद्योग विभाग में सचिव नर्मदेश्वर लाल (IAS) द्वारा किया गया. इस अवसर पर श्री लाल ने राज्य सरकार द्वारा राज्य के निर्यातकों को सहयोग के लिए किए गए प्रयासों को रेंखाकित किया और बिहार सरकार की भविष्य की योजनाओं की जानकारी दी.

एक्ज़िम बैंक के महाप्रबंधक लोकेश कुमार ने अपने वक्तव्य में बिहार में मौजूद आर्थिक और निर्यात के अवसरों पर बात की. उन्होंने राज्य के निर्यातकों में क्षमता विकास की आवश्यकता और इस दिशा में एक्ज़िम बैंक द्वारा किए जा रहे निरंतर प्रयासों की ओर भी ध्यान खींचा. एग्जिम बैंक कोलकाता के क्षेत्रीय प्रमुख संजय लांबा ने अपनी एक्ज़िम बैंक के प्रमुख कर्ज क्रायक्रमों के बारे में बताया. इससे निर्यातक अपने निर्यात बाजारों का विस्तार करने के लिए इन कार्यक्रामों का कैसे फायदा उठा सकते हैं. उन्होंने एक्ज़िम बैंक द्वारा विभिन्न दस्तकारों और उद्यमियों को दी गई वित्तीय सहायता की सफलता से जुड़ी कई कहानियां सुनाई. उन्होंने निर्यातकों को एक्ज़िम बैंक के व्यापार वित्त पोर्टल एक्ज़िम मित्र के बारे में भी बताया. पोर्टल के जरिए निर्यातक यह जान सकते हैं कि निर्यात के अवसर कहां है. अंतर्राष्ट्रीय जोखिमों का मूल्यांकन कैसे किए जाए.

डीजीएफटी और फिओ जैसे अन्य प्रतिभागी संगठनों के प्रतिनिधियों ने  भी निर्यातकों को निर्यात के विभिन्न पहलुओं और सरकार द्वारा निर्यातों के लिए दिए जाने वाले प्रोत्साहनों और निर्यात संवर्धन कार्यक्रमों की जानकारी दी.
Loading...

(एडवरटोरियल कंटेंट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 2:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...