निर्यात लगातार 13वें माह बढ़ा, सितंबर में 25.67 फीसदी

आईटी-ऑटो सेक्टर के लिए अच्छे दिन: रुपया कमजोर होने से आईटी और ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए फायदेमंद साबित हो रहा है. सॉफ्टवेयर सर्विसेज एक्सपोर्ट से आईटी इंडस्ट्री को फायदा होगा. और विदेश में गाड़ियों का निर्यात करने वाली कंपनियों का रेवेन्यू भी बढ़ेगा. गौरतलब है कि इंफोसिस, टीसीएस और विप्रो जैसी बड़ी आईटी कंपनियां का मुख्यालय अमेरिका में है और वो वहां बड़े पैमाने पर कारोबार करती है.

  • Share this:
    देश का निर्यात इस साल सितंबर में बढ़कर 28.61 अरब डॉलर रहा, जबकि अगस्त में यह 23.81 अरब डॉलर और पिछले साल के सितंबर में 22.77 अरब डॉलर थी. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के मुताबिक सितंबर में साल-दर-साल आधार पर निर्यात में 25.67 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई और पिछले साल के सितंबर के 22.77 अरब डॉलर से बढ़कर इस साल यह 28.61 अरब डॉलर हो गई.

    मंत्रालय ने एक बयान में कहा, पिछले 13 महीनों से निर्यात में अच्छा प्रदर्शन रहा है और सितंबर के दौरान इसमें 25.67 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई. डॉलर में संदर्भ में इसका मूल्य 2861.34 करोड़ डॉलर रहा, जबकि साल 2016 के सितंबर में यह 2276.35 करोड़ डॉलर थी. सितंबर के दौरान निर्यात में शीर्ष दस सामानों ने सकारात्मक प्रदर्शन किया है और इनकी हिस्सेदारी 82.14 फीसदी रही.

    बयान में कहा गया, "निर्यात किए गए इंजीनियरिंग सामान में 44.22 फीसदी, रत्न और आभूषण में 7.10 फीसदी, पेट्रोलियम उत्पादों में 39.69 फीसदी, ऑर्गेनिक और इनऑर्गेनिक रसायनों में 46.06 फीसदी, रेडीमेड कपड़ों में 29.39 फीसदी, ड्रग और फार्मास्यूटिकल में 14.67 फीसदी, सूती धागा/कपड़ा/वस्त्र, हथकरघा उत्पादों में 15.20 फीसदी, समुद्री उत्पादों में 32.73 फीसदी, चावल में 45.66 फीसदी और इलेक्ट्रॉनिक सामानों में 14.32 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई."

    हालांकि समीक्षाधीन माह में देश का आयात भी 18.09 फीसदी बढ़कर 37.60 अरब डॉलर का हो गया, जो कि एक साल पहले की समान अवधि में 31.84 अरब डॉलर थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.