Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    FM निर्मला सीतारमण ने बैंकों से कहा- जांच एजेंसियों से डरे बिना कर्ज दें, सरकार 100 फीसदी गारंटी दे रही

    केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण
    केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा कि बैंकों को पात्र कर्जदारों को कर्ज देने से पहले किसी भी जांच एजेंसी से डरने की जरूरत नहीं है. सरकार ने पहले ही कहा है कि 100 फीसदी गारंटी देंगे.

    • Share this:
    नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को बताया कि बैंकों को ‘3-C’ नाम से चर्चित जांच एजेंसियों, 'CBI, CVC और CAG’ के डर के बिना अच्छे कर्जदारों (Borrowers) को स्वचालित रूप से कर्ज देने के लिये कहा गया है. उन्होंने कहा कि शुक्रवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (Public Sector Banks) और वित्तीय संस्थानों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों व प्रबंध निदेशकों के साथ बैठक में स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि बैंकों को ऋण देने से डरना नहीं चाहिये, क्योंकि सरकार द्वारा 100 प्रतिशत गारंटी दी जा रही है.

    उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता नलिन कोहली के साथ एक बातचीत में यह कहा. वित्त मंत्री की इस बातचीत को पार्टी के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर शेयर किया गया है.

    सरकार ने 100 प्रतिशत गारंटी दी है
    सीतारमण ने कहा, 'कल, मैंने दोहराया कि अगर कोई निर्णय गलत हो जाता है, और अगर कोई नुकसान होता है, तो सरकार ने 100 प्रतिशत गारंटी दी है. यह व्यक्तिगत अधिकारी और बैंक के खिलाफ नहीं जाने वाला है. अत: बिना किसी डर के उन्हें इस स्वचालित मार्ग को इस अर्थ में अपनाना चाहिये कि सभी पात्र लोगों को अतिरिक्त ऋण और अतिरिक्त कार्यशील पूंजी उपलब्ध हो.'
    यह भी पढ़ें: 15 साल में सबसे सस्ता होम लोन! अब इतने रुपये कम देनी होगी EMI



    MSME के लिए लोन गारंटी के बाद उठे थे सवाल
    सरकार ने 20.97 लाख करोड़ रुपये के व्यापक आर्थिक पैकेज के हिस्से के रूप में एमएसएमई क्षेत्र के लिये तीन लाख करोड़ रुपये की आपात कर्ज गारंटी योजना की घोषणा की है. यह कहा जा रहा है कि बैंकिंग क्षेत्र में थ्री-सी यानी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) द्वारा अनुचित उत्पीड़न की आशंका के कारण निर्णय प्रभावित हो रहे हैं.

    पिछले 7-8 महीनों 3 बार कहा कि एजेंसियों से न डरें
    उन्होंने कहा कि वित्त मंत्रालय ने इन आशंकाओं को दूर करने के लिये कई कदम उठाये हैं. इन कदमों में कुछ ऐसी अधिसूचनाओं को वापस लेना भी शामिल है, जो बैंकरों में डर पैदा कर रहे थे. सीतारमण ने कहा,"...इन बैंकों के मन में चिंताएं पहले भी थीं और बहुतों को अब भी यह डर रहता है और उसका ठोस आधार भी है. वास्तव में मैंने पिछले सात-आठ महीनों में कम से कम तीन बार बैंकों से कहा है कि उनके मन में तीन-सी का डर नहीं होना चाहिये.’’

    यह भी पढ़ें: 3 महीने तक PF कंट्रीब्यूशन घटाने से क्या होगा सैलरी पर असर? EPFO ने दिए जवाब

    आर्थिक पैकेज में टूरिज्म, वाहन और नागरिक उड्डयन सहित कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों को छोड़ दिये जाने को लेकर हो रही आलोचना के बारे में पूछे जाने पर सीतारमण ने कहा कि सरकार ने एक क्षेत्र आधारित दृष्टिकोण नहीं बल्कि समग्र दृष्टिकोण अपनाया है.

    बिजली और कृषि सेक्टर के अलावा अन्य किसी सेक्टर के लिए विशेष ऐलान नहीं
    उन्होंने कहा, "कृषि और बिजली क्षेत्रों में सुधार किये गये हैं. इन्हें छोड़कर मैंने किसी भी क्षेत्र विशेष का नाम नहीं लिया है. इसे अब एमएसएमई पैकेज कहा जा रहा है, लेकिन इसमें एमएसएमई शामिल हैं और अन्य क्षेत्रों को भी शामिल रखने के प्रयास किये गये हैं. अत: आप जिन क्षेत्रों का नाम ले रहे हैं, इससे (पैकेज से) उन्हें भी लाभ मिलेगा.’’

    यह भी पढ़ें: 15 साल पुराने कार, बस, ट्रक हो जाएंगे कबाड़, सरकार जल्द ला सकती है ये पॉलिसी
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज