Facebook ने कहा- न्यूज़ इंडस्ट्री को अगले 3 साल में 1 अरब डॉलर का भुगतान करेंगे

गूगल ने पिछले साल अक्टूबर में ही ऐसा ऐलान किया था.

गूगल ने पिछले साल अक्टूबर में ही ऐसा ऐलान किया था.

Facebook ने ऐलान किया है कि वो न्यूज़ इंडस्ट्री को सपोर्ट करने के लिए अगले 3 साल में 1 अरब डॉलर खर्च करेगा. Google ने पिछले साल अक्टूबर में ही कुछ ऐसा ही ऐलान किया था. इन प्लेटफॉर्म्स की वजह से न्यूज़ कंपनियों के विज्ञापन रेवेन्यू पर असर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 8:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. Google के नक्शे-कदम पर चलते हुए सबसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook ने भी न्यूज़ को लेकर बड़ा ऐलान किया है. फेसबुक ने बुधवार को कहा कि वो 'न्यूज़ इंडस्ट्री को सपोर्ट' करने के लिए अगले 3 साल में 1 अरब डॉलर का निवेश करेगा. सोशल नेटवर्किंग क्षेत्र की यह दिग्गज कंपनी ऑस्ट्रेलियाई सरकार से एक ऐसे कानून को लेकर लड़ रही है, जिसमें प्रावधान है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स न्यूज़ संस्थाओं को भुगतान करें. फेसबुक ने 2018 के बाद से अब तक करीब 60 करोड़ डॉलर न्यूज़ के क्षेत्र में निवेश किया है. गूगल ने पिछले साल अक्टूबर महीने में ऐलान किया था कि वो अगले तीन साल में पब्लिशर्स को 1 अरब डॉलर का भुगतान करेगी.

न्यूज़ कंपनियां चाहती हैं कि गूगल और फेसबुक अपने प्लेटफॉर्म पर उनकी खबरें दिखाने के लिए भुगतान करें. यूरोप और ऑस्ट्रेलिया की सरकारों का विचार भी कुछ ऐसा ही है. दरअसल, अमेरिका में डिजिटल विज्ञापन का एक बड़ा हिस्सा इन्हीं दो कंपनियों के बीच बंट जाता है. इससे न्यूज़ पब्लिशर्स को भारी नुकसान होता है.

फेसबुक ने ऑस्ट्रेलिया में बैन कर दिया था न्यूज़ लिंक्स
फेसबुक ने मंगलवार को कहा कि वो ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ लिंक्स के शेयर करने से बैन को वापस हटा रहा है. फेसबुक ने यह फैसला तब लिया है, जब ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने पब्लिशर्स को पेमेंट देने संबंधी कानून में संशोधन करने का प्रस्ताव ​पेश किया है. ऑस्ट्रेलियाई सरकार के इस कानून के विरोध में फेसबुक द्वारा बैन के फैसले की आलोचना भी की गई. दरअसल, फेसबुक ने मौजूदा महामारी के दौरान अपने प्लेटफॉर्म से पब्लिक हेल्थ और इमरजेंसी सेवाओं को भी रोक दिया था.
यह भी पढ़ें: पीएम नरेंद्र मोदी का बड़ा ऐलान! बेकार पड़ी 100 सरकारी संपत्तियों को बेचकर 2.5 लाख करोड़ रुपये जुटाएगी सरकार



फेसबुक ने मंगलवार को ही यह भी कहा कि प्रस्तावित बदलाव से यह सहूलियत मिल सकेगी कि वो सपोर्ट करने के लिए पब्लिशर का चुनाव कर सकती है. बहुत जल्द ही ऑस्ट्रेलिया में ऐसे डील्स के बारे में फेसबुक की ओर से जानकारी भी दी जाएगी.

दुनियाभर में 500 पब्लिशर्स से गूगल की डील
गूगल तो पहले से ही ऑस्ट्रेलियाई मीडिया कं​पनियों से कॉन्टेन्ट लाइसेंसिंग डील्स को साइन कर रहा है. गूगल का दावा है कि वो ऐसे 50 पब्लिशर्स से डील साइन कर चुका है. वैश्विक स्तर पर यह संख्या 500 से ज्यादा है.

यह भी पढ़ें: Jet Airways के कर्मचारियों को बड़ी राहत, मिलेंगे 113 करोड़ रुपये

यूरोपीय देश भी लागू कर रहे रेगुलेशन
दूसरे देशों में भी ऐसे ही रेगुलेशन की तैयारी की जा रही है. माइक्रोसॉफ्ट यूरोपीय पब्लिशर्स के साथ काम कर रही है ताकि बड़े टेक प्लेटफॉर्म्स भी न्यूज़ के लिए भुगतान करें. यूरोपीय देश कॉपीराइट नियम का पालन करने पर विचार कर रहे हैं ताकि न्यूज़ कंपनियां और पब्लिशर पेमेंट्स को लेकर मोलभाव कर सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज