लाइव टीवी

Fact Check: क्या बेरोजगारी भत्ता के तहत सरकार दे रही 3500 रुपये? ये है सच्चाई

News18Hindi
Updated: April 3, 2020, 6:43 AM IST
Fact Check: क्या बेरोजगारी भत्ता के तहत सरकार दे रही 3500 रुपये? ये है सच्चाई
एक वायरस पोस्ट में सरकारी योजना के लिए आवेदन करने को कहा जा रहा है.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है​ कि प्रधानमंत्री बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत 3500 रुपये दिये जा रहे हैं. साथ ही ए​क लिंक भी दिया गया है, जिसके जरिए इस योजना में आवेदन करने को कहा जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की वजह से देशभर में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन चल रहा है. इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने कई ऐसे ऐलान किए हैं, जिससे मजूदर और गरीब वर्ग को राहत मिल सके. सरकार द्वारा इन ऐलान को लेकर सोशल मीडिया को लगातार कई तरह के पोस्ट वायरल हो रहे हैं. इन्हीं में से एक पोस्ट में यह भी दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत, बेरोजगार लोगों को 3,500 रुपये ट्रांसफर किए जा रहे हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस पोस्ट के साथ एक लिंक भी शेयर किया जा रहा है, जिसमें कहा गया है कि दिए गए लिंक पर क्लिक करने के बाद एक फॉर्म खुलेगा, जिसमें अपनी जरूरी जानकारी देनी होगी. आज हम इसी पोस्ट और लिंक के बारे पड़ताल करने के बाद पूरी जानकरी दे रहे हैं. इसमें हम आपको पूरी पोस्ट की सच्चाई बताएंगे.

यह भी पढ़ें: PM-किसान स्कीम: किसानों के बैंक अकाउंट में भेजे गए 5,125 करोड़ रुपये



क्या लिखा है पोस्ट में??



फॉरवर्ड हो रहे इस पोस्ट में कहा गया है कि इस योजना के तहत अपना रजिस्ट्रेशन कराएं. योजना के तहत युवा बेरोजागारों को 3500 रुपये प्रति माह दिया जाएगा. एप्लीकेशन का आवेदन निशुल्क, योग्यता दसवीं पास और आयु 18 से 40 निर्धारित होना बताया गया है.



एप्लीकेशन की अंतिम तिथि 5 अप्रैल 2020 बताई गई है. पंजीकरण के लिए http://bit.ly/pradhanmantrI-berojgar-bhatta-yojnaa लिंक पर क्लिक करने को कहा गया है. इस पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर भी है. जब हमने इस लिंक पर क्लिक किया तो यह Error पेज पर खुला. इस पेज पर इंग्लिश में लिखा गया है कि जिस पेज के लिए आपने रिक्वेस्ट किया है वो उसमें तकनीकी प्रॉब्लम है. इस पेज पर​ नीचे की तरफ एक और छोटा सा लिंक दिया गया है, जिसके नीचे लिखा गया है कि आप अपने रिस्क पर इस लिंक को क्लिक करें.

यह भी पढ़ें: कंपनियों का सरकार से सवाल सैलरी देने के पैसे कहां से लाएं, जब ठप पड़ा है काम

क्या है सच्चाई?
दरअसल प्रधानमंत्री बेरोजगार योजना का लिंक https://www.hubbyhubby.life/ नाम की वेबसाइट का छिपा हुआ लिंक है. अमतौर पर मूल वेबसाइट छिपाने या लिंक को छोटा करने के लिए बिटली नाम का इस्तेमाल किया जाता है. इस पोस्ट के लिंक में प्रधानमंत्री बेरोजगार भत्ता येाजना के नाम का इस्तेमाल किया गया है. हमारी पड़ताल में पता चला कि यह पोस्ट और इसमें दिया गया लिंक पूरी तरह से फर्जी है.

खतरे में पड़ सकती है आपकी जानकारी
कई बार कुछ कंपनियां अपनी वेबसाइट के जरिए रेवेन्यू जेनरेशन के लिए ऐसे हथकंडे अपनाती है. ऐसा दो तरीकों से ​किया जाता है. पहला तो अपनी वेबसाइट पर क्लिक बढ़ाकर. जिस वेबसाइट पर जितनीा ज्यादा क्लिक, उस वेबसाइट पर विज्ञापन की कीमत में उतना इजाफा होता है. वहीं, दूसरा तरीका साइबर अपराध की श्रेणी में आता है. इसमें कंपनी आपके मोबाइल की सारी जानकारी कलेक्ट कर बिजनेस प्रमोशन कंपनियों को बेच देती है. कंपनियां इन डेटा और जानकारी का इस्तेमाल बाजार और उपभोक्ताओं के प्रसार में करती हैं.

इस तरह के फ्रॉड से आप कैसे बच सकते हैं?
साइबर एक्सपर्ट्स बताते हैं कि कोई भी URL जो http:// से शुरू होता है असुरक्षित है. इसे क्लिक करने पर आपके सिस्टम या मोबाइल पर पड़ी सूचना लीक होने का खतरा रहता है. ऐसे में बेहतर होगा कि उन्हीं वेबसाइट को क्लिक करें जो https:// से शुरू होती हैं. यदि किसी बैंक, वित्तीय संस्थान आदि से ईमेल के जरिए कोई लिंक भेजा जाता है तो उसे ओपन नहीं करें बल्कि उस संस्थान की वेबसाइट पर जाकर संबंधित टैब क्लिक कर ही जानकारी प्राप्त करें.

यह भी पढ़ें: इस बैंक ने ग्राहकों को दिया तोहफा! EMI के काटे गए पैसे बैंक कर रहा है वापस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 2, 2020, 10:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading