होम /न्यूज /व्यवसाय /फैमिली मैन- राकेश झुनझुनवाला, जानिए कितना बड़ा है बिग बुल का परिवार, कौन था उनके लिए सबसे जरूरी

फैमिली मैन- राकेश झुनझुनवाला, जानिए कितना बड़ा है बिग बुल का परिवार, कौन था उनके लिए सबसे जरूरी

राकेश झुनझुनवाला की बेटी का जन्म 2004 में हुआ था.

राकेश झुनझुनवाला की बेटी का जन्म 2004 में हुआ था.

राकेश झुनझुनवाला को अपने परिवार से काफी लगाव था. उनकी फैमिली में उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला, बेटी निष्ठा झुनझुनवाला और ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

राकेश और रेखा झुनझुनवाला की 1 बेटी व 2 बेटे हैं.
बेटी निष्ठा को राकेश झुनझुनवाला सबसे ज्यादा मानते थे.
राकेश झुनझुनवाला के एक भाई और 2 बहने भी हैं.

नई दिल्ली. राकेश झुनझुनवाला ने एक इंटरव्यू में कहा था कि दुनिया में कोई इंसान नहीं जो उनके लिए उनके बच्चों से ज्यादा जरूरी हो और ऐसी कोई महिला नहीं जिसे वह अपनी पत्नी रेखा झुनझुनवाला से ज्यादा प्यार करते हैं. राकेश झुनझुनवाला का जन्म 1960 में एक इनकम टैक्स ऑफिसर राधेश्यामजी झुनझुनवाला के घर हुआ. उनकी मां उर्मिला झुनझुनवाला एक गृहिणी थीं.

राकेश झुनझुनवाला की 1987 में रेखा (झुनझुनवाला) से शादी हुई. शादी के कई साल बाद तक बच्चे नहीं होने के कारण उन्होंने आईवीएफ का सहारा लिया और 30 जून 2004 को उनकी बेटी निष्ठा झुनझुनवाला का जन्म हुआ. राकेश झुनझुनवाला अपनी बेटी को सबसे ज्यादा मानते थे और कहते थे कि वह उनकी राजकुमारी है. इसके बाद 2009 में उनके घर 2 जुड़वा बच्चों आर्यमन और आर्यवीर का जन्म हुआ. राकेश झुनझुनवाला के एक भाई और 2 बहनें हैं. उनके भाई का नाम राजेश झुनझुनवाला और बहनों के नाम सुधा गुप्ता व नीना सांगानेरिया है.

ये भी पढ़ें- RARE Enterprises : झुनझुनवाला ने क्यों रखा था अपनी फर्म का नाम RARE, क्या है इसका मतलब

फैमिली मैन राकेश झुनझुनवाला
राकेश झुनझुनवाला के भाई राजेश झुनझुनवाला बताते हैं कि राकेश ने हमेशा खुद से पहले परिवार को प्राथमिकता थी. राजेश झुनझुनवाला के अनुसार, जब उनके घर में पहली बार एसी लगे तो सबसे पहले मां और उनके कमरे में लगाए गए उसके बाद राकेश के कमरे में एसी लगाया गया. वहीं, राकेश झुनझुनवाला के गुरु राधाकिशन दमानी भी कहते हैं कि उन्हें राकेश से सीखने को मिली कि दुनिया में मां-बाप से बढ़कर कुछ नहीं है.

62 वर्ष की उम्र में हुआ निधन
राकेश झुनझुनवाला का रविवार सुबह 62 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. CNN News18 के मुताबिक राकेश झुनझुनवाला कई स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित थे और कुछ सप्ताह पहले उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी. वह आखिरी बार अकासा एयर के लॉन्च पर देखे गए थे. स्वास्थ्य बिगड़ने पर झुनझुनवाला के परिजन उन्हें रविवार सुबह अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां उन्होंने अंतिम सांसें लीं. मिडास टच वाले निवेशक को भारत का वॉरेन बफेट कहा जाता था.

5,000 रुपये से शुरू किया था निवेश का सफर
राकेश झुनझुनवाला जब कॉलेज में थे तभी उन्होंने शेयर बाजार में अपना भाग्य आजमाना शुरू कर दिया था. उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया में दाखिला लिया, लेकिन स्नातक होने के बाद दलाल स्ट्रीट में पहली बार गोता लगाने का फैसला किया. झुनझुनवाला ने 1985 में 5,000 रुपये का पूंजी में निवेश किया था. वह पूंजी बढ़कर 46 हजार करोड़ रुपये हो गई है. अपने पिता को दोस्तों के साथ शेयर मार्केट को लेकर चर्चा करते हुए सुनने के बाद, राकेश झुनझुनवाला को इसमें दिलचस्पी हुई थी.

Tags: Business news, Business news in hindi, Rakesh Jhunjhunwala, Stock market

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें